एलआईसी का बड़ा ऐलान, दो साल से ज्यादा बंद पड़ी पॉलिसी को करा सकेंगे चालू

  • एलआईसी ने पॉलिसीधारकों को जीवन बीमा सुविधा को बनाए रखने को किया इरडा से संपर्क
  • एक जनवरी 2014 के बाद बीमा पॉलिसी खरीदी वालों को मिले लंबी अवधि की सुविधा

By: Saurabh Sharma

Updated: 04 Nov 2019, 06:06 PM IST

नई दिल्ली। भारतीय जीवन बीमा निगम यानी एलआईसी ने अपने पुराने पॉलिसी होल्डर्स को बड़ी राहत दी है। जिन लोगों की पॉलिसी दो या उससे ज्यादा समय से बंद पड़ी है वो दोबारा से चालू हो सकेंगी। आपको बता दें कि इससे पहले जिन जो पॉलिसी दो या उससे ज्यादा समय से पॉलिसी चालू नहीं थी यानी जिनका प्रीमियम नहीं भरा जा रहा था। उन्हें दोबारा से चालू कराने की अनुमति नहीं थी। ऐसी कई पॉलिसी हैं जो दो साल उससे ज्यादा साल सालों से बंद पड़ी है। उन्हें देखने वाला कोई नहीं है।

यह भी पढ़ेंः- अगले साल से शुरू होगी विस्तारा की लंबी दूरी की अंतर्राष्ट्रीय उड़ानें

एलआईसी की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार एक जनवरी 2014 के बाद खरीदी गई सामान्य बीमा पॉलिसी के धारक अब प्रीमियम भुगतान नहीं कर पाने की तिथि से पांच साल की अवधि के भीतर और यूनिट-लिंक्ड पॉलिसीधारक अपनी बंद पड़ी पॉलिसी को आखिरी प्रीमियम भुगतान के तीन साल की अवधि के भीतर फिर से चालू कर सकेंगे।

यह भी पढ़ेंः- लगातार चौथे दिन सेंसेक्स 40 हजार के पार हुआ बंद, निफ्टी 12 हजार के करीब पहुंची

भारतीय बीमा विनियामक और विकास प्राधिकरण (इरडा) के 2013 के नियमन के मुताबिक बीमा अवधि के दौरान जिस तिथि से प्रीमियम भुगतान नहीं किया गया तब से लेकर दो साल की अवधि के भीतर किसी पॉलिसी को फिर से चालू किया जा सकता है। इरडा का यह नियम एक जनवरी 2014 से अमल में है। इस तिथि के बाद ली गई बीमा पॉलिसी में यदि दो साल से अधिक समय तक प्रीमियम का भुगतान नहीं किया जाता है तो उसे पुन: चालू नहीं किया जा सकता था।

यह भी पढ़ेंः- एक बार फिर से 40 हजारी सोना, चांदी 48000 रुपए के पार पहुंचा

एलआईसी ने कहा कि पॉलिसीधारकों को जीवन बीमा सुविधा को बनाए रखने के लिए उसने इरडा से संपर्क किया। कंपनी ने अनुरोध किया है कि जिन पॉलिसीधारकों ने एक जनवरी 2014 के बाद बीमा पॉलिसी खरीदी है उन्हें भी उनकी बंद पड़ी पॉलिसी को फिर से चालू करने के लिए लंबी अवधि का लाभ दिया जाना चाहिए।

यह भी पढ़ेंः- व्हाट्सएप जासूसी कांड: महज 9 सालों में करीब 7 मिलियन डॉलर से 1 बिलियन डॉलर का बन चुका है NSO ग्रुप

एलआईसी के प्रबंध निदेशक विपिन आनंद ने कहा कि दुर्भाग्यवश कई बार ऐसी परिस्थितियां बन जाती हैं जब कोई व्यक्ति अपना प्रीमियम नियमित तौर पर नहीं भर पाता और उसकी पॉलिसी डूब जाती है। ऐसे में पुरानी बंद पड़ी बीमा पॉलिसी को फिर से चालू करने का विकल्प नई पॉलिसी खरीदने से बेहतर होता है। उन्होंने कहा कि किसी व्यक्ति के जीवन में जीवन बीमा लेना सबसे विवेकपूर्ण निर्णय होता है। हम अपने हर बीमाधारक और हमारे साथ उनके बीमा पॉलिसी को बनाए रखने की इच्छा का सम्मान करते हैं।

Show More
Saurabh Sharma Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned