HOSPITAL शिवाजी अस्पताल की सुरक्षा व्यवस्था की अनदेखी

शिवाजी अस्पताल की सुरक्षा व्यवस्था की अनदेखी

रोजाना हजार से ज्यादा लोग आते हैं इलाज कराने
172 सुरक्षा गार्डों की जरूरत, ड्यूटी पर हैं केवल 42 सुरक्षा रक्षण

 

By: Nagmani Pandey

Updated: 30 Sep 2019, 01:36 AM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
ठाणे. कलवा में ठाणे मनपा संचालित शिवाजी अस्पताल गरीब रोगियों का बड़ा सहारा है। यहां इलाज कराने ठाणे शहर के साथ ही डोंबिवली, कल्याण, उल्हासनगर, अंबरनाथ, बदलापुर, शहापुर और मुरबाड आदि इलाकों से रोगी आते हैं। रोजाना औसतन हजार से ज्यादा लोग इस अस्पताल में आते हैं। लेकिन, अस्पताल में पर्याप्त संख्या में सुरक्षा गार्ड नहीं हैं। इस कारण मरीजों के परिजन कई बार डॉक्टरों के साथ मारपीट करते रहते हैं।
अस्पताल की डीन डॉ. संध्या खडसे ने कहा कि हम सुरक्षा गार्ड की संख्या बढ़ाने की मांग लंबे अरसे से कर रहे हैं। प्रशासनिक स्तर पर इसमें देरी हो रही है। मिली जानकारी अनुसार शिवाजी अस्पताल में केवल 43 सुरक्षा गार्ड हैं। वैसे यहां पर कम से कम 172 सुरक्षा गार्डों की आवश्यकता है।

भेजा गया है प्रस्ताव
अस्पताल प्रशासन ने बताया कि 123 सुरक्षा गार्डों को तैनात करने का प्रस्ताव सुरक्षा विभाग को भेजा गया है। लेकिन, मनपा प्रशासन ने इस पर कोई फैसला नहीं किया है। इस कारण समस्या जस की तस है। सुरक्षा गार्डों की कमी के चलते अस्पताल प्रशासन को कई तरह की परेशानियां झेलनी पड़ती हैं।
डॉक्टरों से मारपीट
सुरक्षा गार्डों की कमी के चलते यहां रोगियों के सगे-संबंधी किसी न किसी बात को लेकर अस्पताल कर्मियों या डॉक्टरों को टारगेट करते हैं। कभी-कभी तो डॉक्टरों के साथ मारपीट भी की जाती है। इस तरह की कई घटनाएं हो चुकी हैं।
सुरक्षा बड़ी चुनौती
अस्पताल की डीन डॉ. संध्या खडसे ने कहा कि हमारे लिए सुरक्षा व्यवस्था सबसे बड़ी चुनौती है। मनपा प्रशासन ने जल्द सुरक्षा गार्ड मुहैया कराने का भरोसा दिया है।

Nagmani Pandey
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned