बीडीसी सदस्य के कथित अपहरण के मामले में जमकर हंगामा

प्रदर्शनकारियों ने हाईवे किया जाम
पुलिस पर कार्रवाई नहीं करने का आरोप

By: shivmani tyagi

Published: 15 Jun 2021, 11:08 PM IST

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क
मुजफ्फरनगर ( Muzaffarnagar ) उत्तर प्रदेश में जिला पंचायत अध्यक्ष पद के साथ-साथ ब्लॉक प्रमुख पद पर चुनाव की सुगबुगाहट तेज हो चली है। जिसके चलते ब्लाक प्रमुख पद और जिला पंचायत अध्यक्ष पद के भावी प्रत्याशी अपनी जीत को लेकर जोड़-तोड़ में लग गए हैं। मुजफ्फरनगर में इस समय सबसे गर्म मामला ब्लाक प्रमुख पद के लिए हो रहा है। जिसमें बीडीसी सदस्यों के अपहरण का सिलसिला शुरू हो गया है। सत्ता पक्ष के लोगों और विपक्ष के बीच शह और मात का खेल भी शुरू हो गया है।

यह भी पढ़ें: परिवार को पसंद नहीं था ब्वायफ्रेंड से मिलना, बीए की छात्रा ने जहर खाकर दे दी जान

तितावी क्षेत्र के गांव ढिंढावली से एक बीडीसी सदस्य के गायब होने का मामला कुछ इस कदर सुर्खियों में कि राष्ट्रीय लोक दल और भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ताओं ने थाना तितावी पर धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया। देखते ही देखते मौके पर ग्रामीणों की भारी भीड़ जमा हो गई। रालोद कार्यकर्ताओं का आरोप है कि बीडीसी सदस्य देवेंद्र का एक बाहुबली प्रत्याशी ने हथियारों के बल पर अपहरण कर लिया है।

यह भी पढ़ें: नोएडा पुलिस और वाहन चोरो के बीच मुठभेड़

भारतीय किसान यूनियन के जिला अध्यक्ष धीरज लाटियान राष्ट्रीय लोक दल के जिला अध्यक्ष अजीत राठी के नेतृत्व में सैकड़ों ग्रामीण तितावी थाने पर धरने पर बैठ गए वहीं कथित रूप से अपहृत बीडीसी सदस्य धर्मेंद्र की पत्नी मंजू ने भी ब्लाक प्रमुख पद के आरोपी भावी प्रत्याशी पर अपने पति के आपहरण का सीधा सीधा आरोप लगाया है। पीड़िता मंजू का कहना है कि उनके पति बीडीसी सदस्य पद का चुनाव जीते थे। घर के बाहर कई लोग खड़े थे और मौका देखते हैं उन्होंने उसके पति को जबरन खींच लिया और गाड़ी में डालकर ले गए। वही बीडीसी सदस्य धर्मेंद्र प्रजापति की मां का कहना है कि उनके साथ पुलिसकर्मी भी थे।

यह भी पढ़ें: शिवपाल सिंह यादव के बारे में अखिलेश यादव ने ऐसा क्या बोला की सब रह गए हैरान

इन्ही आरोपों के साथ बीडीसी सदस्य धर्मेंद्र प्रजापति की पत्नी मंजू और उसकी मां के साथ साथ सैकड़ों ग्रामीण थाने पर पहुंच गए जिसमें मंजू ने अपने पति के अपहरण की तहरीर थाने में देते हुए मुकदमा दर्ज कराने की मांग की है। राष्ट्रीय लोक दल और भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ताओं के पदाधिकारियों ने थाने के घेराव के साथ-साथ पानीपत खटीमा मार्ग जाम कर दिया और शाम होने पर हाईवे टेंट गाड़ने शुरू कर दिए। इस मामले में उस समय नया मोड़ आ गया जब कथित रूप से अपहरण बीडीसी सदस्य धर्मेंद्र प्रजापति का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ जिसमें वह यह कहता दिखाई दिया है कि वह सही सलामत है किसी काम से बाहर आया हुआ है और कुछ लोग उसकी पत्नी को अपने कब्जे में लेकर तरह-तरह के आरोप लगवा रहे हैं जबकि वह सुरक्षित है।

यह भी पढ़ें: नवजात को चुनरी में लपेट गंगा में बहाया, नाविक ने बचाया, बक्से में मिली जन्मकुंडली व भगवान की तस्वीरें

यह वीडियो सोशल मीडिया ( social media ) पर वायरल होते ही जहां सत्ता पक्ष के लोगों ने विपक्ष को घेरने का प्रयास शुरू कर दिया तो वही भारतीय किसान यूनियन के जिला अध्यक्ष धीरज लाटियान ने साफ-साफ कह दिया कि जब तक बीडीसी सदस्य धर्मेंद्र प्रजापति उनके बीच में नहीं लाए जाते तब तक उनका धरना प्रदर्शन जारी रहेगा। वही पूर्व सांसद व कांग्रेस के वरिष्ठ नेता हरेंद्र मलिक भी अपने समर्थकों के साथ मौके पर पहुंच गए जिन्होंने इस पूरे मामले को सीधा-सीधा लोकतंत्र की हत्या बताया। उन्हीने कहा कि तीन बीडीसी सदस्यों का अपहरण कर लिया गया है। परिजन थाने पर बैठे हैं लेकिन पुलिस भी इस मामले में कार्यवाही करने के बजाए पीड़ित परिवार को खाली आश्वासन दे रही है। अगर इस मामले में कोई कार्यवाही नहीं होती तो वे हिंसक तरीके से सत्याग्रह करने को मजबूर होंगे।

यह भी पढ़ें: Uttar Pradesh Assembly election 2022: चाचा शिवपाल से गठबंधन करेंगे अखिलेश यादव

यह भी पढ़ें: संजय सिंह के घर पर हुआ हमला, सांसद ने कहा - हजार हमले कराओ, लेकिन चंदा चोरों को बेनकाब करके रहूंगा

shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned