चर्चगेट का स्टक्चरल ऑडिट करने का आदेश

चर्चगेट का स्टक्चरल ऑडिट करने का आदेश

Arun lal Yadav | Updated: 14 Jun 2019, 12:40:48 PM (IST) Mumbai, Mumbai, Maharashtra, India

लापरवाही से गई व्यक्ति की जान! डीआरएम ने साधी चुप्पी
ठीक से नहीं हुआ मेंटेनेंस!
पत्रिका न्यूज नेटवर्क
मुम्बई. चर्चगेट स्टेशन के बाहर लगे अलमूमियम के सीट गिरने से हुए हादसे में हुई एक व्यक्ति की मौत के मामले में वेस्टर्न के वरिष्ठ अधिकारियों ने चुप्पी साध ली है। खाना पूर्ती के लिए रेलवे ने चर्चगेट स्टेशन का स्ट्रक्चरल ऑडिट का कार्य एक निजी कंपनी को सौपा गया है, इसके साथ ही जो सीट गिरी हैं, उनके आसपास की सीट को भी हटाया गया है। बता दें कि इस ढाचें को 2012 में बनाया गया था, इसके बाद 2017 में इस पर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पेंटिंग की गई थी। रेल सूत्रों की माने तो इस ढांचे का समुचित मेंटेंनेंस नहीं किया गया, इसके चलते यह हादसा हुआ है। अब जब मामला गंभीर हो गया है, तो रेलवे के वरिष्ठ अधिकारी जांच समित बैठाकर मामले को रफा-दफा करने में जुटे हुए हैं। एक व्यक्ति की जान जाने के मामले में भी डीआरएम सुनील कुमार कुछ बोलने बच रहे हैं।

गौरतलब है कि बुधवार को चर्चगेट रेलवे स्टेशन पर हुए हादसे में एक वरिष्ठ नागररिक को अपनी जान गंवानी पड़ी थी। इसके बाद वेस्टर्न रेलवे के जीएम एके गुप्ता ने जे ग्रेड के अधिकारियों की एक समिति बनाक र जांच के आदेश दिए हैं। इसके साथ ही रेलवे ने मृतक के परिवार को पांच लाख रूपए देने की घोषणा भी की गई। पर यहां पर कई सवाल उठते हैं, वेस्टर्न के सबसे महत्वपूर्ण स्टेशनों में से एक चर्चगेट के मेंटेनेस में इतनी लापरवाही कैसे बरती गई? इस तरह के सवालों के जवाब देने के लिए वेस्टर्न रेलवे के डीआरएम सुनील कुमार तैयार नहीं हैं।
डीआरएम को लेनी चाहिए जिम्मेदारी
रेल यात्री परिषद के अध्यक्ष सुभाष गुप्ता कहते हैं कि वेस्टर्न रेलवे से सबसे बड़े स्टेशन पर होने वाले इस हादसे की जिम्मेदारी डीआरएम संजय कुमार को लेनी चाहिए। क्योंकि जब अच्छे कामों में डीआरएम की पीठ ठोकी जाती है, तब जब एक व्यक्ति की जान गई तो इसकी जिम्मेदारी उन्हें लेनी ही चाहिए। वहीं रेलवे सलाहकार समिति के सदस्य कैलाश गौतम कहते हैं कि इस मामले में इंजीनियर के अधिकारी जिम्मेदार हैं। वे डीआरएम को गलत जानकारी देते हैं, जिसे बिना जांचे डीआएम सही मान लेते हैं।
इस बारे में पत्रिका ने डीआरएम संजय कुमार से को मैसेज किया, फोन पर बात करने के कोशिश की उनसे मिलने का प्रयास किया, पर उन्होंने इस मामले में चुप्पी साध ली।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned