शिवसेना-भाजपा भीतर से मिले हुए,जैसे दिखते है वैसे नहीं हैं दोनों के रिश्ते: मुनगंटीवार

मुनगंटीवार ने पत्रिका से खास बातचीत में कहा कि राज्य में युति के सिवाय दोनों दलों के पास कोई विकल्प नहीं है...

By: Prateek

Published: 03 Jan 2019, 03:42 PM IST

रामदिनेश यादव की रिपोर्ट...

(मुंबई): आगामी लोकसभा चुनाव में शिवसेना-भाजपा की युति को लेकर तमाम अटकलों का दौर जारी है। वहीं, राज्य में भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं वित्त मंत्री सुधीर मुनगंटीवार ने कहा कि भाजपा- शिवसेना भीतर से मिले हैं, बाहर जैसा दिख रहा है वैसा नहीं है। उन्होंने कहा कि भाजपा-शिवसेना की युति आगामी लोकसभा और विधान सभा में होना ही है। इसे कोई नहीं रोक सकता है। यह युति होकर रहेगी।


मुनगंटीवार ने पत्रिका से खास बातचीत में कहा कि राज्य में युति के सिवाय दोनों दलों के पास कोई विकल्प नहीं है। बोले, हमने पहले ही युति के लिए हां भर दी है, अब वे भी जल्दी हामी भर देंगे। मुनगंटीवार ने कहा कि युति को टूटने का कोई सवाल ही नहीं है। सिर्फ पिछले विधान सभा चुनाव में ही अलग हुई है। पिछले 25 वर्षों से दोनों दल साथ रहे है। कुछ विषय पर हम दूर जरूर हुए थे। लेकिन अब नहीं, अब मिलान होगा, लोकसभा और विधान सभा चुनाव में होगा। हमारे बीच एक बार सीटों के बटवारे को लेकर चर्चा हुई तो ठीक उसके बाद युति घोषित कर दी जाएगी।

 

शिवसेना के नेता भी डरे हुए हैं

भाजपा से अलग होकर शिवसेना कितनी सीटें जीत पाएगी के सवाल पर उन्होंने कहा कि सही आंकड़ा बताना तो मुश्किल है लेकिन वास्तविकता है कि उनके नेता भी डरे हुए हैं। शिवसेना के आंतरिक रिपोर्ट करने वाले और संगठन देखने वाले नेताओं ने भी पार्टी में उनकी स्थिति का सही आकलन बताया ही होगा। कुल मिलाकर उनके लिए भी आसान नहीं है। राज्य में भाजपा और शिवसेना की युति को लेकर सबके मन में तरह-तरह के सवाल उठ रहे हैं। शिवसेना के अध्यक्ष उद्धव ठाकरे पिछले कुछ दिनों से अयोध्या मुद्दे को लेकर भाजपा की केंद्र व राज्य सरकार को घेरा है। यहां तक कि मोदी सरकार को चोर बताते हुए चौकीदार की ईमानदारी पर ही सवाल किया है। वही, भाजपा शिवसेना के सामने समझौते को लेकर नम हुई है।

Show More
Prateek Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned