scriptA total of five in the FIR, one absconding two are under investigation | एफआईआर में कुल पांच, एक फरार दो की चल रही है जांच | Patrika News

एफआईआर में कुल पांच, एक फरार दो की चल रही है जांच

नागौर. करीब एक महीने पहले हुए जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) कार्यालय के रिश्वत काण्ड में परियोजना अधिकारी (लेखा) रामनिवास कापडी पर भी जांच का शिकंजा गहरा रहा है। रिश्वत लेने के दौरान फरार दलाल पूनाराम अभी तक पकड़ में नहीं आया है। वह डेगाना इलाके का रहने वाला है। डेगाना पुलिस को उसकी तलाश की जिम्मेदारी दे रखी है।

नागौर

Published: April 28, 2022 10:23:09 pm




ग्राउण्ड रिपोर्ट

भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) की पाली टीम ने डिप्टी महिपाल चौधरी की अगुवाई में गत 23 मार्च को नागौर में कार्यवाही कर मुख्य कार्यकारी अधिकारी कार्यालय के कनिष्ठ सहायक सुरेश कुमार नायक (33) को उसके साथी दलाल वीरेंद्र सांगवा के साथ 94 हजार की रिश्वत लेते गिरफ्तार किया था, जबकि एक अन्य दलाल पूनाराम भागने में कामयाब हो गया था। घूस के इस खेल में प्रारंभिक तौर पर सीईओ कार्यालय के एक एक्सईएन समेत अन्य अधिकारी/कर्मचारी भी लपेटे में आए थे। घूसकाण्ड के बाद से एक्सईएन रमजान छुट्टी पर चले गए थे। वे करीब एक पखवाड़े तक अवकाश पर रहे और इसके लिए उन्होंने मेडिकल भी लगाया। बाद में उन्होंने ड्यूटी ज्वॉइन की।
कनिष्ठ सहायक सुरेश कुमार और दलाल वीरेंद्र सांगवा पकड़ में आए पर पूनाराम अब तक फरार
एक्सईएन रमजान के साथ परियोजना अधिकारी (लेखा) तापडिय़ा जांच के घेरे में
एफआईआर में सिर्फ पांच नाम

सूत्र बताते हैं कि घूसकाण्ड उजागर होने के बाद सुरेश कुमार और वीरेंद्र सांगवा को तो न्यायिक अभिरक्षा में भेज दिया गया। पूनाराम फरार था। इस दौरान तैयार हुई एफआईआर में इन तीनों के अलावा एक्सईएन रमजान और परियोजना अधिकार (लेखा) रामनिवास तापडिय़ा का नाम दर्ज किया गया। यानी सीईओ कार्यालय के दो प्रमुख अधिकारियों के नाम इस एफआईआर में दर्ज होने के चलते संदेह इनसे जुड़े कई कर्मचारियों को भी जांच के दायरे में रखा गया था। बाद में मामले के आईओ रूप सिंह चारण सीईओ कार्यालय भी गए और कुछ कागजात लेकर कई कर्मचारियों से पूछताछ की।
एक्सईएन 18 को ही हो गए एपीओ

एक्सईएन रमजान को दरअसल 18 अप्रेल को ही एपीओ कर दिया गया। हालांकि इन पर अभी कोई गड़बड़ी की जांच न तो पूरी हो पाई न ही इनकी कोई संलिप्तता उजागर हुई है। जिला परिषद के सीईओ कार्यालय में तबादले का दौर चल रहा है। एईन दिनेश को चूरू तो महावीर बांगड़ा को नावां स्थानांतरित किया गया है। सहायक सांख्यिकी अधिकारी रामवीर व एक कर्मचारी बंशीलाल का भी तबादला हुआ है। ये सभी तबादले सामान्य हैं।
राज में राज

सूत्रों का कहना है कि सरपंच जो प्रस्ताव भेजते हैं, उनको स्वीकृति देने और बिल पास कराने की सतत प्रक्रिया है। इसमें तकनीक के साथ एकाउंट का पक्ष जांचा/खंगाला जाता है। बताया जाता है कि तापडिया ने जनवरी में ही यहां कार्यभार संभाला है। जिस मामले पर इतना बड़ा हंगामा हुआ वो प्रस्ताव/फाइल 14 मार्च को तापडिय़ा ने ही क्लीयर किया था।
यह है मामला

सूत्रोंके अनुसार हरियाणा निवासी रमेशपाल ने इस संबंध में एसीबी पाली को शिकायत की थी। इस शिकायत में उन्होंने बताया कि गंगानगर निवासी सुरेश नायक हाल में नागौर सीईओ कार्यालय में कनिष्ठ सहायक है। वो नागौर जिले के एक ग्राम पंचायत के विकास कार्य (पानी के टांके व सीसी ब्लॉक ) प्रस्ताव ले रहे थे। इन प्रस्तावों की वित्तीय स्वीकृति दिलवाने के लिए सुरेश कुमार ने दो प्रतिशत के हिसाब से एक लाख 90 हजार की रिश्वत मांगी। पूर्व में इस शिकायत को सत्यापित करा दिया गया। डिप्टी महिपाल चौधरी के नेतृत्व में 23 मार्च को एसीबी टीम नागौर पहुंची। परिवादी ने रिश्वत के लिए सुरेश को बुलाया। मानासर से कलक्ट्रेट कार्यालय नागौर जाने वाली रोड पर जिला परिषद की साइड में सरस बूथ के पास स्कॉर्पियो गाड़ी आई। इसमें सुरेश के साथ दलाल वीरेंद्र सांगवा व पूनाराम बैठे थे। इसी बीच एसीबी टीम ने धावा बोला और सुरेश के साथ वीरेंद्र सांगवा को दबोच लिया, जबकि पूनाराम फरार हो गया।
इनका कहना

सुरेश कुमार और वीरेंद्र सांगवा तो पकड़ में आ गए थे , जबकि पूनाराम अभी भी फरार है। एफआईआर में एक्सईएन रमजान और परियोजना अधिकारी (लेखा) रामनिवास तापडिय़ा का नाम होने से जांच की जा रही है ताकि सत्यता सामने आ सके।
-रूपसिंह चारण, आईओ, एसीबी अजमेर

...........................................................................................................................................................

जनवरी में ही कार्यभार संभाला। मेरा इस तरह की गतिविधियों से कोई लेना-देना नहीं है। एसीबी के डिप्टी महिपाल चौधरी ने प्रस्ताव का प्रोसेस पूछा तो उन्हें सब बता दिया। नाम तो कोई भी लिखा देता है।
-रामनिवास कापड़ी, परियोजना अधिकारी (लेखा) जिला परिषद नागौर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

सीएम Yogi का बड़ा ऐलान, हर परिवार के एक सदस्य को मिलेगी सरकारी नौकरीचंडीमंदिर वेस्टर्न कमांड लाए गए श्योक नदी हादसे में बचे 19 सैनिकआय से अधिक संपत्ति मामले में हरियाणा के पूर्व CM ओमप्रकाश चौटाला को 4 साल की जेल, 50 लाख रुपए जुर्माना31 मई को सत्ता के 8 साल पूरा होने पर पीएम मोदी शिमला में करेंगे रोड शो, किसानों को करेंगे संबोधितराहुल गांधी ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा - 'नेहरू ने लोकतंत्र की जड़ों को किया मजबूत, 8 वर्षों में भाजपा ने किया कमजोर'Renault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चIPL 2022, RR vs RCB Qualifier 2: राजस्थान ने बैंगलोर को 7 विकेट से हराया, दूसरी बार IPL फाइनल में बनाई जगहपूर्व विधायक पीसी जार्ज को बड़ी राहत, हेट स्पीच के मामले में केरल हाईकोर्ट ने इस शर्त पर दी जमानत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.