scriptMaharashtra Political: not easy for Shinde to stake claim on Shiv Sena | Maharashtra Political Crisis: एकनाथ शिंदे गुट के लिए शिवसेना पर दावा पेश करना आसान नहीं! यहां जानें EC का नियम | Patrika News

Maharashtra Political Crisis: एकनाथ शिंदे गुट के लिए शिवसेना पर दावा पेश करना आसान नहीं! यहां जानें EC का नियम

महाराष्ट्र में राजनीति हर रोज बदल रही है। वहीं, गुवाहाटी के होटल में शिंदे गुट की बैठक शुरू हो चुकी है। इस बैठक में एकनाथ शिंदे गुट आगे की रणनीतियों और कानूनी पहलुओं पर बातचीत कर रहे है। सूत्रों के मुताबिक, आज ही शिंदे गुट एक और अहम बैठक कर सकती है।

मुंबई

Published: June 26, 2022 02:11:23 pm

महाराष्ट्र में पिछले कुछ दिनों से हाईवोल्टेज सियासी ड्रामा जारी हैं। शिवसैनिक कार्यकर्त्ता मुंबई, नवी मुंबई और उल्हासनगर जैसे शहरों में बागी विधायक एकनाथ शिंदे के विरोध में सामने आए हैं। वहीं, एकनाथ शिंदे दावा कर रहे हैं कि ‘असली’ शिवसेना उनकी है। फिलहाल एकनाथ शिंदे के पास शिवसेना के सबसे ज्यादा विधायक हैं जो गुवाहाटी में एक होटल में रुके हुए हैं। लेकिन शिवसेना पर कब्जा करना शिंदे के लिए इतना आसान नहीं है।
eknath_shinde.jpg
बागी विधायक एकनाथ शिंदे भले ही शिवसेना के ज्यादातर विधायकों के समर्थन का दावा कर रहे हैं लेकिन शिवसेना पर हक जमाना और चुनाव चिन्ह को हथियाना इतना आसान नहीं है। इसकी सबसे बड़ी वजह है चुनाव आयोग के नियम और कानून। किसी भी पार्टी को मान्यता देना और उससे जुड़े चुनाव चिन्ह को आवंटित करना ये सब चुनाव आयोग के हाथ में ही है।
यह भी पढ़ें

Maharashtra Political Crisis: गुवाहाटी से ही रणनीति बनाने में जुटे बागी विधायक, दिल्ली पहुंच सकते हैं बीजेपी नेता देवेंद्र फडणवीस

चुनाव आयोग के नियम:-

किसी भी राजनीतिक पार्टी को मान्यता देना और चुनाव चिन्ह को आवंटित करने का काम इलेक्शन कमिशन साल 1968 के चुनाव चिन्ह (आरक्षण और आवंटन) के आदेश के तहत करता है। जब भी किसी दल में विधायिका के बाहर विभाजन का मुद्दा उठता है तो ऐसे में 1968 के सिंबल ऑर्डर के पैरा 15 का अनुच्छेद लागू हो जाता है। इस अनुच्छेद के अनुसार, जब इलेक्शन कमिशन संतुष्ट हो जाए कि किसी पार्टी में विरोधी गुट या समूह हैं, जो दावा कर रहे हों कि ये पार्टी उनकी है तब इलेक्शन कमिशन मामले से जुड़े सबूतों को ध्यान में रखते हुए सुनवाई करेगा। इसके बाद ही इलेक्शन कमिशन तय करेगा कि कौनसी पार्टी मान्यता प्राप्त राजनीतिक दल है। अगर इलेक्शन कमिशन चाहे तो दो पार्टियों के बीच की लड़ाई में किसी को भी मान्यता न दे।
महाराष्ट्र में शिवसेना के मामले में शिंदे गुट 41 विधायकों के समर्थन का दावा पेश कर रहा है। शिवसेना के चुनाव चिह्न को लेने के लिए शिंदे गुट इलेक्शन कमीशन का दरवाजा खटखटा सकता हैं। बता दें कि गुवाहाटी के होटल में मौजूद बागी विधायकों की बैठक जारी है।
बता दें कि शनिवार को शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे की अध्यक्षता में राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक हुई। इस बैठक में उद्धव ठाकरे समेत कई दिग्गज नेता भी शामिल थे। इस दौरान बैठक में कई बड़े प्रस्ताव पारित किए गए। राष्ट्रीय कार्यकारिणी में बागियों पर कठोर निर्णय लेने का प्रस्ताव पास किया है। इसके अलावा बागी विधायकों के परिवार के सदस्यों और करीबियों को शिवसेना के पदों से हटा दिया जाएगा। बागी विधायक एकनाथ शिंदे को पार्टी ने अपने पद से नहीं हटाया है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Bihar Mahagathbandhan Govt: नीतीश कुमार ने 8वीं बार ली बिहार के CM पद की शपथ, तेजस्वी यादव बने डिप्टी सीएमनाम लिए बिना PM मोदी पर नीतीश का हमला, बोले- '2014 वाले 2024 में रहेंगे तब न, विपक्ष में हमलोग आ गए हैं अब सब होगा'Bihar Political Crisis Live Updates: नीतीश कुमार ने 8वीं बार ली सीएम पद की शपथ, तेजस्वी बने डिप्टी CM, कैबिनेट विस्तार बाद मेंINS Vikrant Cheating Case: बीजेपी नेता किरीट सोमैया और उनके बेटे नील को मिली बेल, जानें क्या है आईएनएस विक्रांत चीटिंग मामलाAAP का BJP पर बड़ा आरोप- दिल्ली MCD में 6000 करोड़ रुपए का हुआ घोटाला, CBI जांच के लिए मनीष सिसोदिया ने उपराज्यपाल को लिखा पत्रMaharashtra: प्रियंका चतुर्वेदी की बड़ी भविष्यवाणी-गिर जाएगी शिंदे सरकार, फडणवीस पर भी साधा निशानाअदालत न देती दखल तो तेजस्विन शंकर नहीं जीत पाते ब्रॉन्ज मेडल, दिलचस्प है कॉमनवेल्थ गेम्स तक का सफरड्रग केस में फंसे अकाली नेता बिक्रम मजीठिया को बड़ी राहत , पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट से मिली जमानत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.