Mumbai News : 36 मिनट के भीतर तय की 55 किमी दूरी, तो चुकाना होगा 1000 रुपए जुर्माना

  • एक्सप्रेस वे पर तेज रफ्तार गाडिय़ों पर अगस्त से सख्ती
  • कारों और हल्की गाडिय़ों के लिए 100 किमी प्रति घंटे और घाटों के लिए 50 किमी प्रति घंटे की अधिकतम गति सीमा निर्धारित की गई है।
  • दुर्घटना रोकने से जुड़ी पहल

By: Binod Pandey

Updated: 22 Jul 2020, 06:01 PM IST

पत्रिका न्यज नेटवर्क
पुणे. पुणे-मुंबई एक्सप्रेस-वे पर तेज रफ्तार वाहनों पर लगाम लगाने की तैयारी हो चुकी है। खालापुर और उर्से टोल प्लाजा के बीच 55 किमी की दूरी कम से कम 36 मिनट में पूरी होनी चाहिए। जो भी वाहन निर्धारित समय के भीतर यह दूरी तय करेंगे, उनके खिलाफ स्पीड लिमिट उल्लंघन की कार्रवाई की जाएगी। इसके लिए एक हजार रुपए का दंड वसूल किया जाएगा। इस पर पहली अगस्त से अमल होगा। हाई-वे सेफ्टी पेट्रोल (एचएसपी) के पुलिस अधीक्षक प्रीतम यावलकर ने कहा कि सभी वाहन चालकों को स्पीड लिमिट का पालन करना चाहिए।
केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्रालय की ओर से एक्सप्रेस-वे पर कारों और हल्की गाडिय़ों के लिए 100 किमी प्रति घंटे और घाटों के लिए 50 किमी प्रति घंटे की अधिकतम गति सीमा निर्धारित की गई है। यावलकर ने कहा, नियमानुसार खालापुर से उर्से टोल प्लाजा पहुंचने में 36 मिनट लगने चाहिए। हमने महाराष्ट्र राÓय सड़क विकास निगम (एमएसआरडीसी) के अधिकारियों की मदद से इस रूट पर दो टेस्ट किए हैं।

स्पीड लिमिट का पालन करें
उन्होंने कहा कि दिन में वाहनों की स्पीड की निगरानी, स्पीड गन की तैनाती और गाडिय़ों को रोकना आसान है। लेकिन, रात के समय यह खतरनाक है। क्योंकि स्पीड गन से जुड़ीं गाडिय़ों का कुछ हिस्सा ई-वे के अंतिम लेन में आता है। इस कारण दुर्घटनाएं होती हैं। वाहन चालकों को रात में ड्राइविंग के दौरान स्पीड लिमिट का पालन करना चाहिए।

स्पीड गन से लैस वाहन
उन्होंने बताया कि स्पीड गैन से लैस दो वाहन एचएसपी के पास हैं। इनमें से एक खंडाला में और दूसरी एक्सप्रेस-वे पर वडगांव में तैनात है। इनके जरिए दिन में एक्सप्रेस-वे पर तेज ड्राइविंग करने वालों को पकड़ा जा सकता है।

Show More
Binod Pandey
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned