Mumbai News :  महाराष्ट्र में कोरोनील की बिक्री पर रोक

बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि ने कोविड-19 बीमारी के इलाज के लिए कोरोनील दवा बनाई है। उसे आयुष मंत्रालय (Ayush Mantralay ) की ओर से मंजूरी नहीं मिली है। नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेस संस्थान से भी इसका परीक्षण ( Testing ) नहीं कराया गया है।

By: Binod Pandey

Updated: 26 Jun 2020, 04:26 PM IST

मुंबई. योगगुरु बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि निर्मित कोविड 19 महामारी पर काबू पाने के लिए बनाई गई दवाई कोरोनील और किट को महाराष्ट्र में बेचने पर पाबंदी ( Restriction ) लगा दी है। यदि महाराष्ट्र में उक्त दवाई और किट बेची गई तो बेचने वाले के खिलाफ पुलिस अपराधिक मामला दर्ज करेगी। यह घोषणा राज्य के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने गुरुवार को की।

Mumbai News :  महाराष्ट्र में कोरोनील की बिक्री पर रोक

न मंजूरी, न परीक्षण
देशमुख ने कहा कि बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि ने कोविड-19 बीमारी के इलाज के लिए कोरोनील दवा बनाई है। उसे आयुष मंत्रालय की ओर से मंजूरी नहीं मिली है। नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेस संस्थान से भी इसका परीक्षण नहीं कराया गया है । जब तक इस पर कोई अधिकृत रिपोर्ट नहीं आती तब तक कोरोनील दवा को बेचा जाना अपराध है। ऐसे में यदि यह दवाई राज्य के मेडिकल स्टोर और अन्य दुकानों पर बेची जाती है तो इसे नकली दवा मानकर कंपनी के मालिकों पर मजबूरन कार्रवाई करनी होगी।

Mumbai News :  महाराष्ट्र में कोरोनील की बिक्री पर रोक

कार्रवाई का निर्देश
बता दें। योग गुरु रामदेव बाबा के नेतृत्व में पतंजलि कंपनी ने कोरोना महामारी के 100 प्रतिशत इलाज का दावा करते हुए कोरोनिल दवा को लॉन्च किया है। इस दवा के आने के बाद बाजार में हलचल बढ़ गई है। केंद्र सरकार ने जहां इस पर पाबंदी लगा दी है वहीं राज्य सरकार ने भी इसे बेचने वालों पर पर सख्त कार्रवाई का निर्देश दिया है। बाबा रामदेव का दावा है कि यह दवा कोरोना को जड़ से मिटा देगी।

Show More
Binod Pandey
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned