mumbai politics: सेवन इलेवन क्लब के लिए काटे गए मैंग्रोव: आव्हाड

mumbai politics: सेवन इलेवन क्लब के लिए काटे गए मैंग्रोव: आव्हाड

Binod Pandey | Updated: 04 Jul 2019, 05:31:08 PM (IST) Mumbai, Maharashtra, India

  • मीरा भायंदर के भाजपा विधायक नरेन्द्र मेहता और उनके भाई पर अवैध तरीके से क्लब बनाने का आरोप
  • आरोप सिद्ध हुआ तो नहीं लड़ूंगा चुनाव: मेहता

 

मीरा भायंदर. मीरा भायंदर मनपा नियमों की धज्जियां उड़ा कर मीरा रोड में बन रहा आलीशान सेवन इलेवन क्लब का मुद्दा मंगलवार को विधानसभा में गूंजा। इसके चलते एक बार फिर भाजपा विधायक के भाई का यह क्लब सुर्खियों में है। सेवन इलेवन क्लब को लेकर राकांपा विधायक जीतेंद्र आव्हाड ने विधानसभा में कहा कि यह क्लब सीआरजेड की जमीन पर बनाया जा रहा है। इसके निर्माण के लिए मैंग्रोव को नष्ट किया गया है। आव्हाड ने क्लब की जांच कराने की मांग की। भाजपा विधायक नरेंद्र मेहता को घेरते हुए आव्हाड ने कहा कि इस क्लब को बनाने के लिए गैर-कानूनी तरीका अपनाया गया है।


विधान मंडल के मानसून सत्र के दौरान राकांपा के जयंत पाटील ने भी सेवन इलेवन क्लब का मुद्दा उठाते हुए सरकार को घेरा था और दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी। उल्लेखनीय है कि इस क्लब को लेकर मीरा रोड पुलिस स्टेशन में मनपा की ओर से मामला दर्ज कराया गया है। कानून के जानकारों की माने तो मामले की ठीक से जांच की गई तो विधायक के भाई सहित कई मनपा अधिकारी नप सकते हैं।


भाजपा विधायक मेहता ने जवाब में कहा कि उन पर और उनके परिवार पर लगाए गए सारे आरोप निराधार हैं। उन्होंने कहा कि क्या व्यापारी को विधायक नहीं बनना चाहिए। सबसे अधिक कर सेवन इलेवन भरता है। 500 से अधिक लोगों को क्लब में रोजगार मिला है। यदि मुझ पर लगे आरोप सिद्ध हुए तो मैं चुनाव नहीं लड़ूंगा। मेहता ने कहा कि बेबुनियाद आरोप लगाने वाले विधायकों को माफी मांगनी चाहिए। मेहता ने बताया कि क्लब की इजाजत आघाडी सरकार के दौरान दी गई है। आरोप लगाने से पहले मामले को समझना चाहिए, फिर आरोप लगाना चाहिए।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned