जाली पेपर से टिकट कंफर्म कराने वाला रेलवे कर्मचारी गिरफ्तार

जाली पेपर से टिकट कंफर्म कराने वाला रेलवे कर्मचारी गिरफ्तार

Arun lal Yadav | Publish: Aug, 08 2019 11:41:13 AM (IST) Mumbai, Mumbai, Maharashtra, India

संदेह होने पर जाल बिछाकर पकड़ा


पत्रिका न्यूज नेटवर्क
मुंबई. वरिष्ठ अधिकारी के नकली हस्ताक्षर कर वेटिंग टिकट कंफर्म करने के मामले में जीआरपी ने बुधवार को एक रेलवे कर्मचारी को गिरफ्तार किया है। एमआरए मार्ग पुलिस स्टेशन में उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज किया गया है। सेंट्रल रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि हमारे पास एक वरिष्ठ अधिकारी की तरफ से कोटा आया, संदेह होने पर उस अधिकारी से बात की तो उन्होंने कोटा जारी करने से मना किया। इसके बाद हमने जाल बिछाकर उसे पकड़ा।
मिली जानकारी के अनुसार पांच अगस्त को सेंट्रल रेलवे के वाणिज्यिक विभाग को एक वीआईपी कोटे का टिकट कन्फर्म कराने का अनुरोध मिला, जिसमें पाटलीपुत्र एक्सप्रेस में एलटीटी से जमुनिया जाने के लिए दो सीट कंफर्म करने का अनुरोध था। यह अनुरोध रेलवे के डॉ. बाबासाहेब मेमोरियल अस्पताल में काम करने वाले डॉक्टर विजय सिंह की तरफ से आया था। रेलवे के अधिकारी को इस अनुरोध पर संदेह हुआ तो उन्होंने डॉ विजय से संपर्क किया तो उन्होंने इस तरह के किसी कोटे के अनुरोध से इंकार कर दिया। इसके बाद अधिकारी ने इसके पीछे के लोगों को पकडऩे के लिए कोटे से टिकट कंफर्म कर दी। इसके बाद मुख्य टिकट निरीक्षक श्याम राणे और टीटीई विकास वाघेला पांच अगस्त को एलटीटी गए वहां उन्होंने चिंटू साह और सत्येंद्र गुप्ता को बर्थ पर बैठे पाया। उन्हें पकड़ कर लाया गया। पूछताछ में उन्होंने बताया कि उन्हें रिक्शा चालक अरुण यादव ने टिकट दिलाया है। इसके बाद अरुण को पकड़ा गया, उसने बताया कि यह तुलसीदास की मदद से करता है। उसने यात्रियों से दो बर्थ के लिए 1600 रुपए मांगे, जिनमें से 1000 रुपए तुलसीदास को दिए गए। तुलसीदास के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई, जिन्हें एमआरए मार्ग पुलिस स्टेशन ने गिरफ्तार कर लिया है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned