scriptराज्यसभा से विपक्ष ने किया वॉकआउट, शरद पवार बोले- संवैधानिक पद पर बैठे खरगे जी को इग्नोर किया गया | Opposition walkout from Rajya Sabha Sharad Pawar says Mallikarjun Kharge ignored | Patrika News
मुंबई

राज्यसभा से विपक्ष ने किया वॉकआउट, शरद पवार बोले- संवैधानिक पद पर बैठे खरगे जी को इग्नोर किया गया

Sharad Pawar : राज्यसभा में जब पीएम मोदी राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर बोल रहे थे तो विपक्षी सांसदों ने विरोध किया, नारे लगाए और वॉकआउट किया। विपक्षी सांसदों का कहना है कि विपक्ष के नेता को बोलने की अनुमति नहीं दी गई।

मुंबईJul 03, 2024 / 04:44 pm

Dinesh Dubey

Sharad Pawar Rajya Sabha
Rajya Sabha Update : लोकसभा के बाद बुधवार को राज्यसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण के धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा का जवाब देते समय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर विपक्ष बिफर गया। पीएम मोदी के भाषण के दौरान ही कांग्रेस समेत विपक्षी दलों ने सदन से वॉकआउट किया। विपक्ष का आरोप है कि सदन में उनकी आवाज को नजरंदाज किया जा रहा है।
राज्यसभा से विपक्ष के वॉकआउट पर एनसीपी (SCP) प्रमुख शरद पवार ने कहा, ”वह (मल्लिकार्जुन खरगे) एक संवैधानिक पद पर हैं। चाहे प्रधानमंत्री हों या सदन के सभापति, उनका (खरगे) सम्मान करना उनकी जिम्मेदारी है, लेकिन आज यह सब नजरअंदाज कर दिया गया. पूरा विपक्ष उनके साथ है और इसलिए हम सदन से बाहर चले गए।”

राज्यसभा में क्या हुआ था?

प्रधानमंत्री मोदी आज जब चर्चा का जवाब दे रहे थे तो पहले विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खरगे ने सभापति जगदीप धनखड़ से बोलने की अनुमति मांगी। विपक्ष का दावा है कि कई बार सभापति से अनुमति मांगी गई, लेकिन उन्होंने बोलने नहीं दिया। इसके चलते विपक्षी सांसद नारेबाजी करने लगे। उनकी नारेबाजी के बीच भी जब पीएम मोदी ने अपना भाषण जारी रखा तब खरगे सहित कांग्रेस व विपक्ष के सांसद सदन से चले गये।
संसद भवन परिसर में पत्रकारों से बातचीत करते समय कांग्रेस नेता और राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खरगे ने कहा, “हम इसलिए बाहर आ गए क्योंकि प्रधानमंत्री राष्ट्रपति के अभिभाषण पर सदन को संबोधित कर रहे थे और उन्होंने सदन को कुछ गलत बातें बताईं। झूठ बोलना और सच्चाई से परे बातें कहना उनकी आदत है। मैं सिर्फ इतना कहना चाहता था कि संविधान आपने नहीं बनाया, संविधान के आप लोग विरोधी थे। मैं यह बात सदन में उनके सामने रखना चाहता था।“
राज्यसभा से विपक्ष के वॉकआउट पर पीएम मोदी ने कहा, “देश देख रहा है कि झूठ फैलाने वालों में सच सुनने की ताकत नहीं है। जिनमें सत्य का सामना करने का साहस नहीं है, उनमें इन चर्चाओं में उठे प्रश्नों के उत्तर सुनने का साहस नहीं है। वे उच्च सदन का, उच्च सदन की गौरवशाली परंपरा का अपमान कर रहे हैं।”
वहीँ, प्रधानमंत्री के बोलने के दौरान विपक्षी सांसदों के राज्यसभा से बाहर चले जाने की राज्यसभा के सभापति और उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने कड़ी निंदा की. उन्होंने कहा कि आज उन्होंने भारत के संविधान को पीठ दिखाई है। उन्होंने जिस संविधान की शपथ ली थी उसका अपमान किया है। भारत के संविधान का इससे बड़ा अपमान नहीं हो सकता। मैं उनके आचरण की निंदा करता हूं। बाद में प्रधानमंत्री मोदी के भाषण के बाद राज्यसभा को अनिश्चित काल के लिए स्थगित कर दिया गया।

Hindi News/ Mumbai / राज्यसभा से विपक्ष ने किया वॉकआउट, शरद पवार बोले- संवैधानिक पद पर बैठे खरगे जी को इग्नोर किया गया

ट्रेंडिंग वीडियो