प्रधान के देवर के घर मिला करोड़ों की दवाइयों का जखीरा, एक्सपायरी डेट मिटाकर हो रहा था बड़ा खेल

मामला थाना नई मंडी के गांव शेर नगर का है। आरोपी मौके से फरार हो गया। अधिकारियों ने आरोपी के खिलाफ दर्ज कराया केस। फरार आरोपी के परिजन के नहीं दिखा पाए दवाइयों के बिल।

By: Rahul Chauhan

Published: 13 Jun 2021, 11:22 AM IST

मुजफ्फरनगर। जनपद में जिला प्रशासन ने मुखबिर की सूचना पर ड्रग्स विभाग की टीम को साथ लेकर एक दवाइयों के सप्लायर के घर छापेमारी करते हुए मौके से करोड़ों रुपए की दवाइयों का जखीरा बरामद किया है। इनमें भारी मात्रा में दवाइयां एक्सपायरी डेट की पाई गई हैं। ड्रग विभाग के अधिकारी के अनुसार आरोपी एक्सपायरी डेट की दवाइयों से तिथि मिटाकर बेचने का काम करता था। आरोपी सप्लायर मौके से फरार हो गया है। अधिकारियों का साफ तौर पर कहना है कि कई बार कहने के बावजूद भी फरार आरोपी के परिजन संबंधित दवाइयों के बिल या लाइसेंस नहीं दिखा पाए हैं, पूरा मामला आरोपी के मिलने के बाद जांच करने पर ही पता चल सकेगा।

यह भी पढ़ें: अयोध्या की तर्ज पर होगा इस शहर का विकास, दुनियाभर में बनेगी अलग पहचान

दरअसल, मामला जनपद मुजफ्फरनगर के थाना नई मंडी क्षेत्र के गांव शेर नगर का है जहां नगर मजिस्ट्रेट अभिषेक सिंह को मुखबिर द्वारा सूचना मिली थी कि गांव में वर्तमान प्रधान गुलफना पत्नी इकराम के देवर इनाम के घर भारी मात्रा में अवैध दवाइयां भरी पड़ी हैं। मुखबिर की इसी सूचना पर नगर मजिस्ट्रेट अभिषेक सिंह ने ड्रग्स इंस्पेक्टर लव कुश वह थाना नई मंडी कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक अनिल कपरवान सहित भारी पुलिस फोर्स के साथ गांव शेर नगर पहुंचे जहां पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों के साथ साथ भारी पुलिस बल देखते ही मौके पर ग्रामीणों का जमावड़ा लग गया। वहीं पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों की टीम ने अवैध रूप से दवाइयों की सप्लाई करने वाले इनाम के घर पर छापेमारी शुरू कर दी तो मौके से भारी मात्रा में दवाइयां पकड़ी गई। जिसमें मकान की पहली मंजिल पर भारी मात्रा में दवाइयां बरामद करने के बाद प्रशासनिक अधिकारी जब मकान की तीसरी मंजिल पर गए तो वहां भी भारी मात्रा में दवाइयां भरी मिलीं।

यह भी पढ़ें: यूपी में इंजीनियरिंग व पॉलीटेक्निक की ऑनलाइन परीक्षाएं जुलाई में होगी

इंस्पेक्टर द्वारा जब दवाइयों को चेक किया गया तो जिनमें भारी संख्या में एक्सपायरी डेट की भी दवाइयां पाई गईं। इस दौरान प्रधान पति इकराम भी मौके पर पहुंच गए जिनका कहना है कि उनके छोटे भाई डॉक्टरी का काम करते थे और कम रेट पर लोगों को दवाइयां देते थे बाकी ज्यादा जानकारी उन्हें नहीं है। हालांकि आरोपी इनाम पुलिस टीम के मौके पर पहुंचने से पहले मौके से फरार हो चुका था। प्रशासनिक अधिकारियों ने आरोपी के परिजनों से दवाइयों के बिल के साथ-साथ लाइसेंस दिखाने की मांग की तो परिवार कुछ भी नहीं दिखा पाया। जिस वजह से पुलिस ने सारी दवाइयों के जखीरे को कब्जे में लेते हुए जप्त कर लिया और गाड़ियों में भरकर ले गए। प्रथम दृष्टया दवाइयों की कीमत करोड़ों रुपए बताई जा रही है। जिसमें टैक्स चोरी की भी बात सामने आ सकती है। ड्रग्स इंस्पेक्टर लवकुश कुमार ने कहा कि पूरे मामले की जांच की जा रही है। जिसमें आरोपी के खिलाफ गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज किया जाएगा।

Show More
Rahul Chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned