फरार चल रहे 9 में से 2 ने अदालत में किया समर्पण, भेजा जेल

चार दिनों में तीन आरोपियों ने किया समर्पण, डांगावास हत्याकांड से 7 फरार आरोपी अब भी सीबीआई की गिरफ्त से दूर

By: Sandeep Pandey

Updated: 03 Dec 2019, 11:35 AM IST

मेड़ता सिटी. बहुचर्चित डांगावास हत्याकांड मामले की जांच कर रही सीबीआई टीम द्वारा 50-50 हजार रुपए के इनाम घोषित किए जाने के बाद 9 फरार चल रहे आरोपियों में से दो ने सोमवार को न्यायालय में समर्पण किया। दोनों आरोपियों को न्यायालय ने जेल भेजने के आदेश दिए।जोधपुर हाईकोर्ट ने तीन माह के लिए ट्रायल रोकने के निर्देश दिए तो हरकत में आई सीबीआई टीम ने प्रकरण को लेकर कार्रवाईयां शुरू की। हाईकोर्ट के आदेश के अगले दिन पुलिस ने फरार चल रहे आरोपियों के खिलाफ इनाम घोषित करने की कार्रवाई की। 26 नवंबर को सीबीआई ने 10 फरार आरोपियों की सूचना देने वालों को 50-50 हजार रुपए के इनाम देने की घोषणा की। 27 नवंबर को सीबीआई ने शहर सहित गांवों के सार्वजनिक स्थानों पर आरोपियों के फोटो-पोस्टर भी चस्पा किए। सीबीआई आरोपियों को पकड़ती, उससे पहले 29 नवंबर को प्रवीण पुत्र बक्साराम जाखड़ ने न्यायलय में समर्पण कर दिया। सोमवार को एक ही दिन में अन्नाराम, चुतराराम घटेला ने न्यायलय में समर्पण कर दिया। इस तरह सीबीआई द्वारा डांगावास हत्याकांड प्रकरण के आरोपियों पर इनाम घोषित कर संपति कुर्क कार्रवाई शुरू की।

अभी भी 7 आरोपी फरार

प्रकरण को लेकर न्यायालय ने 34 आरोपियों को मफरुर घोषित किया गया था। इससे पूर्व 23 आरोपी पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भिजवा दिया है। जबकि पूर्व में भी एक आरोपी रविन्द्र ने न्यायालय में समर्पण किया था। उसके बाद प्रकरण सेे जुड़े 3 और आरोपियों ने इन चार दिन में सरेंडर किया। सीबीआई की गिरफ्त से अभी भी 7 आरोपी दूर है।

पत्रिका में प्रकाशित हुई थी खबर

डांगावास हत्याकांड में इन पौने 5 सालों में जो भी कार्रवाई हुई, उसकी राजस्थान पत्रिका ने 2 दिसंबर को 'अब नौ आरोपियों को पकडऩे के लिए सीबीआई ने जमाया डेरा शीर्षक से प्रकाशित की थी। जिस दिन खबर छपी उसी दिन दो आरोपियों ने न्यायालय में समर्पण किया।

टांके में कूदकर महिला ने की आत्महत्या

लाडनूं. उपखंड के ग्राम निम्बी जोधा के बेरा व मेघवालों की ढाणी के समीप में एक विवाहिता ने टांके में कूदकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली। प्राप्त जानकारी के अनुसार सरोज (30) पत्नी प्रभुराम ने सोमवार शाम को अपने ही घर के टांके में कूदकर आत्महत्या कर ली। सरोज गत दो वर्ष से मानसिक रूप से विक्षिप्त बताई जा रही है जिसका राजकीय चिकित्सालय डीडवाना से उपचार चल रहा था । मृतका के 3 लडकियां है। पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम कर परिजनों को सुपुर्द किया।
वही सांडवा थाना क्षेत्र के उटालन गांव के एक युवक ने कहासुनी के चलते अपने घर पर ही केरोसिन पीकर आत्महत्या करने का प्रयास किया गया जिसे परिजनों द्वारा आनन फानन में उपचार के लिए राजकीय चिकित्सालय लाडनूं भर्ती कराया।

Sandeep Pandey Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned