घंटो की लाइन में महीनों की शराब

लोगों ने घंटों लाइन में खड़े रहकर महीनों की शराब खरीदी। लाइन में लगे लोगों ने सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उडाईं।

By: Arun lal Yadav

Published: 05 May 2020, 07:41 PM IST

मुंबई. शराब दुकानों के खुलने के दुसरे दिन मंगलवार को भी दुकानों के सामने नोटबंदी जैसी कतार देखने को मिली। बोतल की चाह में लोग धूप में घंटों इंतजार करते नजर आए। कोरोना के कंटेनमेंट जोन को छोड़ महामुंबई क्षेत्र में शराब की दुकानें भी खुलीं। वहीं कुछ इलाकों में शराब की दुकानों को खोलने की अनुमति नहीं दी गई।

सोमवार को शराब की दुकानों के खुलने से उत्साहित नाशिक के कुछ दुकानदारों ने ग्राहकों को धूप से बचाने के लिए पंडाल लगा दिए। शराब की दुकानों पर सुबह छह बजे से लाइन लग गई। लोगों ने घंटों लाइन में खड़े रहकर महीनों की शराब खरीदी। लाइन में लगे लोगों ने सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उडाईं। नाशिक में शाम को दुकानों में शराब खत्म होने के बाद लोगों ने हंगामा मचाया। इसके बाद जिलाधिकारी ने अगले आदेश तक के लिए दुकाने बंद रखने का आदेश दिया है।

मुंबई. शराब के लिए कुछ स्थानों पर सुबह सात बजे से ही लोगों की कतार लग गई। स्लम इलाकों की दुकानों पर लॉकडाउन की धज्जियां उडाई गईं। शहर के कुछ स्थानों पर दुकाने समय पर खुलीं तो कुछ में आबाकारी विभाग की अनुमति से दुकानों को दोपहर के बाद खोला गया। कुछ इलाकों में पुलिस को लाठी भी चलानी पड़ी। अंधेरी, माटुंगा, में लंबीं कतारें देखने को मिलीं।

पांच घंटे लाइन में खड़े रहकर लौटे लोग
ठाणे. मंगलवार को भी ठाणे शहर, कल्याण, उल्हासनगर, भिवंडी पालघर और नवी मुंबई में शराब की दुकानें नहीं खुलीं। इससे सुबह सात बजे से कतार में लगे लोगों को निराशा का सामना करना पड़ा। लोगों ने दोपहर 12 बजे तक दुकानें खुलने का इंतजार किया। इसके बाद घर लौट गए। कल्याण में शराब की दुकाने बंद रहीं। यहां तक की राशन की दुकानों को भी खोलने की अनुमति नहीं दी गई। सिर्फ होम डिलवरी की अनुमति दी गई।

पुलिस से भीड़ को किया नियंत्रित
पुणे. पुणे शहर में भोर में ही शौकीन लोग शराब की दुकानों के बाहर कतार लगाकर खड़े होने लग गए। दोपहर 12.00 बजे तक जब कतारें लंबी हो गईं, तो पुलिस जवानों को मोर्चा संभालना पड़ा। ऐसे में कई बार फिजिकल डिस्टेंस नियम भी भंग हुआ।

नाशिक में फिर से बंद हुईं दुकानें
नाशिक. मंगलवार को शराब की दुकानें नहीं खुलीं। सोमवार को वाइन शॉप खुलते ही कई स्थानों पर शराबियों ने दीवानों के तरह नाच-गाना शुरू कर दिया। लोग 40 दिन की कसर एक दिन में मिटाने की बात कहते दिखाई दिए। शराब की दुकानों शाम तक शराब खत्म हो गई।

इसके बाद कई इलाकों में लोगों ने दुकानदारों से तू-तू मैं-मैं शुरू कर दी। हंगामा मचता देख पुलिस को लाठियां भांजनी पड़ी। बिगड़ते हालात देखते हुए जिलाधिकार सूरज मांढरे और पुलिस कमिश्रर विश्वास नागरे पाटिल ने अगले आदेश तक सभी शराब की दुकानों को बंद कर दिया है।

Show More
Arun lal Yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned