Mumbai News : मुंबई एयरपोर्ट घोटाला : जीवीके ग्रुप के कई ठिकानों पर ईडी का छापा

जीवीके ग्रुप के चेयरमैन जी वेंकट कृष्णा (जीवीके) रेड्डी और उनके बेटे जीवी संजय रेड्डी सहित समूह के प्रमोटरों और उनके रिश्तेदारों के आधा दर्जन से अधिक ठिकानों पर ईडी ने तलाशी ली। रेड्डी पिता-पुत्र के खिलाफ सीबीआई ने जून में एफआईआर दर्ज की थी। जीवीके ग्रुप पर मुंबई एयरपोर्ट के डवलपमेंट में 705 करोड़ की हेराफेरी का आरोप है।

By: Binod Pandey

Published: 28 Jul 2020, 11:32 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
मुंबई. प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने मुंबई एयरपोर्ट के विकास में घोटाले को लेकर मंगलवार को जीवीके ग्रुप के मुंबई और हैदराबाद के ठिकानों पर छापा मारा। जीवीके ग्रुप के चेयरमैन जी वेंकट कृष्णा (जीवीके) रेड्डी और उनके बेटे जीवी संजय रेड्डी सहित समूह के प्रमोटरों और उनके रिश्तेदारों के आधा दर्जन से अधिक ठिकानों पर ईडी ने तलाशी ली। रेड्डी पिता-पुत्र के खिलाफ सीबीआई ने जून में एफआईआर दर्ज की थी। जीवीके ग्रुप पर मुंबई एयरपोर्ट के डवलपमेंट में 705 करोड़ की हेराफेरी का आरोप है।
विदित हो कि मुंबई एयरपोर्ट के विकास के लिए एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एएआई) और जीवीके एयरपोर्ट होल्डिंग्स ने मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट लि. (एमआईएएल) नाम से संयुक्त कंपनी बनाई है। इसमें 50.50 प्रतिशत शेयर जीवीके ग्रुप, 26 प्रतिशत एएआई और बाकी कुछ विदेशी कंपनियों के पास हैं।

नौ कंपनियों के नाम
सीबीआई की एफआईआर में एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया के कुछ अफसरों, मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (एमआईएएल), जीवीके एयरपोर्ट होल्डिंग्स लि. समेत 9 प्राइवेट कंपनियों के नाम हैं। सीबीआई ने पहले भी एमआईएएल और जीवीके रेड्डी के यहां तलाशी ली थी।

फर्जी कांट्रैक्ट से घोटाला
एफआईआर के मुताबिक, आरोपियों ने 2012-18 के बीच एयरपोर्ट के डवलपमेंट के नाम पर घोटाला किया। जीवीके ग्रुप ने एआईएएल के सरप्लस फंड में से 395 करोड़ रुपए अपनी दूसरी कंपनियों में लगाए। फर्जी कांट्रैक्ट दिखा कर 310 करोड़ रुपए की हेराफेरी की गई।

Show More
Binod Pandey
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned