आयंबिल ओली तप: जैन श्रद्धालुओं के घर तक विशेष भोजन पहुंचाएंगे वॉलंटियर्स

बॉम्बे हाई कोर्ट: उपवास के दिनों में मंदिर जाने की अनुमति नहीं

By: Chandra Prakash sain

Published: 16 Apr 2021, 11:52 PM IST

मुंबई. बॉम्बे हाई कोर्ट ने 'आयंबिल ओली तप' पर्व को लेकर मुंबई, पुणे और नासिक के जैन धर्मावलंबियों को बड़ी राहत दी है। इस उपवास पर्व के दौरान ग्रहण किए जाने वाला विशेष भोजन लोगों के घरों तक पहुंचाया जाएगा।
कोर्ट ने मुंबई की 58 और पुणे तथा नासिक के तीन जैन मंदिरों को शुक्रवार को इसकी अनुमति दे दी है। जस्टिस एस.सी. गुप्ते और जस्टिस अभय अहूजा की खंडपीठ ने यह स्पष्ट किया कि किसी भी सूरत में श्रद्धालुओं को उपवास के दिनों में मंदिर जाने की अनुमति नहीं होगी। यह उपवास पर्व 19 अप्रेल से शुरू होकर 27 अप्रेल तक चलेगा।
ये थी दलील... याचिकाकर्ता ने दलील दी कि मंदिरों या भोजन कक्षों को लोगों के लिए खोलने या लोगों से वहां आकर भोजन करने की मांग नहीं की गई है सिर्फ लोगों को भोजन का डिब्बा लेकर जाने दिया जाए।
सरकारी वकील ज्योति चव्हाण ने याचिकाओं का विरोध करते हुए अनुमति मिलने पर मंदिरों में भीड़ लगने की आशंका व्यक्त की।
पीठ ने सुझाया बीच का रास्ता... पीठ ने गुरुवार को उपवास का भोजन वॉलंटियर्स की मदद से लोगों के घरों पर डिलीवर करने की सलाह दी थी जिस पर दोनों पक्ष सहमत हुए।
खाया जाता है उबला भोजन...
कोर्ट दो जैन ट्रस्ट की ओर से दाखिल याचिकाओं पर सुनवाई कर रही थी जो मुंबई के 58 जैन मंदिरों का प्रबंधन करते हैं। इसमें अनुरोध किया गया था कि समुदाय के सदस्यों को उपवास के दौरान खाए जाने वाले उबले भोजन का डिब्बा ट्रस्ट परिसर से लेकर जाने की अनुमति दी जाए।

Chandra Prakash sain
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned