दुर्घटना के बाद Air India Express को Insurance Company से मिलेंगे करीब 373 करोड़ रुपए

  • Kozhikode Airport में दुर्घटनाग्रस्त Plane लीज पर नहीं बल्कि एयरनाइन का था
  • हादसे से पहले Air India Express के बेड़े में थे 25 Boing 737-800 एनजी विमान

By: Saurabh Sharma

Updated: 11 Aug 2020, 11:07 PM IST

नई दिल्ली। एअरलाइन अधिकारियों ने साफ कर दिया है कि कोझिकोड हवाई अड्डे ( Kozhikode Airport ) पर शुक्रवार की शाम दुर्घटनाग्रस्त होने वाला एअर इंडिया एक्सप्रेस का विमान ( Air India Express Plane ) कंपनी का खुद का था लीज का नहीं था। ऐसे में एअर इंडिया एक्सप्रेस को बीमा कंपनी ( Insurance Company ) से मिलने वाले रुपयों का रास्ता साफ हो गया है। बीमा कंपनी से एअरलाइन को करीब 373 करोड़ रुपए की राशि मिलेगी। आपको बता दें कि हादसा होने से पहले एअर इंडिया एक्सप्रेस के विमानों ( Air India Express Plane Crash ) के कुल बेड़े में 25 बोइंग 737-800 एनजी विमान थे। इनमें से 17 विमान जो दुर्घटना के बाद 16 हो गए हैं एअरलाइन के अपने हैं और शेष आठ विमानों को लीज पर लिया हुआ है। इंश्योरेंस इंडस्ट्री से जुड़े लोगों की माानें तो यदि यह एक स्वामित्व वाला विमान है तो एअरलाइन को पूरी दावा राशि का भुगतान किया जाएगा।

इंश्योरेंस को मिली मंजूरी
दुबई-कोझिकोड उड़ान के कुल नुकसान के दावे को विमान के प्रमुख पुनबीर्माकर्ता द्वारा मंजूरी देने के साथ एअर इंडिया एक्सप्रेस को पांच करोड़ डॉलर की पूरी दावा धनराशि मिलेगी। दुर्घटनाग्रस्त हुए एअर इंडिया एक्सप्रेस की प्रमुख पुनर्बीमा कंपनी ने कुल नुकसान के लिए किए गए दावे को मंजूरी दे दी है। दरअसल, एक बीमा कंपनी को भी सुरक्षा की जरूरत पड़ती है। इसीलिए बीमा कंपनियां पुनर्बीमा खरीदती हैं। ये बीमा कंपनियां यह सुनिश्चित करने के लिए बीमा खरीदती हैं कि वे ग्राहकों के प्रति उनके दायित्वों को पूरा करने में सक्षम रहें। एक बीमा कंपनी द्वारा किसी अन्य बीमा कंपनी को अपने जोखिम को स्थानांतरित करने की इस प्रक्रिया को ही पुनर्बीमा कहा जाता है।

लंदन की कंपनी की मिली मंजूरी
एअर इंडिया के विमानों का बीमा करने वाली चार बीमा कंपनियों में से एक के वरिष्ठ अधिकारी ने मीडिया रिपोर्ट में कहा कि प्राथमिक बीमाकतार्ओं के संघ (कंसोर्टियम) की तरह ही पुनबीर्माकर्ताओं के एक संघ ने एअर इंडिया और उसके सहायक एअर इंडिया एक्सप्रेस के विमानों का बीमा किया है। प्रमुख पुनर्बीमाकर्ता एआईजी लंदन ने पूरे दावे (विमान के नुकसान का दावा) को मंजूरी दे दी है। अन्य पुनर्बीमाकर्ता संघ भी अपनी स्वीकृति देंगे।

चार कंपनियों ने किया है 170 विमानों का इंश्योरेंस
चार सार्वजनिक क्षेत्र के बीमाकर्ताओं का एक संघ न्यू इंडिया एश्योरेंस, नेशनल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड, ओरिएंटल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड और युनाइटेड इंडिया इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड ने एअर इंडिया और इसकी सहायक कंपनियों के लगभग 170 विमानों के बेड़े का बीमा किया है, जिसमें एअर इंडिया एक्सप्रेस भी शामिल है। एअरलाइन ने बीमा के तहत विमान में होने वाले नुकसान, तीसरे पक्ष और यात्रियों के लिए दायित्व को कवर करने वाली नीतियां ली हुई हैं।

सभी जोखिमों को किया जाएगा कवर
अधिकारी के अनुसार, प्रमुख पुनबीर्माकर्ता ने विमान के कुल नुकसान के लिए अंतरिम देयता/दावे का भुगतान करने का भी अनुमान लगाया है। हादसे का शिकार हुए बोइंग विमान का बीमा पांच करोड़ डॉलर का है। एअर इंडिया एक्सप्रेस को विमान में हुए नुकसान के दावे की राशि का भुगतान किया जाएगा। अधिकारी ने कहा कि विमान के लिए सभी जोखिमों को बीमा में कवर किया गया है। दावों की प्रक्रिया के एक हिस्से के रूप में बीमाकर्ता/पुनर्बीमाकर्ता दुर्घटना जांच रिपोर्ट, विमान रखरखाव लॉग बुक और पायलट लॉग बुक जैसे दस्तावेजों की भी मांग करेंगे। अधिकारी ने यह भी कहा कि विमान निमार्ता बोइंग भी दुर्घटना के कारणों को जानना चाहेगी।

कोझिकोड विमान हादसे में हो गई थी 18 लोगों की मौत
एअर इंडिया एक्सप्रेस का विमान शुक्रवार की शाम केरल के कोझिकोड हवाई अड्डे पर रनवे से फिसल गया था और एक खाई में जा गिरा था। इस हादसे में विमान दो टुकड़ों में टूट गया, जिससे 18 लोगों की मौत हो गई और कई अन्य घायल हो गए। अब विमान को हुए कुल नुकसान को आंका जाएगा और उसी आधार पर विमानन कंपनी को बीमा कंपनी से धनराशि मिलेगी। यात्री देयता या यात्रियों के कानूनी उत्तराधिकारियों को दिए जाने वाले मुआवजे के संबंध में स्थिति का जायजा लेने के लिए एक कानूनी टीम होगी। यात्री देयता सामान के मूल्य को भी कवर करती है।

Show More
Saurabh Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned