27 साल बाद हाथ आया कुख्यात कुरथल, लड़ चुका है विधानसभा चुनाव

 27 साल बाद हाथ आया कुख्यात कुरथल, लड़ चुका है विधानसभा चुनाव
STF nabbed 50k awardee braham singh kurthal along two ladies

sandeep tomar | Publish: Dec, 08 2016 07:40:00 PM (IST) Muzaffernagar, Uttar Pradesh, India

एसटीएफ ने कुरथल के साथ ही दो महिला बदमाशों को भी गिरफ्तार किया है

मुजफ्फरनगर। एसटीएफ नोएडा और नगर कोतवाली पुलिस ने 27 साल से फरार चल रहे कुख्यात ब्रहमसिंह कुरथल को ​दबोच लिया है। उसके साथ ही पुलिस ने पांच—पांच हजार की इनामी दो महिला बदमाशों को भी दबोचा है। कुरथल पर रंगदारी, अपहरण और हत्या के 29 मामले दर्ज हैं। पुलिस ने कुरथल के पास से एक पिस्टल, भारी मात्रा में कारतूस और एक कार भी बरामद की है। आरोपी ब्रहम सिंह पर पूर्व में 2 लाख का इनाम भी रह चूका है। वर्तमान में चुनावी रंजिश के चलते पंचायत चुनाव के दौरान कुरथल गांव की प्रधान के पति बिल्लू की हत्या के बाद से परिवार सहित फरार चल रहा था।



बना गया था साधू

ब्रहमसिंह कुरथल पश्चिमी उत्तर प्रदेश दिल्ली और उत्तराखंड में अपराध की दुनिया का बेताज बादशाह रह चूका है। राजनीतिक क्षेत्र में भी कुरथल की अच्छी खासी पकड़ रही है। इसकी पत्नी मुजफ्फरनगर जिला पंचायत की सदस्य रह चुकी है और खुद ब्रहमसिंह विधान सभा का चुनाव भी लड़ चुका है। कुरथल ने एक दशक पहले अपराध को त्याग कर साधू का चौला पहन लिया था और ग्राम पंचायत की भूमि कब्ज़ा ली थी। इसके बाद गांव में दूसरे पक्ष से इसकी रंजिश हो गई थी। ब्रहमसिंह कुरथल पर गंभीर धाराओं में विभिन्न थानों में 29 अपराधिक मुकदमे दर्ज हैं। 2015 में हुए त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के दौरान प्रधान पद के प्रत्याशी रहे बिल्लू की हत्या के आरोप में ब्रहमसिंह, पत्नी सुमन और पुत्रवधु सहित कई लोग नामजद थे और गिरफ्तारी के डर से फरार चल रहे थे जिन्हें गिरफ्तार कर लिया गया है।

बनाया अपना गैंग

ब्रह्मसिंह कुरथल मूल रूप से मुज़फ्फरनगर के थाना बुढाना क्षेत्र के गांव कुरथल का रहने वाला और हाईस्कूल पास है। पुलिस के मुताबिक वर्ष 1989 में ब्रह्मसिंह का गांव के ही चंद्रपाल उर्फ़ छोटू से विवाद हो गया जिस पर ब्रह्मसिंह ने छोटू को जान से मारने की नियत से फायरिंग की थी जिसमें छोटू बच गया था। तभी ब्रह्मसिंह कुरथल ने अपना एक बड़ा गैंग तैयार कर अपराध की दुनिया में कदम रखा था। 1990 के दशक में ब्रह्मसिंह कुरथल गैंग ने पश्चिमी उत्तर प्रदेश में ताबड़तोड़ व्यापारियों के अपहरण, रंगदारी और हत्या की घटनाओं को अंजाम देकर दहशत फैला दी थी।

दो लाख का इनाम


बाद में उत्तर प्रदेश पुलिस ने इस शातिर अपराधी पर दो लाख का इनाम घोषित कर दिया। 1994 में पहली बार ये कुख्यात बदमाश दिल्ली स्पेशल सैल ने थाना प्रीत विहार दिल्ली से गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। दो साल जेल में रहने के बाद ब्रह्मसिंह एक बार फिर पुलिस के लिए सिर दर्द बन गया। इस बीच ब्रह्मसिंह कुरथल की पत्नी 2004 में बुढ़ाना क्षेत्र से जिला पंचायत सदस्य का चुनाव जीत गयी और फिर 2009 में ब्रह्मसिंह की पत्नी सुमन ग्राम प्रधान का चुनाव जीत कर ग्राम प्रधान बन गयी।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned