Mayawati को CM बनाने की बात कहने वाले पूर्व विधायक सा‍इकिल पर सवार, अब सपा को सत्‍ता में लाने का लिया संकल्‍प

Highlights

  • चरथावल और पुरकाजी से विधायक रह चुके हैं अनिल कुमार
  • 15 जनवरी के Mayawati के जन्‍मदिन पर काटा था केक
  • 20 जनवरी को समर्थकों के साथ ज्‍वाइन कर ली सपा

मुजफ्फरनगर। 15 जनवरी (January) को बहुजन समाज पार्टी (BSP) की मुखिया मायावती (Mayawati) का जन्‍मदिन पूरे उत्‍तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में धूमधाम से मनाया गया था। मायावती के 64वें जन्मदिन पर जगह-जगह केक काटकर खुशियां मनाई गई थीं। मुजफ्फरनगर (Muzaffarnagar) में भी मायावती के करीबी पूर्व विधायक समेत कई बसपा नेताओं ने केक काटकर मायावती का जन्‍मदिन मनाया था।

अखिलेश यादव को दे दी थी सूची

अभी केक को कटे एक हफ्ते भी हीं बीते थे कि पूर्व विधायक अनिल कुमार ने बसपा का साथ छोड़ दिया। उन्‍होंने सोमवार को लखनऊ (Lucknow) में सपा (Samajwadi Party) का दामन थाम लिया। बसपा के टिकट पर दो बार विधायक रह चुके अनिल कुमार ने करीब 50 समर्थकों के साथ समाजवादी पार्टी का दामन थामा। इसकी बाकायदा सूची सपा अध्‍यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh yadav) को दे दी गई थी, जो रविवार को सोशल मीडिया पर वायरल हो गई। इसमें सपा में शामिल होने वाले सभी बसपाइयों के नाम दिए गए हैं। सोमवार को सभी ने साइकिल की सवारी शुरू कर दी।

यह भी पढ़ें: हाथी का साथ छोड़ने वाले बसपा के कद्दावर नेता राम प्रसाद चौधरी के बारे में जानिए

2017 का चुनाव हा‍रे थे

अनिल कुमार काफी समय से बसपा से जुड़े रहे हैं। इतना ही नहीं निलंबित किए जाने के बाद भी वह बसपा के साथ वफादारी की कसमें खाते रहे थे। बाद में उनकी वापसी हो गई थी। अनिल कुमार को मायावती का करीबी माना जाता है। उनको 2007 में बसपा ने चरथावल विधानसभा से टिकट दिया था। इसमें उन्‍होंने जीत दर्ज की थी। नए परिसीमन के बाद पार्टी ने 2012 विधानसभा चुनाव में उनका पुरकाजी से टिकट काट दिया था। बसपा ने वहां से जेपी निमी को उम्‍मीदवचार बनाया था लेकिन अनिल कुमार ने पार्टी के प्रति भरोसा जताया था। बाद में बसपा ने उनको ही पुरकाजी से चुनाव लड़ाया था। 2012 में भी उन्‍होंने जीत हासिल की थी। 2017 के विधानसभा चुनाव में उनको लगातार तीसरा बार पार्टी ने टिकट दिया, लेकिन वह भाजपा उम्‍मीदवार प्रमोद उटवाल से हार गए।

यह भी पढ़ें: समाजवादी नेता की पुण्यतिथि में बार बालाओं ने लगाए अश्लील ठुमके, शिवपाल यादव के जाते ही बदला मंच का नजारा

पार्टी से किए गए थे निलंबित

जनवरी 2018 में उनको पार्टी से निलंबित कर दिया गया। उन पर पार्टी विरोधी गतिविधियों में लिप्‍त होने का आरोप लगा। अनिल कुमार के साथ ही वेस्‍ट यूपी के जोन कॉर्डिनेटर डॉ. पुरषोत्‍तम को भी पार्टी से निलंबित कर दिया गया था। उस समय भी अनिल कुमार ने कहा था कि वह पार्टी के प्रति वफादार थे, हैं और रहेंगे। करीब माह पहले ही उनका निलंबन वापस हुआ था। इसके बाद 15 जनवरी 2020 को मायावती का जन्‍मदिन मनाया गया। उसमें महावीर चौक स्थित बहुजन समाज पार्टी कार्यालय पर जन्‍मदिन का केक काटा गया। उसमें पूर्व विधायक अनिल कुमार शामिल रहे। उस दौरान नेताओं ने 2022 में बसपा सुप्रीमो को उत्‍तर प्रदेश का मुख्‍यमंत्री बनाने की बात कही थी। इसके कुछ दिन बाद ही 20 जनवरी को अनिल कुमार ने सपा ज्‍वाइन कर ली। सपा ज्‍वाइन करने के बाद नेताओं ने समाजवादी पार्टी को दोबारा सत्ता में लाने का संकल्प लिया।

Show More
sharad asthana
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned