टोल में झोल:टोल नाकों से स्पीड ब्रेकर हटाने का निर्देश

फास्टैग से पैसे कटने के बावजूद नाकों पर हो रही थी वाहन चालकों से वसूली
प्रधानमंत्री और केंद्रीय परिवहन मंत्री से की थी शिकायत

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

मुंबई. देश भर के टोल नाकों पर टोल टैक्स के भुगतान के लिए ट्रांसपोर्ट विभाग की तरफ से 15 दिसंबर से फास्टैग सुविधा लागू की गई है। फास्टैग के चलते टोल नाकों पर वाहनों की भीड़ कम होने लगी है। फास्टैग इस्तेमाल करने वालों को जहां टोल में छूट देने की घोषणा की गई है, वहीं कुछ टोल नाकों पर फास्टैग के नाम पर झोल की शिकायतें भी मिल रही हैं। एक इसी तरह का मामला पत्रिका के हाथ लगा, जिसमें मुंबई-पुणे एक्सप्रेस-वे के तलेगांव टोल नाके पर वाहन चालकों से डबल पैसे वसूल किए जा रहे थे। पत्रिका में प्रकाशित खबर के बाद प्रधानमंत्री कार्यालय ने टोल नाकों से स्पीड ब्रेकर हटाने का निर्देश दिया है।
इलेक्ट्रॉनिक टोल भुगतान को बढ़ावा देने और वाहन चालकों की सुविधा के लिए नेशनल हाइवे टोल प्लाजा पर फास्टैग अनिवार्य किया गया है। बिना फास्टैग वाली गाडिय़ों से दोगुना टोल टैक्स वसूल करने का निर्णय लिया गया है। वाहनों में फास्टैग अनिवार्य होने के कारण नए वाहनों में कंपनियां फास्टैग की सुविधा दे रही हैं। ऐसे में टोल नाकों पर फास्टैग से पैसे नहीं कट होने का हवाला देते हुए डबल पैसे वसूल किए जा रहे हं।
25 दिसंबर की घटना
पुणे के चिंचवड निवासी राहुल रुकारी ने 21 दिसंबर को नई गाड़ी (एमएच 14 एचडब्लू-7542) खरीदी थी। गाड़ी के साथ ही फास्टैग लगा हुआ है। 25 दिसंबर सुबह वह मुंबई आए थे और सुबह 6.39 बजे तलेगांव टोल नाका पहुंचे। नाके पर उनके फास्टैग से पैसा कट तो गया, लेकिन उन्हें इसका मैसेज तुरंत नहीं मिली। इसी दौरान टोल पर मौजूद कर्मचारी ने तुरंत पावती काट कर उन्हें पकड़ाई और 230 रुपए वसूले।
बाद में मिला मैसेज
राहुल कुछ दूर आगे बढ़े तब उन्हें फास्टैग से पैसा कट होने का मैसेज मिली। उसी दिन शाम को राहुल जब वापस पुणे लौटे तब भी फास्टैग से पैसे कटने का मैसज विलंब से मिला। नाके के कर्मचारियों ने उनसे वापस टोल वसूला। कर्मचारी ने राहुल की एक बात भी नहीं सुनी।
कॉप्स ने की शिकायत
केयर ऑफ पब्लिक सेफ्टी एसोशिएशन (कॉप्स) के अध्यक्ष आदम बेग और सामाजिक कार्यकर्ता अभिषेक हरिदास ने मामले को गंभीरता से लिया। उन्होंने सर्वे कराया जिसमें पाया गया कि कई वाहन चालकों से डबल पैसे वसूले जा रहे हैं। इसके बाद उन्होंने प्रधानमंत्री और परिवहन मंत्री के पास लिखित शिकायत भेजी। इसे देखने के बाद प्रधानमंत्री कार्यालय ने टोल नाके से स्पीड ब्रेकर हटाने का निर्देश दिया।

Nagmani Pandey Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned