10 साल से पहले नहीं बेच सकेंगे घर

10 साल से पहले नहीं बेच सकेंगे घर
10 साल से पहले नहीं बेच सकेंगे घर

Navneet Sharma | Updated: 04 Jun 2019, 06:01:48 PM (IST) Mumbai, Mumbai, Maharashtra, India

म्हाडा: पांच साल बाद ही लोग बेच देते हैं घर, अगली बैठक में प्रस्ताव पर होगी चर्चा
ज्यादा लोगों को घर मिले, इसके लिए चल रहा विचार

मुंबई. म्हाडा ने जरूरतमंदों को ज्यादा घर मुहैया कराने के लिए सख्त फैसला किया है। इसके मुताबिक म्हाडा के घर अब लोग 10 साल के भीतर नहीं बेच सकते हैं। अधिकांश लोग पांच साल बाद अपना घर बेच देते हैं। इसके बाद फिर से म्हाडा के घरों के लिए आवेदन जमा करते हैं। नए घरों की लॉटरी निकालने के साथ म्हाडा यह शर्त जोड़ेगी। अधिकारियों का कहना है कि ऐसे कई मामले सामने आए हैं, जिनमें लोग कम कीमत मिलने के बावजूद पांच साल बाद अपना घर बेच देते हैं।


म्हाडा प्राधिकरण ने इस मामले को गंभीरता से लिया है। अगली बार की लॉटरी के समय जिन भी लोगों को घर मिलेगा, उनके साथ म्हाडा करार करेगी।


करारनामे के मुताबिक 10 साल तक वह घर नहीं बेचा जा सकता है। मौजूदा नियमों के मुताबिक म्हाडा के घर पांच साल तक नहीं बेचे जा सकते हैं। म्हाडा में पहले यह नियम था। लेकिन घर मालिकों की सहूलियत के लिए इसे घटा कर पांच साल कर दिया गया। अब फिर से इसे 10 साल करने की तैयारी है।


दस साल से पहले घर बेचने पर रोक लगाने का प्रस्ताव म्हाडा मुंबई बोर्ड अध्यक्ष मधु चव्हाण का है। इस प्रस्ताव पर विस्तृत चर्चा प्राधिकरण की अगली बैठक में होगी। उल्लेखनीय है कि बड़ी संख्या में लोग म्हाडा का घर पाना चाहते हैं, हर बार म्हाडा की लॉटरी में आवेदन जमा करते हैं। लेकिन अधिकांश लोगों को निराशा ही हाथ लगती है। रविवार को निकाली गई 217 घरों की लॉटरी पर इसके लिए गौर कर सकते हैं। इन घरों के लिए 66 हजार से ज्यादा लोगों ने आवेदन किया था।


करारनामे में जोड़ी जाएगी शर्त
चव्हाण ने कहा कि घरों की बिक्री के समय खरीदार के साथ एक करार-नामा होता है। इसी करार के साथ 10 साल के भीतर घर नहीं बेचने वाली शर्त जोड़ी जाएगी। म्हाडा के घर लोगों को किफायती दर पर मिलते हैं। इसलिए अधिकांश लोग म्हाडा की लॉटरी में शामिल होते हैं। चव्हाण के प्रस्ताव से म्हाडा के अधिकारी भी सहमत हैं।


30 से 35 आवेदनों पर पुनर्विचार
पवई में कुछ लोगों ने पिछली बार की लॉटरी में मिले घरों को लौटा दिया था। उनका कहना था कि म्हाडा के घर महंगे हैं। इसे देखते हुए म्हाडा ने इस बार घर की कीमत घटाई है। दरों में की गई कटौती के बाद वे लोग घर को वापस मांग रहे हैं। इस पर म्हाडा विचार करेगी। इसके बाद उन घरों के 30 से 35 आवेदकों के बारे में उचित निर्णय लिया जाएगा।
मधु चव्हाण, प्रेसिडेंट, म्हाडा मुंबई

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned