Maha Traffic News: बीच सड़क पर भरते हैं सवारी, हाल ही में एक रिक्शा चालक ने की है हत्या

बेलगाम ( Belgaum ) रिक्शा चालकों ( Rickshaw Drivers ) की वजह से लोगों का रास्ता चलना भी मुश्किल, राजनीतिक ( Political ) दबाव के कारण पुलिस बनी मूकदर्शक ( Mute Spectator )

कल्याण. कल्याण में बेलगाम रिक्शा चालकों की वजह से लोगों का रास्ता चलना भी मुश्किल हो गया है। कल्याण पश्चिम में दीपक होटल के पास बेलगाम रिक्शा चालक सवारी के लिए सड़क को जाम करते हैं और ट्राफ़िक पुलिस खड़ा होकर तमाशा देखती रहती है। इसका वजह राजनीतिक दबाव माना जा रहा है। बताया जाता है कि रिक्शा चालक-मालक यूनियन का लीडर राजनीतिक पार्टी से जुड़ा हुआ है और वह लगातार नगरसेवक चुनकर आ रहा है। स्थानीय लोगों का कहना कि यूनियन के वर्चस्व की वजह से रिक्शा चालकों की दादागिरी बढ़ गई है और यही कारण है कि रिक्शा चालक नियम-कानून को ताक पर रखकर बेलगाम हो गए हैं। जयदीप सानप नामक व्यक्ति ने बताया कि दीपक होटल से लेकर कल्याण कोर्ट तक और रिजर्वरेशन कार्यालय से लेकर जूना रेलवे कोर्ट तक रिक्शा चालकों की गुंडागर्दी देखने लायक है। नियम-कानून को ताकपर रखकर बेलगाम रिक्शा चालक बीच सड़क पर सवारी भरते हैं। जिसके कारण पीक आवर में स्टेशन पर जाने तक को रास्ता नहीं मिलता है।उसी तरह नियमित मुंबई जाने वाले बंटी कुलकर्णी नामक प्रवाशी ने कहा कि यदि कोई सवारी कुछ कहता है तो गुंडे टाइप के रिक्शा चालक मारपीट करने पर उतारू हो जाते हैं। बतादें कि अभी हाल ही में कल्याण के दावड़ी में एक रिक्शा चालक ने प्रतीक गावडे नामक युवक की सरेआम चाकू मारकर हत्या कर दी थी। कल्याण और डोंबिवली स्टेशन के आसपास रिक्शा चालकों की दादागिरी इस कदर बढ़ गई है कि प्रवाशी शिकायत करने की वजाय चुपचाप जाना ही मुनासिब समझते हैं।

ई-रिक्शा चालकों ने प्रशासन के सामने रखी अपनी मांग, कहा पूरी न होने पर जाएंगे हाईकोर्ट

यूनियन को मोटी कमाई...
कल्याण की रिक्शा यूनियन "रिक्शा चालक-मालक संगठना" यूनियन के नाम पर हरेक रिक्शा चालकों से प्रति माह एक ठराविक रकम वसूल करती है जो यूनियन के लिए एक मोटी कमाई का जरिया है। बताया जाता है कि 5 हजार से अधिक रिक्शा चालक इस यूनियन से जुड़े हैं और इसका फायदा यूनियन से जुड़े कुछ खास लोगों को ही मिलता है।

ई-रिक्शा से मिलेगा रोजगार... सुधरेगी रिक्शा चालकों की स्थिति

दादागिरी के दमपर रेलवे में कब्जा...
यूनियन के नाम पर दादागिरी कर रिक्शा चालक-मालक एशो. ने कल्याण स्टेशन के बाहर स्काईवाक के नीचे अवैद्य कार्यालय बनाया है जो प्रवाशी तकरार के नाम पर कब्जा कर लिया गया है। युनियन नेता प्रकाश पेणकर के कुछ खास चंद लोग इसका संचालन कर रिक्शा वालों से वसूली करते हैं। यही कारण है कि कल्याण में रिक्शा चालक बेलगाम हो गए हैं और दिन पर दिन इनकी दादागिरी बढ़ती जा रही है।

Rohit Tiwari Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned