Mumbai Allert: महाराष्ट्र में 71 हजार रोगियों में संदिग्ध कैंसर के लक्षण

27 लाख ( 27 Lakh ) लोगों में उच्च रक्तचाप ( High Blood Pressure ) , 71 हजार रोगियों ( 71 Thousand Patients ) में संदिग्ध कैंसर ( Cancer ) के लक्षण, शहरी ( Urban ) समेत ग्रामीण ( Rural ) इलाकों में 7 करोड़ का सर्वेक्षण ( 7 Crore Survey ), कुष्ठ ( Leprosy ) और क्षय रोग उन्मूलन ( Tuberculosis Eradication ) कार्यक्रम के तहत सर्वे ( Survey )

By: Rohit Tiwari

Published: 10 Nov 2019, 02:42 PM IST

मुंबई. महाराष्ट्र में पहली बार गैर-संचारी रोगों के एक सर्वेक्षण से पता चला है कि लगभग 27 लाख लोगों में उच्च रक्तचाप, मधुमेह और करीब 71 हजार रोगियों में संदिग्ध कैंसर के लक्षण हैं। इस सर्वेक्षण में नए सात हजार क्षय रोगियों और चार हजार 700 कुष्ठ रोगियों का पता चला है। सितंबर के महीने में ग्रामीण ( 100 प्रतिशत) और शहरी (40 प्रतिशत) इलाकों में करीब 7 करोड़ नागरिकों का सर्वेक्षण किया गया था। कुष्ठ और क्षय रोग उन्मूलन कार्यक्रम के तहत पिछले कुछ वर्षों में इन रोगों का समय पर निदान और उपचार करने के लिए एक शोध अभियान शुरू किया गया है।

अब कुष्ठ एवं टीबी रोग से मिल सकेगी राहत, जिपं सीईओ के इस कदम से मिलेंगे स्वास्थ्य संबंधी लाभ

कुष्ठ निवारण दिवसः देश का पहला अस्पताल जापान ने आगरा में बनवाया

Mumbai Allert: महाराष्ट्र में 71 हजार रोगियों में संदिग्ध कैंसर के लक्षण

8 करोड़ 56 लाख नागरिकों की जांच...

विदित हो कि इस साल यह अभियान सितंबर में भी लागू किया गया था, जिसमें राज्य के ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों के लगभग 8 करोड़ 56 लाख नागरिकों की जांच की गई। वास्तव में इनमें से केवल 85 प्रतिशत नागरिकों की जांच चल रही है। कुष्ठ, तपेदिक के अलावा, इस साल पहली बार 30 वर्ष की आयु में 2 लाख 65 हजार व्यक्तियों का कुल वजन और पेट में अल्सर, शराब, सिगरेट आदि की लत, परिवार में गैर-संचारी रोगों की आनुवंशिकता देखी गई। इससे उच्च रक्तचाप और मधुमेह के लक्षणों वाले 27 लाख 28 हजार व्यक्तियों को आगे की जांच के लिए भेजा गया है। इस सर्वेक्षण में स्तन, गर्भाशय और मुंह के कैंसर की भी जांच की गई। इसमें 71 हजार 207 लोगों में कैंसर का प्रचलन पाया गया है।

कुष्ठ उन्मूलन दिवस : जानें- क्या है कुष्ठ रोग, लक्षण उपचार और कारण

कुष्ठ रोग उन्मूलन के लिए ली शपथ

 

जागरूकता की कमी...

कुष्ठ और क्षयरोग का प्रसार अभी भी समुदाय में प्रचलित है। इसके अलावा कुष्ठ रोग के बारे में पर्याप्त जागरूकता नहीं है। संदिग्ध मरीजों की जांच अभी भी जारी है। इसलिए कुष्ठ और क्षयरोग के साथ नए रोगियों की संख्या बढ़ने की संभावना है। वहीं डॉ. जोगेवार की माने तो इसके माध्यम से लोगों में इन बीमारियों के बारे में जागरूकता बढ़ाना भी महत्वपूर्ण है। ब्लॉगर द्वारा संचालित।

लाइलाज नहीं है कुष्ठ, जानें इस रोग के बारें में

कुष्ठ रोगियों के लिए काम की खबर: शुरू हुआ स्पर्श कुष्ठ जागरूक अभियान

4 हजार 700 नए रोगियों का निदान...

लगभग दो लाख संदिग्ध कुष्ठ रोगी पाए गए हैं, जिनमे से 1.5 लाख से अधिक रोगियों की जांच की गई है। इनमें से 4 हजार 700 नए रोगियों में कुष्ठ रोग पाया गया है। इन रोगियों में 40 प्रतिशत रोगी मल्टी-बैक्टीरियल हैं और संक्रमण के जोखिम में हैं। इस सर्वेक्षण में आशा सेवक समेत 70 हजार 768 समूह काम कर रहे थे।

कुष्ठ रोग के उपचार में देरी से हो सकती है अपंगता

कुष्ठ रोगियों से भेदभाव नहीं सहानुभूति और सेवा भाव रखें

Mumbai Allert: महाराष्ट्र में 71 हजार रोगियों में संदिग्ध कैंसर के लक्षण

क्षय रोग के 7 हजार नए रोगी...

1 लाख 47 हजार संदिग्ध क्षय रोग रोगी पाए गए हैं, और परीक्षणों में 7 हजार नए क्षय रोग के रोगी पाए गए हैं। हर साल लगभग एक करोड़ नागरिकों का सर्वेक्षण किया जाता है, जिसमें सामान्य रूप से क्षय रोग को रोकने की संभावना होती है। लेकिन इस साल पहली बार ग्रामीण क्षेत्रों में 100 प्रतिशत और शहरी क्षेत्रों में 30 प्रतिशत लोगों में क्षय रोग का निदान किया गया। वहीं राज्य के क्षय रोग प्रमुख डॉ. पद्मजा जोगेवार ने बताया कि इसके कारण बड़ी संख्या में क्षय रोग के रोगी पाए गए हैं और उन पर चिकित्सा उपचार भी शुरू किया गया है।

विश्व कुष्ठ रोग जागरूकता कार्यक्रम

OMG: महाराष्ट्र में हैं 9000 से ज्यादा टीबी पीड़ित

Show More
Rohit Tiwari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned