script410 cases pending in POCSO court, doubling in two and a half years | पोक्सो कोर्ट में 410 मामले लंबित, ढाई साल में दोगुने | Patrika News

पोक्सो कोर्ट में 410 मामले लंबित, ढाई साल में दोगुने

नागौर. आठ साल से भी अधिक पुराने पोक्सो के दो मामलों पर फैसला होना अभी बाकी है। जल्द से जल्द आरोपियों को सजा दिलाने कर कोशिश सिरे से खारिज हो रही है। अकेले मेड़ता पोक्सो कोर्ट में 410 मामले विचाराधीन हैं। इस नए साल के शुरुआती डेढ़ महीने में दस मामलों का निस्तारण तो हुआ, लेकिन सजा सिर्फ एक को ही मिली, वो भी पांच साल का कारावास। मामला करते समय वो नाबालिग था जो सजा मिलते-मिलते बालिग हो गया।

नागौर

Published: February 21, 2022 09:43:47 pm

- -

ग्राउण्ड रिपोर्ट

सूत्रों के अनुसार रोजाना की सुनवाई मुकर्रर की गई। जल्द से जल्द चालान पेश कर गवाह प्रस्तुत करने की तमाम कानूनी-पेचीदगियों को भी कम करने की मुहिम चली। बावजूद इसके कम उम्र की बच्चियों के साथ हैवानियत करने वालों पर सजा का ‘चाबुक’ सुस्ती के साथ धीमा ही पड़ रहा है। अधिकांश मामलों में गवाह पक्षद्रोही होकर आरोपियों को फायदा पहुंचा रहे हैं। जिले में एकमात्र मेड़ता पोक्सो कोर्ट है। बन तो यह वर्ष 2013 में ही गया था पर पूरी तरह अलग होने में पांच साल से भी अधिक का अरसा लग गया। जहां 2013 से जुलाई 2019 तक पेंडिंग मामलों की संया 211 थी जो अगस्त 19 से दिसंबर 21 तक दोगुनी से भी अधिक हो गई। आलम यह है कि पोक्सो कोर्ट मेड़ता में अभी 410 मामले विचाराधीन हैं। सूत्र बताते हैं कि वर्ष 2020 में कुल 135 मामले दर्ज हुए, लेकिन निस्तारण सिर्फ नौ का ही हुआ। कोरोना के चलते कोर्ट संचालित नहीं होने को इसकी वजह माना जा रहा है। वर्ष 2021 में पोक्सो के 144 मामले आए, जिनमें 68 निस्तारित हुए। इनमें भी सजा सिर्फ आठ में ही हुई। बताया जाता है कि वर्ष 2013 ही नहीं, हर साल के कई मामले लंबित चल रहे हैं। करीब पांच महीने पहले पादूकलां में सात साल की बच्ची से दुष्कर्म के बाद हुई हत्या के मामले में मेड़ता पोक्सो कोर्ट जज रेखा राठौड़ ने केवल 11 दिन की सुनवाई में फांसी की सजा सुना दी, यह भी एक नजीर बना। फिर भी हालात ज्यादा अच्छे नहीं हैं। पूरे राज्य में 57 पोक्सो कोर्ट हैं, जिनमें नागौर, सिरोही, प्रतापगढ़़ समेत कुछ जिलों में एक-एक ही है।
कई मामलों में आठ-नौ साल बाद भी फैसले का इंतजार
-इस साल के डेढ़ महीने में दस फैसलों में सजा सिर्फ एक को
क्या कोरोना काल इसका कारण

सूत्रों का कहना है कि पोक्सो के मामले दिन-दूने रात चौगुने बढ़ते जा रहे हैं। वर्ष 2013 से 2019 तक के आंकड़े भी देखे जाएं तो मुकदमों के फैसलों की गति ज्यादा तेज नहीं रही। कई तरह की मुश्किलों के साथ अन्य कारण बताए गए। फिलहाल कोरोना काल के दो साल से भी लंबित मामलों की संया में तेजी से इजाफा हुआ है। हालांकि पुराने मामलों की संया शामिल करते हुए यह आंकड़ा लंबित मामलों का 410 बैठ रहा है। अधिकांश मामलों में राजीनामा होता है, दस-पंद्रह फीसदी में ही फैसला हो रहा है।
इनका कहना है

फिलहाल 410 मामले पोक्सो कोर्ट में विचाराधीन हैं। वर्ष 2013 के दो मामलों पर जल्द फैसला आएगा। गंभीर मामलों को प्राथमिकता दी जाती है। रोजाना सुनवाई होती है। काफी मामलों में गवाह पक्षद्रोही हो जाते हैं, ऐसे जल्द निस्तारित हो रहे हैं। कोरोना महामारी की वजह से लगभग दो साल में कोर्ट का कार्य प्रभावित हुआ, यह भी इसकी एक बड़ी वजह रहा।
सुमेर बेडा, विशिष्ट लोक अभियोजक मेड़ता

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट से मंदिर-मस्जिद के सबूतों का नया अध्याय, एक्सक्लूसिव रिपोर्ट सिर्फ पत्रिका के पास, जानें क्या है इन सर्वे रिपोर्ट में...BOXER Died in Live Match: लाइव मैच में बॉक्सर ने गंवाई जान, देखें वायरल वीडियोBRICS Summit: ब्रिक्स देशों के शिखर सम्मेलन में शामिल हुए भारतीय विदेश मंत्री जयशंकर, उठाया आतंकवाद का मुद्दासीएम मान ने अमित शाह से मुलाकात के बाद कहा-पंजाब में तैनात होंगे 2,000 और सुरक्षाकर्मीIPL 2022, RCB vs GT: Virat Kohli का तूफान, RCB ने जीता मुकाबला, प्लेऑफ की उम्मीदों को लगे पंखVirat Kohli की कप्तानी पर दिग्गज भारतीय क्रिकेटर ने उठाए सवाल, कहा-खिलाड़ियों का समर्थन नहीं कियादिल्ली हाई कोर्ट से AAP सरकार को झटका, डोर स्टेप राशन डिलीवरी योजना पर लगाई रोकसुप्रीम कोर्ट का फैसला: रोड रेज केस में Navjot Singh Sidhu को एक साल जेल की सजा, जानें कांग्रेस नेता ने क्या दी प्रतिक्रिया
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.