scriptaccused of molesting 17 students of class 10 on pretext of practical | प्रेक्टिकल के बहाने 10वीं की 17 छात्राओं से छेड़छाड़ का आरोप, लोगों ने किया हंगामा | Patrika News

प्रेक्टिकल के बहाने 10वीं की 17 छात्राओं से छेड़छाड़ का आरोप, लोगों ने किया हंगामा

निजी पब्लिक स्कूल के प्रधानाध्यापक ने गुरु-शिष्य के रिश्ते को शर्मसार किया है। प्रधानाध्यापक ने स्कूल की 17 छात्राओं को दसवीं कक्षा के बोर्ड के प्रैक्टिकल कराने के बहाने बुलाकर पूरी रात एक विद्यालय में रखा। जहां छात्राओं को खिचड़ी में नशीला पदार्थ खिलाकर अश्लील हरकतें की। इसकी जानकारी मिलते ही छात्राओं के परिजनों ने विद्यालय पहुंचकर हंगामा किया।

मुजफ्फरनगर

Published: December 05, 2021 04:22:03 pm

मुजफ्फरनगर. उत्तर प्रदेश में सरकार भले ही बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ अभियान चला रही हो और महिला सुरक्षा के लाख दावे पेश कर रही हो। लेकिन, प्रदेश की तस्वीर कुछ और ही बयां कर रही है। ताजा मामला मुजफ्फरनगर के थाना भोपा क्षेत्र के गांव मजलिसपुर तौफिर का है। जहां एक निजी पब्लिक स्कूल के प्रधानाध्यापक ने गुरु-शिष्य के रिश्ते को शर्मसार किया है। प्रधानाध्यापक ने स्कूल की 17 छात्राओं को दसवीं कक्षा के बोर्ड के प्रैक्टिकल कराने के बहाने बुलाकर पूरी रात एक विद्यालय में रखा। जहां छात्राओं को खिचड़ी में नशीला पदार्थ खिलाकर अश्लील हरकतें की। इसकी जानकारी मिलते ही छात्राओं के परिजनों ने विद्यालय पहुंचकर हंगामा किया। ग्राम प्रधान की शिकायत पर आरोपी अध्यापक को हिरासत में भी लिया, लेकिन बाद में छोड़ दिया। परिजनों का आरोप है कि राजनीतिक दबाव के चलते छात्राओं के मान सम्मान को ताक पर रखकर आरोपी अध्यापक के खिलाफ बिना कार्रवाई के ही छोड़ दिया गया।
muzaffarnagar.jpg
दरअसल, यह घटना पुरकाजी थाना क्षेत्र के गांव तुगलकपुर कमहेड़ा स्थित एक प्राइवेट स्कूल की है। जहां छात्राओं को प्रैक्टिकल के नाम पर पूरी रात रखा गया। आरोप है कि अध्यापक ने शाम को छात्राओं को खिचड़ी में नशीला पदार्थ खिलाकर अश्लील हरकतें की हैं। घटना के बाद छात्राओं के परिजनों ने विद्यालय में जाकर हंगामा किया। इसके बाद कमहेड़ा के ग्राम प्रधान की शिकायत पर पुलिस ने आरोपी अध्यापक को हिरासत में लिया और फिर बाद में छोड़ भी दिया। लोगों का आरोप है कि राजनीतिक दबाव के चलते छात्राओं के मान सम्मान को ताक पर रखकर आरोपी अध्यापक के खिलाफ बिना कार्यवाही के छोड़ा गया है।
पीड़िता छात्राओं के अनुसार, उन्हें कमहेड़ा के विद्यालय में बीते 18 नवंबर को टेस्ट कराने के लिए ले जाया गया था। इसके बाद रात में प्रेक्टिकल के बहाने रोका गया। जहा खाने-पीने के पदार्थ में स्कूल प्रबंधक ने कुछ नशीला पदार्थ मिलाकर सबको बेहोश कर दिया और छात्राओं से छेड़छाड़ की गई। इतना ही नहीं एक शिक्षक ने छात्रा के साथ बेरहमी से मारपीट भी की। पूरे मामले को लेकर क्षेत्र में तरह तरह की चर्चा है। 17 छात्राओं में से 2 छात्राओं ने हिम्मत जुटाकर कचहरी परिसर में मीडिया के सामने रूबरू होते हुए आपबीती सुनाई और आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की।
छात्राओं ने पुलिस मुख्यालय पहुंचकर की सख्त कार्रवाई की मांग

इस घटना को लेकर ग्रामीणों में रोष देखने को मिल रहा है। ग्रामीणों का कहना है कि पुलिस मामले को रफा-दफा करने का प्रयास कर रही है। इसलिए कई दिन बीत जाने के बाद भी आरोपी के खिलाफ न तो मुकदमा दर्ज हुआ और न ही कोई कार्रवाई की गई। पीड़िता छात्राओं ने पुलिस मुख्यालय पहुंचकर शिकायत दर्ज कराते हुए आरोपी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Subhash Chandra Bose Jayanti 2022: इंडिया गेट पर लगेगी नेताजी की भव्य प्रतिमा, पीएम करेंगे होलोग्राम का अनावरणAssembly Election 2022: चुनाव आयोग का फैसला, रैली-रोड शो पर जारी रहेगी पाबंदीगोवा में बीजेपी को एक और झटका, पूर्व सीएम लक्ष्मीकांत पारसेकर ने भी दिया इस्तीफाUP चुनाव में PM Modi से क्यों नाराज़ हो रहे हैं बिहार मुख्यमंत्री नितीश कुमारPunjab Election 2022: भगवंत मान का सीएम चन्नी को चैलेंज, दम है तो धुरी सीट से लड़ें चुनाव20 आईपीएस का तबादला, नवज्योति गोगोई बने जोधपुर पुलिस कमिश्नरइस ऑटो चालक के हुनर के फैन हुए आनंद महिंद्रा, Tweet कर कहा 'ये तो मैनेजमेंट का प्रोफेसर है'खुशखबरी: अलवर में नया सफारी रूट शुरु हुआ, पर्यटन को मिलेगा बढ़ावा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.