कोरोना से रेलवे को करोड़ों का नुकसान

  • 16 मार्च को दो करोड़ 81 लाख 32 हजार 315 रूपए के टिकट कैंसल हुए
  • मंगलवार 17 मार्च को दो करोड़ 64 लाख 66 हजार 315 रूपए के टिकट कैंसल हुए

By: Arun lal Yadav

Published: 19 Mar 2020, 12:36 PM IST

मुंबई. कोरोना के चलते मुंबई रेलवे को करोड़ों रूपए का नुकसान हो रहा है। सेंट्रल और वेस्टर्न रेलवे के विविध स्टेशनों के लंबी दूरी के टिकट कैंसल करने के लिए खिड़कियों पर लोगों की भारी भीड़ देखी जा रही है। इसके साथ ही मेट्रो और बेस्ट के यात्रियों की संख्या में तेजी से कमी आ रही है। पिछले वर्ष की तुलना में दोगुने टिकट कैंसिल कराए जा रहे हैं।


गौरतलब है कि कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए बड़े पैमाने पर मुंबई की कंपनियों ने अपने कर्मचारियों को घर से काम करने का निर्देश दिया है। इसके साथ ही आम लोगों ने मुंबई लोकल से सफर न करने का निर्णय लिया दिखता है। ऐसे में हमेशा ठूंस कर भरी हुई लोकल ट्रेनें खाली-खाली नजर आ रही हैं।

सेंट्रल रेलवे में इस माह मुंबई लोकल से लगभग 11 प्रतिशत यात्री कम हुए हैं। इससे सेंट्रल रेलवे को लभगभ साढ़े चार करोड़ का नुकसान हुआ है। इसके साथ ही कोरोना के भय से बड़े पैमाने पर लोग टिकट कैंसल करा रहे हैं, इससे रेलवे की टिकट खिड़कियों पर लोगों की भारी भीड़ जमा हो रही है।

वेस्टर्न रेलवे में पिछले दो दिनों में साढे पांच करोड़ रूपए से ज्यादा के टिकट कैंसिल कराए गए। सोमवार 16 मार्च को दो करोड़ 81 लाख 32 हजार 315 रूपए के टिकट कैंसल हुए, वहीं मंगलवार 17 मार्च को दो करोड़ 64 लाख 66 हजार 315 रूपए के टिकट कैंसल हुए। बीते वर्ष 16 मार्च 2019 को एक करोड़ 34 लाख 33 हजार 196 रूपए के टिकट कैंसल हुए, वहीं मंगलवार 17 मार्च 2019 को एक करोड़ 11 लाख 58 हजार 513 रूपए के टिकट कैंसल हुए। इस बार यह टिकट कैंसल की संख्या दोगुनी हो गई है।

सेंट्रल रेलवे में सोमवार को लगभग 74 लाख और मंगलवार को भी लगभग 84 लाख रूपए से ज्यादा के टिकट कैंसल करने पड़े। बड़े पैमाने पर हो रहे टिकट रद्दीकरण के कारण, रेलवे को पैसे लौटाने में परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। कई केंद्रों पर दूसरे रेलवे स्टेशनों से पैसे मंगाकर वापस दिए गए।

सेंट्रल और वेस्टर्न रेलवे ने कई ट्रेनों को रद्द किया है, अब रेलवे को इन यात्रियों के पूरे पैसे लौटाने होंगे, जो रेलवे की आय में कमी दिखाएगा। वहीं बेस्ट की खाली धूम रही बसों की कमाई भी बड़े पैमाने पर घटी है। रोज बेस्ट बसों को लाखों का नुकसान हो रहा है। मेट्रो१ के प्रवक्ता ने पत्रिका को बताया कि हमारे लगभग 25 हजार यात्री कम हुए हैं। इससे मेट्रो को रोज लगभग पांच लाख का नुकसान हो रहा है।

Arun lal Yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned