तीन हजार फर्जी किराएदार! एसीबी कर रही मामले की जांच

तीन हजार फर्जी किराएदार! एसीबी कर रही मामले की जांच
तीन हजार फर्जी किराएदार! एसीबी कर रही मामले की जांच

Navneet Sharma | Updated: 27 May 2019, 05:15:02 PM (IST) Mumbai, Mumbai, Maharashtra, India

बीडीडी चॉल: तीन हजार लोगों का कोई लेखाजोखा नहीं

मुंबई. म्हाडा की पुनर्विकास योजना के तहत वर्ली के एनएम जोशी मार्ग, दक्षिण मध्य मुंबई व नायगांव में रहवासियों को 500 वर्ग फुट का घर मिलने वाला है। इस योजना की मलाई उड़ाने के लिए बीडीडी चॉल पुनर्विकास योजना में फर्जी तरीके से हजारों लोग प्रवेश कर चुके हैं। लोक निर्माण विभाग (पीडब्लूडी) के अधिकारियों के मिलीभगत से इन फर्जी किराएदारों को पंजीकृत किया गया।


फर्जी किराएदारों से जुड़ी शिकायत को म्हाडा ने गंभीरता से लिया है। यह जानकारी मुख्यमंत्री तक पहुंचाई गई है। साथ ही फर्जी किराएदारों से जुड़े मामले की जांच एसीबी को सौंपी गई है। इसे देखते हुए पीडब्लूडी विभाग के अधिकारियों-कर्मचारियों की नींद उड़ गई है। खासकर तब जबकि सरकार ने इस मामले में दोषी पाए जाने पर पीडब्लूडी के अधिकारियों के खिलाफ सख्ती का संकेत दिया है।


योजना में 15,593 घरों का होगा पुनर्वास
उल्लेखनीय है कि बीडीडी चॉल (11,427), पुलिस कॉलोनी (2,901), संस्थान (891) और गैर-आवासीय क्षेत्रों (374) को मिला कर कुल 15,593 घरों का पुनर्वास किया जाएगा। म्हाडा अधिकारियों का कहना है कि यह संख्या बढ़ गई है। चॉल के तीन हजार निवासियों का कोई लेखा-जोखा नहीं मिल रहा है।


अधिकारियों ने जारी की किराए की रसीद
चॉल के घरों को उनके मालिकों ने किराए पर उठाया है, जिनका किराया न्यूनतम है। ऐसे में किराएदार को घर बेचने का कोई अधिकार नहीं था। लेकिन, इन घरों को कई किराएदारों की ओर से स्थानांतरित किया गया था। अवैध होने के बावजूद पीडब्लूडी की ओर से नए किराएदार के नाम पर किराए की रसीद जारी की गई है।


मुख्यमंत्री का निर्देश
फर्जी किराएदारों का मामला मुख्यमंत्री के समक्ष भी उठाया गया। मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने उस बैठक में कहा था कि योग्य किराएदारों को घर मिलना चाहिए। 28 जून, 2017 तक के सभी किरायेदारों को आधिकारिक तौर से मालिक घोषित किया गया था। वहीं सार्वजनिक निर्माण विभाग से संबंधित लोगों के खिलाफ कार्रवाई का निर्देश दिया गया है, जिन्होंने फर्जी किराएदारों की मदद की। दूसरी तरफ एसीबी मामले की पूछताछ में जुट गई है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned