scriptMaharashtra Crop destroyed due to rain farmer gave his life 5 farmers committed suicide in 6 days in Nagpur | Farmers Suicide: बारिश से फसल हुई तबाह, तो किसान ने दे दी जान, नागपुर में 6 दिन में 5 अन्नदाताओं ने की आत्महत्या | Patrika News

Farmers Suicide: बारिश से फसल हुई तबाह, तो किसान ने दे दी जान, नागपुर में 6 दिन में 5 अन्नदाताओं ने की आत्महत्या

Maharashtra Farmers Suicide: हाल ही में हुई बारिश के कारण फसल को हुए नुकसान से व्यथित होकर 60 वर्षीय कर्ज में डूबे किसान ने मंगलवार को आत्महत्या कर ली।

मुंबई

Published: September 14, 2022 07:05:35 pm

Farmers Suicide in Nagpur: सरकार की तमाम योजनाओं के बावजूद महाराष्ट्र के कई जिलों में अनेक किसानों की हालत बेहद दयनीय बनी हुई है. मूसलाधार बारिश से नागपुर जिले के किसानों (Nagpur Farmers) को भी भारी नुकसान हुआ है। पिछले छह दिनों में यहां कर्ज में डूबे पांच किसानों ने कथित तौर पर आत्महत्या (Suicide) कर ली है।
Maharashtra Nagpur Farmer Sucide
महाराष्ट्र के नागपुर में किसान ने आत्महत्या की
नागपुर के जलालखेड़ा पुलिस (Jalalkheda Police) के एक अधिकारी ने बताया कि हाल ही में हुई बारिश के कारण फसल को हुए नुकसान से व्यथित होकर 60 वर्षीय कर्ज में डूबे किसान ने मंगलवार को आत्महत्या कर ली। मृतक किसान नरखेड़ तहसील (Narkhed Tehsil) के पिंपलदार गांव (Pimpaldar Village) में रहता था।
यह भी पढ़ें

Maharashtra: बड़ी खबर! महाराष्ट्र में लागू होगी 'मुख्यमंत्री किसान योजना', लाखों अन्नदाताओं को ऐसे मिलेगा फायदा

मिली जानकारी के मुताबिक, मृतक किसान की पहचान राजीव बाबूराव जुडपे (60) के तौर पर हुई है. उनके पास ढाई एकड़ जमीन थी। उन्होंने स्टेट बैंक ऑफ इंडिया से कर्ज लिया था। पुलिस ने कहा, "उनकी जमीन इतनी उपजाऊ नहीं थी कि कर्ज चुकाने के लिए पर्याप्त फसलें उगा सकें और बारिश ने उनकी मुश्किलों को और बढ़ा दिया।"
इसी तरह राज्य के केवल यवतमाल जिले (Yavatmal News) में साल के शुरू के नौ महीनों में 205 किसानों ने अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली है। यह चौंकाने वाला खुलासा खुद प्रशासन ने किया है। जिले में अगस्त में 48 किसानों ने आत्महत्या की, जबकि सितंबर के महीने में 12 किसानों ने (12 सितंबर तक) अलग-अलग वजहों से जान दे दी।
गौरतलब हो कि महाराष्ट्र के किसान मुख्य तौर पर कृषि कर्ज के चलते आत्महत्या करते है। बीते साल जनवरी से नवंबर 2021 तक 11 महीने की अवधि में 2,498 किसानों ने अपना जीवन समाप्त कर लिया। जबकि साल 2020 में 2,547 कर्ज में डूबे किसानों ने आत्महत्या की थी।

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

Ankita Bhandari Murder Case: मेरा बेटा सीधा-साधा है, बीजेपी से हटाए गए विनोद आर्य ने अपने बेटे का किया बचाव'आज भी TMC के 21 विधायक संपर्क में, बस इंतजार करिए', मिथुन चक्रवर्ती ने दोहराया अपना दावाखाना वहीं पड़ा था, डॉक्युमेंट्स और सामान भी वहीं थे , लेकिन... रिसॉर्ट के स्टाफ ने बताया कैसे गायब हुई अपने कमरे से अंकिताVideo: महबूबा मुफ्ती ने किया Pakistan PM का समर्थन, जम्मू कश्मीर के मुद्दे पर दिया ये बयान'PFI पर कार्रवाई करने में इतना वक्त क्यों लगा?', प्रियंका चतुर्वेदी ने कश्मीर को लेकर PM मोदी पर साधा निशाना2 खिलाड़ी जिनका करियर ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बीच सीरीज में हुआ खत्म, रोहित शर्मा नहीं देंगे मौका!चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग हुए हाउस अरेस्ट! बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी के Tweet से मचा हड़कंपयुवाओं को लश्कर-ए-तैयबा और ISIS में शामिल होने को उकसा रहा था PFI, ग्लोबल फंडिंग के सबूत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.