संचालक नहीं दिखा पाया कोई भी दस्तावेज

कलेक्टर के निर्देश पर कम्प्यूटर सेंटर में जांच करने पहुंचे एसडीएम

By: Murari Soni

Published: 01 Jul 2019, 11:12 AM IST

लोरमीञ्चपत्रिका. नगर पंचायत अंतर्गत वार्ड क्रमांक 8 में बिना मान्यता के संचालित कम्प्यूटर सेंटर की खबर पत्रिका ने 7 जून के अंक में प्रकाशित किया। इस पर कलेक्टर ने एसडीएम लोरमी एवं लोरमी महाविद्यालय के दो प्रोफेसरो ंको जांच के लिए कम्प्यूटर सेंटर भेजा। एसडीएम के द्वारा संचालक असलेन्द्र शर्मा से मान्यता संबधी जरूरी दस्तावेज मांगे गए, जिस पर संचालक कोई भी दस्तावेज उपलब्ध नहीं करा पाये। इसके बाद भी एसडीएम चित्रकांत चार्ली ठाकुर के द्वारा संचालक को तीन दिन की मोहलत दे दी। यह पहला मामला है जब एसडीएम कार्रवाई किए बगैर ही वापस लौट आए।
प्राप्त जानकारी के अनुसार नगर में बिना पंजीयन और बिना अनुमति के नगर के वार्ड क्रमांक 8 में डिजीटल वर्ड नामक कम्प्यूटर सेंटर संचालित है जहां पर बड़े-बड़े अक्षरो में लिखकर नगर के विभिन्न जगहो पर बिलासपुर यूनिवर्सिटी के नाम पर कोर्स कराने की बात लिखकर चस्पा किया गया है, जिसमें लिखा गया है कि छात्र/छात्राएं पीजीडीसीए, डीसीए, बीसीए, एमएसडब्ल्यू, बीएड,डीएड सहित अन्य कोर्स कराया जाता है। जिसकी खबर पत्रिका ने 7 जून के अंक में प्रकाशित किया था, खबर पर संज्ञान लेते हुये कलेक्टर सर्वेस्वर नरेन्द्र भूरे एसडीएम लोरमी को निर्देशित किया कि डिजीटल वर्ड नामक कम्प्यूटर सेंटर की जांच कर कार्रवाई करें। 29 जून की दोपहर को लोरमी एसडीएम चित्रकांत चार्ली, लोरमी कॉलेज के प्रोफेसर हरिशंकर राज व नरेन्द्र सलूजा सहित एसडीएम कार्यालय में पदस्थ रीडर पहुंचे, जहां पर सेंटर संचालक असलेन्द्र शर्मा कोई भी दस्तावेज नहीं दिखा पाया। इस पर एसडीएम ने कार्रवाई के बजाय उसे 3 दिन की मोहलत दे दी, जो नगर में चर्चा का विषय बना हुआ है।
जांच पर उठाए सवाल: वहीं वरिष्ठ कांग्रेस नेता जवाहर साहू ने कहा कि बिना मान्यता के चले रहे कम्प्यूटर को सेंटर को तुरंत सील किया जाना चाहिए था, लेकिन एसडीएम ने ऐसा नहीं किया। इसकी शिकायत कलेक्टर से की जाएगी। यही नहीं डिण्डौरी अध्यक्ष लखन कश्यप ने भी कार्रवाई न होने पर प्रभारी मंत्र व मुख्यमंत्री से शिकायत करने की बात कही है।

Murari Soni
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned