अस्थिर बाजार में बुद्धिमानी से करें संपत्ति आवंटन, मिलेगा बेहतर रिटर्न

इस साल के शुरूआत में शेयर बाजार अपने उच्चतम स्तर काे छुआ है, इससे घरेलू निवेशकाें काे अच्छे संकेत मिले हैं।

By: Ashutosh Verma

Updated: 27 Mar 2018, 03:55 PM IST

साल 2018 में प्रवेश करते हुए हमने देखा की शेयर बाजार अपने उच्चतम स्तर पर कारोबार कर रहा था। बीएसई सेंसेक्स 36,400 के स्तर पर पहुंच गया था।इसके बाद अचानक, जनवरी माह में हमने इक्विटी और बैलेंस्ड म्युचुअल फंड में 21,069 करोड़ रुपए का प्रवाह देखा। हालांकि यह एक अच्छा संकेत था कि निवेशक इक्विटी निवेश करने लगे। घरेलू बचत का ट्रेंड तो बदला लेकिन इसके बाद एेसा लगने लगा कि निवेश 'जोखिम' शब्द का अर्थ भूल गए हैं।


ट्रेड वाॅर आैर फेड रिजर्व के फैसले से पड़ा बाजार पर असर

हाल में बाजार में गिरावट वैश्विक स्तर पर हुई गिरावट के कारण हुई है। ट्रम्प के नेतृत्व वाली प्रशासन ने स्टील और एल्यूमीनियम के आयात शुल्क को लागू करने के लिए तैयार हो गई है। वैश्विक बाजार में गिरावट का दूसरा कारण अमरीकी बॉन्ड यील्ड में वृद्धि के कारण रहा है। अमरीकी फेडरल ब्याज दरों में वृद्धि के साथ, वैश्विक बाजार से सुरक्षा के लिए एक तेजी रही है, जिसमें उभरते हुए बाजारों में अमरीका को शामिल किया गया है। वैश्विक जोखिम का कारण भारतीय बाजार पर भारी पड़ा है, जो कि वित्त वर्ष 2012 के लिए पहले से ही उच्चतम तिमाही जीडीपी संख्या से सकारात्मक खबरों के साथ-साथ हाल के राज्य के चुनावों के परिणामों को भी छूट दे चुका है।


निवेशक ले रहे जाेखिम का संज्ञान

अस्थिर समय के बीच इक्विटी मार्केट के साथ, नौसिखिया इक्विटी निवेशक जो केवल तेजी को देख रहे थे, वे वास्तव में इक्विटी के लिए क्या देखें? छोटी अवधि में इक्विटीज अस्थिर हो जाते हैं और निवेशक अब इस जोखिम का संज्ञान ले रहे हैं। यह एक सकारात्मक संकेत है, क्योंकि ऐसे निवेशकों को अधिक सावधानी बरतने और अन्य इक्विटी वर्गों में निवेश करने के बारे में सोचने की संभावना है, जो कि सिर्फ इक्विटी मार्केट के विपरीत है।


बाजार में जारी रहेगा उतार-चढ़ाव का दौर

हमारे विचार में आगे भी भारतीय बाजार में उतार-चढ़ाव रहने की संभावना है। बाजार में बढ़ोतरी से जो सुधार की उम्मीद थी, वह अभी तक नहीं हुआ है। हम उम्मीद करते हैं कि आने वाले 12 से 18 महीनों में आय की वृद्धि बढ़ेगी। हालांकि, कच्चे तेल की स्थिर कीमतें से भारतीय बाजार को सपोर्ट मिल सकता है। इन सब के बावजूद आखिरकार कॉरपोरेट आय पर बहुत कुछ निर्भर करेगा क्‍योंकि वह ही बाजार को ऊंचाई पर ले जाने में मदद करेगा। हालांकि, अमरीका द्वारा ब्याज दरों में बढ़ोतरी के कारण बाजारों के लिए हेडविंड्स बढ़ रहे हैं। यहां तक कि अगर कंपनी के प्रदर्शन में सुधार होता है, तो ब्याज दरों में किसी भी समान वृद्धि से बाजार में कोई लाभप्रद लाभ नहीं दिखाई देगा।

Investment

फिक्स्ड इनकम और इक्विटी मार्केट दोनों ही अस्थिर

हमारे विचार में फिक्स्ड इनकम और इक्विटी मार्केट दोनों ही अस्थिर रहेगा। अस्थिरता निवेश करने का एक सामान्य हिस्सा है, इसलिए निवेशकों को आश्चर्यचकित नहीं होना चाहिए। निवेशकों के लिए इस तरह के माहौल में सिर्फ परिसंपत्ति आवंटन पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए।


एसेट आवंटन कुंजी है

यह समझना जरूरी है कि इक्विटी एक शून्य-जोखिम वाले एसेट क्‍लास नहीं है, लेकिन निश्चित रूप से धैर्य और अनुशासित निवेश का पुरस्कार मिलता है। इसके अलावा वित्तीय बाजारों में अस्थिरता एक अभिन्न अंग है।जबकि इक्विटी उचित रिटर्न दे सकते हैं, फिर भी मध्यम अवधि के लिए रिटर्न की उम्मीदों को कम कर देना चाहिए, क्योंकि बाजार वैल्यूएशन पहले ही महंगा है। जब किसी भी परिसंपत्ति वर्ग को अर्थपूर्ण रूप से कम मूल्यांकन किया जाता है, तो उसके बाद आप अपने अधिकांश पोर्टफोलियो को इसमें निवेश करना चुन सकते हैं। यदि इक्विटी 2008 या 2013 जैसी सस्‍ती परिसंपत्ति वर्ग बन जाती है, तो केवल इक्विटी में निवेश करना बुद्धिमान भरा फैसला हो सकता है।


अपने पोर्टफोलियो में डेट फंड को जोड़ें

हम डेट फंड में निवेश की सलाह देते हैं, मुख्य रूप से छोटी अवधि के क्रेडिट फंड के माध्यम से। ऐसे फंड में, जोखिम अवधि सीमित होता है, क्योंकि पोर्टफोलियो में 'ए' या 'एए' कागजात होते हैं। इस बिंदु पर इनकी अच्छी संभावना है क्योंकि यील्ड तेजी से बढ़ गया है। वास्तव में, इनमें से कुछ श्रेणियों पर यील्ड-मैच्‍योरिटी काफी अधिक है जो पहले से तय था। आगे, लंबी अवधि के धन के लिए सकारात्मक दीर्घकालिक दृष्टिकोण को देखते हुए ये व्यवस्थित निवेश के लिए उपयुक्त हो सकते हैं। हमें इस श्रेणी में अल्पकालिक अस्थिरता की उम्मीद है, विशेष रूप से वैश्विक यील्ड बढ़ने के साथ। अस्थिर समय में व्यवस्थित निवेश लंबी अवधि के लिए धन सृजन में मदद करता है।


क्लोज एंडेड फंड के जरिए अवसर

ट्रिलियन डॉलर क्लब में प्रवेश करने के लिए भारत ने 60 साल लिए हैं। लेकिन आकार को दोगुना करने के लिए लगभग 7 साल लग गए। बढ़ते जीडीपी के साथ युवा जनसंख्या को जोड़ना, खपत एक स्थायी दीर्घ अवधि के लिए एक संरचनात्मक कहानी प्रतीत होती है। यहां उपलब्ध अवसरों को विवेकाधीन और गैर-विवेकाधीन व्यय में देखा जा सकता है। खपत बढ़ने से जो सेक्टर सबसे ज्‍यादा लाभान्वित होंगे वे हैं उपभोक्ता गैर-टिकाऊ, उपभोक्ता टिकाऊ, ऑटो, मनोरंजन, स्वास्थ्य सेवा शामिल हैं।

नाेट : उपरोक्त लेख निमेश शाह द्वारा लिखित है। वो आर्इसीअार्इसीआर्इ प्रूडेंशियल के एमडी आैर सीर्इआे हैं

Show More
Ashutosh Verma Content Writing
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned