हॉस्पिटल में लगी आग की होगी जांच

अंधेरी कामगार अस्पताल में आग, मृतकों की संख्या 10 तक पहुंची

प्रधानमंत्री और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री को मुख्यमंत्री ने दी जानकारी

By: arun Kumar

Published: 18 Dec 2018, 10:51 PM IST

मृतकों के परिजनों को 10 लाख रुपए का मुआवजा
मृतकों में छह माह का मासूम भी शामिल
पत्रिका न्यूज नेटवर्क
मुंबई. अंधेरी पूर्व के एमआईडीसी औद्योगिक परिसर में स्थित ईएसआईसी कामगार अस्पताल में सोमवार को लगी आग की घटना की जांच का निर्देश राज्य के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने दिया है। मंगलवार को एक छह महीने के मासूम सहित हादसे में घायल चार और लोगों की मौत हो गई। इस घटना में अब तक 10 लोगों की मौत हो चुकी है। सोमवार को इस हादसे में छह लोगों की मौत हुई थी। मृतकों के परिजनों को 10 लाख रुपए का मुआवजा देने की घोषणा की गई है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा तथा लेबर विभाग के मंत्री संतोष गंगवार के साथ बातचीत के बाद मुख्यमंत्री ने हादसे की जांच निर्देश दिया किया है। मंगलवार को मुंबई आए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी मुख्यमंत्री फडणवीस ने कामगार अस्पताल में आगजनी से हुए जानोमाल के नुकसान की जानकारी दी। मुख्यमंत्री ने इस घटना में मृतकों के प्रति शोक प्रकट किया है और घायलों के जल्द ठीक होने की उम्मीद जताई है। साथ ही घायलों को इलाज के लिए सरकार की ओर से हर संभव मदद का भरोसा दिया है।

सोमवार को लगी थी आग

उल्लेेखनीय है कि अंधेरी के कामगार अस्पताल में सोमवार अपराह्न चार बजे के आसपास आग लग गई थी। अस्पताल की तल मंजिल पर बने गोदाम में लगी आग की वजह शार्ट सर्किट मानी जा रही है। ढाई घंटे की मशक्कत के बाद दमकल कर्मियों ने आग पर काबू पाया। साथ ही दमकल कर्मियों और पुलिस ने मिल कर अस्पताल में फंसे मरीजों, डॉक्टरों और नर्सों को बाहर निकाल कर उन्हें इलाज के लिए नजदीकी अस्पतालों में भर्ती कराया।

अब भी 45 की हालत गंभीर

कामगार अस्पताल में लगी आग में 142 लोग घायल हैं, जिनमें से 45 की हालत गंभीर बनी हुई है। गंभीर रूप से घायल लोगों में छह बच्चे भी शामिल हैं, जिनका इलाज होली स्पिरिट हॉस्पिटल में चल रहा है। बाकी घायलों का उपचार आरएन कूपर हॉस्पिटल, बाला साहेब ठाकरे ट्रौमा हॉस्पिटल, सेवन हिल्स हॉस्पिटल, होली स्पिरिट हॉस्पिटल, हीरानंदानी हॉस्पिटल और सिद्धार्थ हॉस्पिटल में चल रहा है।

गृह राज्य मंत्री ने किया दौरा

गृह राज्य मंत्री रणजीत पाटील ने मंगलवार को हादसे के शिकार कामगार अस्पताल का दौरा किया। पाटील के खिलाफ हॉस्पिटल के कर्मचारियों और स्थानीय लोगों ने नारे लगाए। केंद्रीय श्रम और रोजगार राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) संतोष गंगावार, विभाग के महानिदेशक और आईएसआईएस के महानिदेशक ने भी मंगलवार शाम अस्पताल का दौरा किया।

मृतकों के परिजनों को 10 लाख का मुआवजा

केंद्रीय श्रम एवं रोजगार मंत्री गंगवार ने हादसे में मारे गए लोगों के परिजनों को दस लाख रुपए का मुआवजा देने की घोषणा की है। साथ ही गंभीर रूप से घायलों को दो लाख की सहायता मिलेगी। साथ ही मामूली चोट के लिए एक लाख रुपए का मुआवजा मिलेगा।

Patrika
arun Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned