भाजपा के किस बड़े नेता ने कहा, थोड़ी भी शर्म बाकी है, तो बता दें कब होगा गन्ने का भुगतान, देखें वीडियो

हुकुम सिंह ने कहा, मिल मालिक हों गिरफ्तार, तब होगा भुगतान

By: amit2 sharma

Published: 11 Sep 2017, 08:01 PM IST

शामली। योगी सरकार के मंत्री जहाँ किसान क़र्ज़ माफ़ी के प्रमाणपत्र बांटकर अपनी पीठ थपथपा रहे हैं, वहीं भाजपा के ही दिग्गज नेता कैराना सांसद हुकुम सिंह ऐसे ही एक कार्यक्रम में अपने ही सरकार के एक मंत्री सुरेश राणा पर बरस पड़े. उन्होंने कहा कि अगर मंत्री की आँखों में थोड़ी सी भी शर्म बाकी है तो वे ये बता दें कि गन्ने का बाकी का भुगतान कब होगा.


गणना किसानों का दर्द हुकुम सिंह को इस बगावती तेवर तक ले आएगा, ऐसी उम्मीद खुद जनता को भी नहीं थी. लेकिन उनके इस बयान के बाद लोगों ने जमकर तालियां बजायीं. उनके इस बयान के लिए अभी भी उनकी खूब प्रशंसा हो रही है.


उन्होंने अपने भाषण के दौरान कई बार अप्रत्यक्ष रूप से गन्ना विकास एवं शुगर मिल राज्यमंत्री सुरेश राणा पर निशाना साधा। उन्होंने मिल मालिकों को नसीहत देते हुए साफ कहा कि यदि उनमें थोडी भी शर्म बाकी है तो वह पब्लिक के बीच आकर जवाब दें कि गन्ना भुगतान क्यों नहीं हुआ।

 

कार्यक्रम में क्या हुआ

 

सोमवार को नवीन मंडी स्थल में आयोजित फसल ऋण मोचन योजना के अन्तर्गत किसानों को ऋण मोचन प्रमाण पत्र वितरण समारोह में सांसद हुकुम सिंह ने केंद्र एवं भाजपा सरकार की सराहना करने के साथ ही किसी का नाम लिए बगैर किसानों के गन्ना भुगतान की समस्या को उठाया। उन्होंने कहा कि वह किसी की आलेचना नहीं कर रहे है, लेकिन गन्न का नया पेराई सत्र प्रारंभ होने जा रहा है और किसानों का गत सत्र का भुगतान अभी तक नहीं हुआ है। अगर थोडी भी शर्म बाकी है तो वह मेरी बात का जवाब दे और पब्लिक के बीच आकर बता दे कि गन्ना भुगतान क्यों नहीं हुआ।

 

उन्होंने कहा कि गन्ना आपने लिया, और गन्ने से रिकवरी औसत पहले आठ या साढे नौ तक आता था, लेकिन इस वर्ष साढे 14 से लेकर साढे 15 प्रतिशत रहा। पहले चीनी के दाम 24 रुपये तक आ जाते थे लेकिन इस बार चीनी कभी 36 रुपये किलो से कम नहीं आयी। शुगर मिल मालिकों ने दाम भी ज्यादा ले लिए और रिकवरी भी ज्यादा ली, लेकिन किसानों का भुगतान दबाकर बैठ गए। उन्होंने कहा कि मिल मालिकों की हठधर्मिता के चलते किसान परेशान है। जानूबझकर किसानों का गन्ना भुगतान नहीं किया जा रहा है।

 

मिल मालिक हों गिरफ्तार, तब होगा भुगतान

 

तत्कालीन मुख्यमंत्री कल्याण सिंह के कार्यकाल का उदाहरण देते हुए कहा उस समय देबवंद शुगर मिल प्रबंधन के राज्य से लेकर केंद्र सरकार तक अच्छे संबंध रहे थे, लेकिन गन्ने के बकाया भुगतान की बात आयी तो वहां के डीएम ने रात में ही मिल मालिक को गिरफ्तार किया तो अगले ही दिन भुगतान भी हो गया था। उन्होंने शामली डीएम से भी इसी प्रकार सख्त कदम उठाते हुए गन्ना भुगतान के शुगर मिलों से भुगतान की व्यवस्था सुनिश्चित कराने की बात कही। उधर इस संबंध में गन्ना विकास राज्यमंत्री सुरेश राणा का कहना है कि हुकुम सिंह उनके पिता तुल्य है। लेकिन जहां तक भुगतान की बात है तो प्रदेश में इस बार सितंबर माह तक 94 फीसदी भुगतान हो चुका है। जहां तक रिकवरी की बात है तो गत वर्ष भी रिकवरी 10.61 थी और इस वर्ष भी रिकवरी 10.61 फीसदी रही।

Show More
amit2 sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned