हाथरस कांड के बाद भीम आर्मी प्रमुख को नजरबंद करने पर कार्यकर्ताओं ने की पंचायत

Highlights

- भीम आर्मी ने की हाथरस कांड के आरोपियों को फांसी की सजा देने की मांग

- योगी सरकार को बताया तानाशाह

- भीम आर्मी एकता मिशन के कार्यताओं ने लगाए सरकार विरोधी नारे

By: lokesh verma

Published: 01 Oct 2020, 12:20 PM IST

मुजफ्फरनगर. हाथरस में दलित युवती से गैंगरेप और उसके बाद भीम आर्मी संस्थापक चंद्रशेखर को नजरबंद करने पर भीम आर्मी कार्यकर्ताओं ने मुजफ्फरनगर के थाना भोपा क्षेत्र के कस्बा भोकरहेडी रविदास आश्रम में पंचायत का आयोजन किया। पंचायत के बाद मृतक युवती के परिवार को 50 लाख का मुआवजे समेत सरकारी नौकरी देने की मांग का ज्ञापन मुख्यमंत्री के नाम ईओ प्रतिनिधी कार्यालय बाबू संजीव शील को दिया गया।

यह भी पढ़ें- योगी सरकार के खिलाफ फूटा युवाओं का गुस्सा, कैंडल मार्च निकालकर मांगा इंसाफ

इस दौरान भीम आर्मी एकता मिशन के कार्यकर्ताओं ने कहा कि केंद्र व प्रदेश में भाजपा शासित सरकार ने तानाशाही करते हुए पीड़िता के परिवार को बेटी का अन्तिम संस्कार करने तक का मौका नहीं दिया। पंचायत को संबोधित करते हुए भीम आर्मी जिला अध्यक्ष टीकम बोध ने कहा कि प्रदेश सरकार में दबे कुचले लोगों का योजना के तहत शोषण किया जा रहा है। हिंदू धर्म के नाम पर प्रदेश मे मौजूदा सरकार दगे कराने में लगी है। पीड़िता की बेहरमी से हत्या की गई है, यह आतंक नहीं तो और क्या है। गांव पचेंडा व मोरना में बदमाशों का जंगलराज कामय है, जिससे दो परिवार घर से बेघर हो गए हैं।

भीम आर्मी कार्यकर्ताओं ने रविदास आश्रम से नगर पंचायत कार्यालय तक सरकार के विरोध में जमकर नारेबाजी करते हुए हाथरस हत्याकांड के दरिंदों को फांसी देने की मांग की। इस दौरान अंकुर गंगवालिया, मनीष गोतम, रवि प्रकाश, सुशील, पंकज, रविंद्र, शहनवाज, भूपेंद्र, जोनी, सचिन, अकिंत, अरुण, रोहन, रवि प्रकाश, अनुज मनोज, गोरव, मोहित, प्रिंस, कुणाल, आदित्य पारस आदि सैकड़ों ने पंचायत में हिस्सा लिया।

यह भी पढ़ें- कांग्रेस को बड़ा झटका, पार्टी की चेयरपर्सन अंजू अग्रवाल ने थामा भाजपा का दामन

lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned