आवेदनों का मौके पर निराकरण करने के लिए समाधान शिविर आयोजित- तोखन

आवेदनों का मौके पर निराकरण करने के लिए समाधान शिविर आयोजित- तोखन

Amil Shrivas | Publish: Mar, 14 2018 02:14:49 PM (IST) Mungeli, Chhattisgarh, India

निवासखार समाधान शिविर में 2981 आवेदनों का निराकरण

मुंगेली. लोक सुराज अभियान के तीसरे चरण में समाधान शिविर आयोजित किए जा रहे हंै। इसी कड़ी में मंगलवार को मुंगेली जिले के विकास खण्ड लोरमी के सुदूर वनांचल ग्राम निवासखार में समाधान शिविर का आयोजन किया गया। शिविर में अधिकारियों द्वारा शासन की विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं एवं प्रथम चरण में आमजनों से प्राप्त आवेदन पत्रों के निराकरण के बारे में जानकारी दी गई।
क्षेत्रीय विधायक व संसदीय सचिव तोखन साहू ने कहा कि शासन की मंशा है कि लोगों को समस्याओं को लेकर इधर-उधर भटकना न पड़े। इसीलिए उनके आवेदन पत्रों का मौके पर निराकरण करने के लिए समाधान शिविर का आयोजन किया गया है। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि हितग्राहीमूलक योजनाओं को लोगों तक पहुंचाएं, ताकि लोग योजनाओं का लाभ प्राप्त कर सकंे। उन्होंने कहा कि लोक सुराज अभियान तीन चरणों में आयोजित किया गया है। प्रथम चरण में आमजनों से आवेदन पत्र प्राप्त करने तथा दूसरे चरण में प्राप्त आवेदन पत्रों का निराकरण किया गया। अब तीसरे चरण में समाधान शिविर का आयोजन किया जा रहा है। इसमें अधिकारियों द्वारा आवेदन पत्रों के निराकरण की स्थिति से अवगत कराया गया। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ ऐसा राज्य है, जहां गरीबों को एक-दो रुपए किलो में खाद्यान्न उपलब्ध कराया जा रहा है। समाधान शिविर में मध्याह्न भोजन, मुख्यमंत्री कन्यादान विवाह योजना, तीर्थ यात्रा योजना, सौर सुजला योजना, रेडी टू ईट आदि की जानकारी दी। उन्होंने संबंधित अधिकारियों से कहा कि मनरेगा के तहत कराए गए कार्यों की लंबित मजदूरी भुगतान सुनिश्चित करें। उन्होंने अवगत कराया कि एकलव्य विद्यालय की कक्षाएं प्रारंभ हो गई हंै। कलेक्टर नीलम नामदेव एक्का ने अधिकारियों से कहा कि प्राप्त आवेदन पत्रों का सकारात्मक निराकरण करें। जिला अधिकारी कार्यों के सत्यापन के लिए माह में एक बार क्षेत्र भ्रमण अवश्य करें।
कलेक्टर ने क्रेडा विभाग के नोडल अधिकारी को निर्देशित किया कि खराब सोलर पैनल बदलकर 5 मई 2018 तक चालू करना सुनिश्चित करें। उन्होंने बताया कि लोक सुराज में प्राप्त आवेदन पत्रों के आधार पर मनरेगा के तहत 1200 डबरी निर्माण और तालाब गहरीकरण कार्य के लिए स्वीकृति दी गई है। इन 7 ग्राम पंचायतों के लिए स्वीकृत कार्य को 19 मार्च तक चालू कराने जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी और रोजगार सहायक को निर्देश दिए। इन कलस्टर गांवों के लिए स्वीकृत हैण्डपंप खनन का कार्य 30 मार्च तक पूरा करने लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के कार्यपालन अभियंता को निर्देश दिए गए। उन्होंने कहा कि अत्यंत पिछड़ी जनजाति बैगाओं के लिए ट्यूबवेल की स्वीकृति दी गई है, जिसका अंशदान आदिवासी विकास विभाग से प्राप्त होगा। इसके क्रियान्वयन के लिए संबंधित किसानों से अभिलेख प्राप्त कर परीक्षण कर लें। कलेक्टर ने पूर्व विधायक धर्मजीत सिंह के पूछे जाने पर बताया कि प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत निर्माणाधीन आवास पूरा किए जाएंगे। खुडिय़ा से छपरवा तक मरम्मत कार्य के लिए 10 किमी रोड की स्वीकृति दी गई है। आगे कार्य के लिए प्रस्ताव भेजा जाएगा। खुडिय़ा से औरापानी तक सडक़ मरम्मत की मांग की गई। ग्रामीणों ने बताया कि मनरेगा के तहत कराए गए कार्यों की मजदूरी भुगतान अप्राप्त है। कलेक्टर ने एटीआर के उपसंचालक से कहा कि भौतिक सत्यापन कराकर मजदूरी भुगतान सुनिश्चित करें। सुदूर वनांचल ग्राम निवासखार में आयोजित समाधान शिविर में श्रम विभाग द्वारा असंगठित कर्मकारों भागबली, कांति, शैलबाई, शांति बाई, गंगोत्री, भारती, बलबलियां बैगा एवं चंद्रकली को परिचय पत्र (कार्ड) का वितरण किया गया। स्वास्थ्य विभाग द्वारा नि:शुल्क शिविर आयोजित कर मरीजों की रक्त जांच एवं दवा वितरण किया गया। शिविर में 2981 आवेदन पत्रों का निराकरण किया गया। इनमें 102 आवेदन शासन स्तर पर निराकरण के लिए भेजा जाएगा। 57 आवेदन पत्र शिकायत संबंधी प्राप्त हुए थे।
इस मौके पर पूर्व विधायक धर्मजीत सिंह, लोरमी जनपद अध्यक्ष वर्षा सिंह ठाकुर, जनपद सदस्य श्याम सुंदर शांडिल्य, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी लोकेश चंद्राकर, वनमण्डलाधिकारी केके जाधव, एटीआर के उपसंचालक मनोज पाण्डेय, एसडीएम सीएस पैकरा, कोमल गिरी गोस्वामी, रामावतार, घनश्याम खत्री, जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी यूएस बंधे आदि मौजूद रहे।

Ad Block is Banned