मस्जिदों में जुमा की नमाज अदा न करने की अपील, जो नहीं मानेंगे, उन पर दर्ज होगा केस

कोरोना वायरस (Covid-19) का फैलाव रोकने के लिए सरकार (Maharashtra) ने पूरे राज्य को लॉक डाउन किया है। साथ ही भीड़भाड़ पर रोक लगाने के लिए राज्य में कफ्र्यू लागू है। धर्म स्थल श्रद्धालुओं के लिए बंद हैं। इसी कड़ी में मस्जिदों में केवल मौलवियों को प्रवेश की इजाजत दी गई है।

 

भिवंडी. पुलिस उपायुक्त (DCP) राजकुमार शिंदे ने शुक्रवार से 14 अप्रैल तक मस्जिद (Mosques) में जुमा की नमाज अदा न करने की ्पील की है। डीसीपी ने चेताया है कि जो भी लोग आदेश का पालन नहीं करेंगे, उनके खिलाफ एफआईआर (FIR) दर्ज की जाएगी। पुलिस उपायुक्त ने एक ऑडियो क्लिप (Audio Clip) जारी कर जन स्वास्थ्य के मद्देनजर कोरोना वायरस के फैलाव को रोकने के लिए मुस्लिम समुदाय से सावधानी बरतने का अनुरोध किया है। डीसीपी का कहना है कि अपने घरों में ही इबादत करें।

उल्लेखनीय है कि मुस्लिम बहुल शहर होने के कारण भिवंडी (Bhiwandi) में शुक्रवार को बड़ी संख्या में मुस्लिम समुदाय के लोग मस्जिदों में जुमा की नमाज अदा करते हैं। पुलिस को इसी बात की चिंता है कि भीड़ जुटा तो कोरोना तेजी से फैल सकता है। इसीलिए डीसीपी शिंदे चाहते हैं कि लोग अपने घरों में ही जुमे की नमाज अदा करें। शिंदे ने उम्मीद जताई कि हालात को समझते हुए भिवंडी के लोग सरकार के लॉक डाउन का समर्थन करेंगे और कफ्र्यू से जुड़े नियमों कौ पालन करेंगे।

COVID-19
Show More
Basant Mourya Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned