2 महीने में सबसे महंगा हुआ हमाटर और प्याज

Manish Ranjan

Publish: Nov, 30 2017 02:59:20 PM (IST)

म्‍युचुअल फंड

नई दिल्ली। आमतौर पर सर्दियों के सीजन में रोज इस्तेमाल होने वाली सब्जियों की कीमत हर साल बढ़ती है। लेकिन इस साल ज्यादा बारिश इनकी कीमतें में 120 से 125 फीसदी तक बढ़ा दी है। थोक बाजार में जो टमाटर दो महीने पहले 20 रुपए किलो था वो अब बढ़कर 44 रुपए तक पहुंच गया है। ठीक इसी तरह प्याज के दाम भी 125 फीसदी तक बढ़ गए है। जो प्याज थोक बाजार में सितंबर में 20 रुपए किलो था वो अब बढ़कर 45 रुपए प्रति किलों जा पहुंचा है।
क्यो बढ़ रहे हैं दाम
ज्यादा बारिश के चलते सब्जियों की सप्लाई पर असर पड़ा है। दिल्ली के कारोबारी बाबूलाल पारिख के मुताबिक हर साल कीमतें इतनी ज्‍यादा नहीं होती हैं लेकिन इस बार ज्‍यादा बारिश की वजह से सब्जियां इतनी महंगी हुई है और सारा गणित बिगड़ गया है। हालांकि पहले के मुकाबले सप्लाई में सुधार हो रहा है। इसलिए उम्मीद की जा रही है कि 15-20 दिनों में कीमतों पर लगाम लग सकता है।
कौन सी सब्जी कितनी महंगी
पिछले साल नवंबर में जब नोटबंदी की घोषणा की गई थी तो सब्जियों के दाम में अचानक बड़ी गिरावट दर्ज की गई थी। किसानों को सही मूल्य न मिलने के चलते अपनी सब्जियों को सड़कों पर फेकना पड़ा था। पिछले साल जो केवल 7 रुपए किलो था वो आज बढ़कर 20 रुपए पर जा पहुंची है। बाकि सब्जियों का भी कमोवेश यही हाल है। सालाना आधार पर देखा जाए सब्जियां 214 फीसदी तक महंगी हो चुकी हैं।
ज्यादा पैदावार से मिलेगी राहत
इस साल प्याज की पैदावार ज्यादा हुई है। नवंबर के दौरान आवक भी बढ़ी है जिससे आने वाले दिनों में थोक बाजार में दाम में कमी आने की उम्मीद की जा रही है। जिसके चलते रिटेल मार्केट में भी इसकी कीमतों में नरमी आ सकती है। देश की सबसे बड़ी प्याज मंडी लासलगांव में प्याज की आवक की बात करें तो नवंबर में 28 नवंबर तक मासिक आवक 2.27 लाख क्विंटल रही है जबकि पिछले साल नवंबर में कुल आवक 1.57 लाख क्विंटल दर्ज की गई थी। इसका मतलब साफ है कि अगर आवक ज्यादा रही है तो अगले एक महीने में कीमतें घटती हुई नजर आएंगी।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned