mumbai : मनपा की लापरवाही से नाली निगल गई एक मासूम

Binod Pandey | Updated: 11 Jul 2019, 06:25:29 PM (IST) Mumbai, Mumbai, Maharashtra, India

  • दिव्यांश को खोजने मे मनपा फेल
  • गटर मे गिरे दिव्यांश को खोजने मे मनपा प्रशासन गुरुवार रात तक लगी रही, लेकिन उसे खोजने मे सफल नही रही

मुंबई. गोरेगांव (पूर्व), ईंटभट्टी के अंबेडकर नगर चौक पर गटर मे गिरे दिव्यांश को खोजने मे मनपा प्रशासन गुरुवार रात तक लगी रही, लेकिन उसे खोजने मे सफल नही रही। खबर लिखे जाने तक दिव्यांश का कहीं पता नही चल सका था। घटना बुधवार रात 9 बजकर 46 मिनट की है। 10.15 बजे पुलिस कंट्रोल को कॉल मिला कि, एक बच्चा खुले नाले में गिरकर पानी में बह गया। हादसे की जानकारी मिलते ही दिंडोशी पुलिस और मनपा की टीमें मौके पर पहुंच गई, उन्होंने बच्चे की तलाश में सर्च ऑपरेशन चलाया। बच्चे के नाले मे गिरने की पूरी घटना वहां लगे सीसीटीवी कैमरे मे कैद हो गई। सीसीटीवी मे दिखाई दे रहा है कि, दिव्यांश अपने घर से खेलता हुआ सड़क पर आ जाता है, लेकिन जैसे ही वो वापस जाने की लिए मुढ़ता है, उसका पैर फिसल जाता है और वो खुले नाले में गिर जाता है। दिव्यांश पानी के तेज बहाव में बह गया, जिस वक्त ये हादसा हुआ उस वक्त वहां कोई मौजूद नहीं था। घटना के बाद दिव्यांश की मां उसे ढूंढते हुए आई, लेकिन उसके बेटे कुछ पता नहीं चला, जब पास की मस्जिद मे लगे सीसीटीवी को देखा गया तो दिव्यांश खुले नाले मे गिरता हुआ दिखाई दिया, इसे देख सब के होश उड़ गए। दिव्यांश के मां-बाप का रो-रो कर बुरा हाल है। वहीं पुलिस और बीएमसी की टीमें बच्चे की तलाश में जुटी हुई हैं। घटना के तुरंत बाद ही लोगों ने इसकी जानकारी पुलिस और फायर ब्रिगेड को दे दी। रात भर आल-पास के सभी नाले को खोलकर दिव्यांसु की तलाश की गई, लेकिन दिव्यांशु का अबतक कुछ पता नहीं चल पाया है! स्थानीय लोगों ने आरोप लगाया है कि इस घटना के लिए पूरी तरह बीएमसी जिम्मेदार है। अगर बीएमसी खुले गटर को ढक कर रखती तो इतना बड़ा हादसा नहीं होता, फिलहाल तलाशी अभियान मे मनपा तथा अग्निशमन दल के कर्मचारी उस नाले से जुड़े ओशिवरा तक के नालों मे बच्चे को ढुंडने का काम कर रहे है। परिमंडल 12 के पुलिस उपायुक्त विक्रम सिंग राठोड़ ने बताया कि, अभी तक बच्चे की कोई जानकारी नही मिल पाई है।

बच्चे के पिता ने कहा बेटा नहीं मिला तो आत्महत्या कर लेंगे दिव्यांश के पिता सूरज सिंह का कहना है कि, मेरा बेटा नहीं मिला तो आत्महत्या कर लूंगा। इसके सिर्फ और सिर्फ मनपा प्रशासन जिम्मेदार होगा। बिलखते हुये पत्रिका को सूरज ने कहा कि, अगर हमारी जगह किसी मंत्री का बेटा होता तो पुलिस कब का खोज ली होती। उन्होने दिंडोशी पुलिस पर ज्यादती का आरोप भी लगाया। घटना के बाद पुलिस जबरन वैन मे बैठाकर पुलिस स्टेशन ले गई। जहां उनका कालर पकड़ कर प्रताड़ित किया गया।

जेसीबी से गटर की खुदाई
मनपा गुरुवार सुबह से ही जेसीबी मशीन से गटर की खुदाई कर रही है। वहीं पास मे बड़ा नाला है, जिसके उपर एक दुकान भी है। नाले की सफाई पर सालाना 30692 करोड़ का बजट खर्च करने वाली मनपा अगर उस खुले ***** पर एक ढक्कन लगा दिया होता तो आज दिव्यांश की जान नही जाती।

महापौर ने कहा दोषियों को बख्शा नही जायेगा

घटना स्थल पर पहुंचे महापौर विश्वनाथ महाडेश्वर ने कहा कि, इस मामले मे लापरवाही बरतने वाले किसी भी अधिकारी की बख्शा नही जायेगा। उन्होने ने दिव्यांश के परिवार की न्याय दिलाने का आश्वसन दिया है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned