scriptSawan 2022: Know about the famous Trimbakeshwar temple of Maharashtra, where one gets freedom from sins | Sawan 2022: जानें महाराष्ट्र के प्रसिद्ध त्र्यंबकेश्वर मंदिर के बारे में, जहां मिलती है पापों से मुक्ति | Patrika News

Sawan 2022: जानें महाराष्ट्र के प्रसिद्ध त्र्यंबकेश्वर मंदिर के बारे में, जहां मिलती है पापों से मुक्ति

हिंदू धर्म में भगवान शिव की पूजा अत्यंत ही सरल और सुगम मानी गई है। सावन आते ही मंदिर में दर्शनार्थियों का हुजूम भी उमड़ने लगा है। सावन का ये पावन महीना 12 अगस्त तक चलेगा। सावन का महीना पूरी तरह से महादेव को समर्पित होता है और इस दौरान जो भक्त सच्चे दिल से भगवान शिव की पूजा एवं जल अभिषेक करते हैं तो उनकों पापों से मुक्ति मिल जाती है।

मुंबई

Updated: July 20, 2022 05:22:06 pm

सावन आते ही मंदिर में दर्शनार्थियों का हुजूम भी उमड़ने लगा है। सावन का ये पावन महीना 12 अगस्त तक चलेगा। सावन का महीना पूरी तरह से महादेव को समर्पित होता है और इस दौरान जो भक्त सच्चे दिल से भगवान शिव की पूजा एवं जल अभिषेक करते हैं तो उनकों पापों से मुक्ति मिल जाती है। सावन के दिनों में शिव भक्त प्रमुख ज्योतिर्लिंग के दर्शन के लिए जाते रहते हैं। भारत में स्थित 12 ज्योतिर्लिंग का दर्शन करने के लिए अलग-अलग जगहों से भक्त पहुंचते रहते हैं।
trimbakeshwar_jyotirlinga.jpg
Trimbakeshwar Jyotirlinga
भगवान शिव के प्रसिद्ध 12 ज्योतिर्लिंग में से एक है महाराष्ट्र का त्र्यंबकेश्वर मंदिर भी है। ऐसा कहा जाता है कि त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग में पापों से मुक्ति मिलती है। त्र्यंबकेश्वर मंदिर का निर्माण पेशवा बालाजी बाजी राव ने करवाया था। आइए जानते हैं त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग से जुड़ी रोचक बातें।
यह भी पढ़ें

Mumbai: ईडी ने फिल्म निर्माता प्रेरणा अरोड़ा के खिलाफ 31 करोड़ की धोखाधड़ी का केस किया दर्ज, जानें पूरा मामला

त्र्यम्बकेश्वर ज्योतिर्लिंग से जुड़ी कुछ रोचक बातें:

त्र्यम्बकेश्वर ज्योतिर्लिंग महाराष्ट्र के नासिक के पास गोदावरी तट पर स्थित है। इस मंदिर में लोग ज्यादातर कालर्सप दोष से मुक्ती पाने के लिए विधि वत पूजा करते हैं।
इस मंदिर के भीतर तीन छोटे-छोटे शिवलिंग है जो त्रिदेव यानी कि ब्रह्मा, विष्णु और महेश का प्रतीक माने जाते हैं। इस शिवलिंग के चारों तरफ एक रत्न से जड़ा हुआ मुकुट त्रिदेव के मुखोटे के रुप में स्थित है। परंपरा के मुताबिक, भक्त इस मुकुट का दर्शन सिर्फ सोमवार को शाम 4 बजे से 5 बजे के बीच किया जा सकते हैं।
मान्यता है कि बृहस्पति सिंह राशि में आते हैं तो तब भगवान शिव के इस पावन धाम पर कुंभ महापर्व होता है, जिसमें सभी तीर्थ, देवतागण यहां पर पधारते हैं। कुंभ मेले में शामिल होने के लिए देश-विदेश से श्रद्धालु गोदावरी में पवित्र डुबकी और भगवान त्र्यंबकेश्वर के दर्शन और पूजन के लिए पहुंचते हैं।
त्र्यबंकेश्वर मंदिर के पास तीन ब्रह्मगिरी, नीलगिरी और गंगा द्वार पर्वत मौजूद हैं। ब्रह्मगिरी को शिव स्वरूप माना जाता है, नीलगिरी पर्वत पर नीलाम्बिका देवी और दत्तात्रेय गुरु का मंदिर है। वहीं गंगा द्वार पर्वत पर देवी गोदावरी यां गंगा का मंदिर है।
ऐसी मान्यता है कि त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग की पूजा से व्यक्ति के न सिर्फ इस जन्म के बल्कि पूर्व जन्म के पाप भी दूर हो जाते हैं और उसे सुख-समृद्धि और सौभाग्य की प्राप्ति होती है।
त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग के दर्शन से मिलती है पापों से मुक्ति: बता दें कि पौराणिक कथा के मुताबिक, प्राचीन काल में ब्रह्मगिरी पर्वत पर देवी अहिल्या के पति ऋषि गौतम घोर तपस्या करते थे। यहां मौजूद बाकी लोग गौतम ऋषि से ईर्ष्या करते थे। एक बार सभी ऋषियों ने मिलकर धोखे से गौतम ऋषि पर गौहत्या का आरोप लगा दिया था। अन्य ऋषियों ने कहा कि गौहत्या के पाप से मुक्ति पाना है तो देवी गंगा को यहां लाना पड़ेगा। गौतम ऋषि ने पाप से प्रायश्चित करने के लिए पार्थिव शिवलिंग की स्थापना की और रोजाना सच्चे मन से उसकी पूजा करने लगे। ऋषि की सच्ची श्रृद्धा देखकर देवी पार्वती और भगवान शिव बहुत प्रसन्न हुए और उन्हें साक्षात दर्शन दिए। भगवान शिव ने गौतम ऋषि से वरदान मांगने को कहा तो गौतम ऋषि ने गंगा माता को यहां उतारने का वर मांगा। इस पर मां गंगा ने कहा कि अगर महादेव यहां निवास करेंगे तो वो यहां आएंगी। भगवान शिव ने गंगा जी की इच्छा को स्वीकार करते हुए त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग के रूप में विराजमान हो गए। इसके बाद गंगा नदी गौतमी (गोदावरी) के रूप में वहां बहने लगीं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Bihar Political Crisis Live Updates: नीतीश कुमार कल 2 बजे लेंगे शपथ, मंत्रिमंडल में बन सकते हैं 35 मंत्रीनीतीश ने सरकार बनाने का दावा पेश किया, कहा- हमें 164 विधायकों का समर्थनरवि शंकर प्रसाद ने नीतीश कुमार से पूछा बीजेपी के साथ क्यों आए थे? पीएम मोदी के नाम पर आपको जीत मिली, ये कैसा अपमान?पश्चिम बंगाल के बीरभूम में दर्दनाक हादसा, ऑटोरिक्शा और बस की टक्कर में 9 लोगों की मौत, पीएम मोदी ने जताया दुख'मुफ्त रेवड़ी' कल्चर मामले में सुप्रीम कोर्ट में आमने-सामने AAP और BJP, आम आदमी पार्टी ने कहा- PM मोदी ने 'दोस्तवाद' के लिए खाली किया देश का खजाना23 बार की ग्रैंड स्लैम चैंपियन सेरेना विलियम्स ने अचानक किया रिटायरमेंट का ऐलान, फैंस हुए भावुकMaharashtra Cabinet Expansion: कौन है सीएम शिंदे की नई टीम में शामिल 18 मंत्री? तीन पर लगे है गंभीर आरोपBihar New Govt: नीतीश कुमार CM, डिप्टी CM व होम मिनिस्ट्री राजद के पाले में, कांग्रेस से स्पीकर बनाए जाने की चर्चा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.