डिपार्टमेन्टल स्टोर खोलने के नाम पर 19 लाख की ठगी

नागौर कोतवाली थाने में मामला दर्ज

By: shyam choudhary

Updated: 23 Aug 2020, 10:27 AM IST

नागौर. कोतवाली थाने में शहर के श्रीराम कॉलोनी में रहने वाले एक बेरोजगार युवक ने न्यायालय के इस्तगासे के जरिए आधा दर्जन लोगों के खिलाफ धोखाधड़ी व रोजगार देने के नाम 19 लाख रुपए की ठगी करने का मामला दर्ज कराया है।

पुलिस के अनुसार शहर के श्रीराम कॉलोनी निवासी राजेश पुत्र सम्पतलाल बाह्मण ने रिपोर्ट देकर बताया कि वह पढ़ा-लिखा बेरोजगार युवक है, जिसने इंटरनेट पर डिजीटल बिग मार्ट रिटेल प्राईवेट लिमिटेड कम्पनी का विज्ञापन देखा, जिसके ब्राउजर में कम्पनी के व्यापार के बारे में वर्णन किया हुआ था तथा उसमें उक्त कम्पनी अपने आप को डिपार्टमेन्टल मार्ट खोलने की एजेन्सी के बारे में लिखा था। जिसको देखकर उसने भी नागौर में एक डिपार्टमेंटल शॉप खोलने की लिए कम्पनी के टोल फ्री नम्बर पर सम्पर्क किया तो उन्होंने शरद मिश्रा उर्फ शरद चंद त्रिपाठी से सम्पर्क करने के लिए कहा।

परिवादी ने शरद चन्द त्रिपाठी से बात की तो उसने परिवादी को यह बताया कि कम्पनी लोगों को डिपार्टमेंटल स्टोर खोलने की एजेन्सी देती है, जिसके एवज में 5000 रुपए प्रति वर्ग की फीस लेती है तथा चार लाख रुपए एजेन्सी फीस के रूप में लेती है तथा इनकी एवज में कम्पनी 50 रुपए प्रति वर्गफीट का दुकान किराया, 10 प्रतिशत का माल विक्रय का मार्जिन लाभांश तथा 12 प्रतिशत ब्याज कुल निवेश का लाभाश के रूप में देती है। इस कारण से वह शरद मिश्रा की बातों में आ गया तथा कम्पनी की एजेन्सी लेने के उद्देश्य से अपने भाई मनोज व ओमप्रकाश सांखला के साथ गुडग़ांव चला गया। वहां कम्पनी के शरद मिश्रा, अजय शर्मा, विजय शेखावत, गिरीश कुमार, आकाश कुमार व परजेज आदि से मिले। आरोपियों ने उसे कम्पनी के तीन डायरेक्टर बताए, जिसमें से एक रिछपालसिंह था।

चार महीने भेजा माल, फिर हो गए फरार
परिवादी ने बताया कि उसे एक एग्रीमेंट का प्रारूप दिया और कहा कि आपको यदि इस कम्पनी की एजेन्सी लेनी है तो आपको 15 लाख रुपए का इन्वेस्टमेंट करना होगा तथा 40 हजार रुपए फ्रेंचाइजी फीस के रूप में जमा करवाने होंगे। जिस पर उसने नागौर आकर एग्रीमेंट तैयार करवाया और उसकी प्रति कोरियर से भिजवाई। इसके बाद 8 मई 2019 को 10 लाख रुपए तथा 9 अगस्त 2019 को 9 लाख रुपए डिजीटल बिग मार्ट कम्पनी के नाम से जमा करवाए। इसके बाद उसने नागौर में कॉलेज रोड पर कम्पनी के नियमानुसार एक डिपार्टमेंटल स्टोर डिजीटल बिग मार्ट कम्पनी के नाम से 11 अक्टूबर 2019 को खोला, जिसमें जनवरी 2020 तक सुचारू रूप से कम्पनी ने माल भेजा तथा फरवरी 2020 में कम्पनी की ओर से परिवादी को किसी प्रकार का रिस्पोंस नहीं दिया गया। बाद में कम्पनी के कार्मिकों ने परिवादी का फोन रिसीव करना बंद कर दिया। जब कम्पनी की ओर से जबाब नहीं मिला उसने कम्पनी के ऑफिस की जानकारी ली, तो पता चला कि आरोपी कम्पनी बंद करके फरार हो गए। पुलिस ने विभिन्न धाराओं में मामला दर्ज कर जांच शुरू की है।

shyam choudhary Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned