मुजफ्फरनगर: कोर्ट ने कवाल काण्ड के पांच आरोपियों को भेजा जेल

मुजफ्फरनगर: कोर्ट ने कवाल काण्ड के पांच आरोपियों को भेजा जेल

Jai Prakash | Updated: 04 Jun 2019, 09:34:31 PM (IST) Muzaffarnagar, Muzaffernagar, Uttar Pradesh, India

-कोर्ट ने उन्हें न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया है

-एक आरोपी पुलिस की पकड़ से अभी भी बाहर है।

मुजफ्फरनगर: जनपद में 2013 में हुए सांप्रदायिक दंगों को लेकर उस समय नया मोड़ आ गया जब कवाल कांड में छेड़छाड़ के आरोपी शाहनवाज की हत्या के पांच आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया। जहां से कोर्ट ने उन्हें न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया है। जेल भेजे गए लोगों में कवाल कांड में मारे गए भाई सचिन व गौरव के परिजन शामिल हैं। जिसमें एक आरोपी पुलिस की पकड़ से अभी भी बाहर है।

VIDEO : कार्बेट पार्क के जंगल में जानवरों के लिए हुई ऐसी व्यवस्था, गर्मियों में हो जाएगी 'मोज’

भड़का था दंगा
यहां बता दें 27 अगस्त 2013 को थाना जानसठ क्षेत्र के गांव कवाल में हुए तीहरे हत्याकांड के बाद जनपद में सांप्रदायिक दंगा भड़का था। जिसमें 60 से भी ज्यादा लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी थी। मामला मुजफ्फरनगर में 2013 में हुए सांप्रदायिक दंगों से जुड़ा है। जिसमें कवाल कांड के दौरान हुए शाहनवाज हत्याकांड मामले में वांछित चल रहे गांव मलिकपुरा निवासी 6 आरोपियों से थाना जानसठ पुलिस ने पांच आरोपियों प्रह्लाद, तेन्दर उर्फ तेंदू, विशन, देवेंद्र और जितेंद्र सहित पांच आरोपियों को उस समय गिरफ्तार कर लिया जब पुलिस कोर्ट द्वारा जारी गैर जमानती वारंट के बाद आरोपियों के घर कुर्की की कार्रवाई करने पहुंची थी।

गर्मी से बचने के लिए ईद से पहले जान जाेखिम में डाल रहे ये युवा, देखें वीडियाे

पुलिस को पांचों आरोपी घर पर ही बैठे मिले थे। जिसमें पुलिस ने कोर्ट के आदेशों का पालन करते हुए पांचों आरोपियों को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया गया। जिसमें आरोपियों की ओर से आए अधिवक्ताओं अनिल जिंदल व अमीर अहमद द्वारा कोर्ट में याचिका डाली गई, जिसे कोर्ट ने खारिज करते हुए पांचों आरोपियों को न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया है। इस मामले में छठा आरोपी रविंद्र सिंह पुलिस पकड़ से अभी भी बाहर है।

छुट्टी लेकर घर आए बीएसएफ जवान की लाइसेंसी बंदूक की गोली लगने से हुर्इ मौत, जांच में जुटी पुलिस


ये था मामला

जनपद मुजफ्फरनगर के थाना जानसठ कोतवाली क्षेत्र के गांव कवाल में 27 अगस्त 2013 को स्कूल जा रही छात्रा से छेड़छाड़ का मामला सामने आने पर पीड़िता के भाई गांव मलिकपुरा निवासी सचिन और गौरव द्वारा विरोध करते हुए छेड़छाड़ के आरोपी शाहनवाज कितनी जबरदस्त पिटाई कर दी थी। जिसकी इलाज के दौरान मौत हो गई थी। इसी के विरोध में दोनों में ममेरे और फुफेरे भाइयों सचिन और गौरव को गांव कवाल में ही भीड़ द्वारा पीट-पीटकर मौत के घाट उतार दिया गया था। जिसमें दोनों ओर से थाना जानसठ में मुकदमा दर्ज कराए गए थे। इस मामले में सरकार द्वारा गठित एसआईटी द्वारा जांच के उपरांत शाहनवाज हत्याकांड में फाइनल रिपोर्ट लगा दी गई थी।

दारुल उलूम के फतवे पर मुस्लिम धार्मिक नेता मौन, लेकिन इतनी बड़ी बात भी कह दी, देखें वीडियो

गैर जमानती वारंट जारी थे

मगर इस मामले में शाहनवाज के पिता सलीम ने इस रिपोर्ट के खिलाफ न्यायालय में प्रोटेस्ट डाला था। जिसे कोर्ट ने स्वीकार करते हुए मलिकपुरा के उक्त छह आरोपियों को धारा 302 में तलब किया था। आरोपियों के कोर्ट में पेश न होने पर न्यायालय ने गैर जमानती वारंट जारी किए।इसके बावजूद भी आरोपी कोर्ट में पेश नहीं हुए। जिस पर गत माह सीजीएम कोर्ट ने सभी छह आरोपियों की कुर्की आदेश जारी किए थे । 7 जून तक आरोपियों को गिरफ्तार करने या उनके मकानों की कुर्की करने के आदेश पुलिस को दिए थे।

Patrika News @7pm: ईद पर गले मिलने पर दारुल उलूम ने जताया ऐतराज, एक Click में जानिए आज की पांच बड़ी खबरें, देखें वीडियो

उम्रकैद की सजा सुनाई

गौरतलब है कि कवाल कांड में भीड़ द्वारा मारे गए सचिन और गौरव हत्याकांड मामले में कोर्ट द्वारा 8 फरवरी को सभी साथ आरोपियों को दोषी करार देते हुए उम्र कैद की सजा सुनाई थी।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned