सुनकर अल्ताफ राजा का कलाम मदमस्त हुए जायरीन

शहर के किले की ढाल स्थित सैय्यद अहमद अली शाह मस्त के उर्स मुबारक पर अल्लाह की इबादत कलाम पेश किए गए

By: Devendra Singh

Published: 12 Nov 2017, 01:21 PM IST

नागौर. शहर के किले की ढाल स्थित सैय्यद अहमद अली शाह मस्त के सौवें उर्स मुबारक मौके पर शनिवार रात अल्लाह की इबादत में एक से बढक़र एक कलाम पेश किए गए। कलाकारों ने खुदा की चौखट चूम कर जब खुदा की शान में कशीदे पढ़े और स्वरों के अलाप लगाए तो जायरीन भी मदमस्त हो गए। गुलाबी सर्द रात में जब कव्वालों ने तबले की थाप और सुरों से लयबद्ध होकर कलाम पेश किए तो सुनने वाले वाह-वाह कर उठे। माकुल व्यवस्थाओं के बीच देर रात तक चले कव्वाली प्रोग्राम में बेहतरीन कलाम पेश कर कव्वालों ने मानों पूरे परिसर को भक्तिरस से लबालब कर दिया।

परिसर में गूंजा अल्लाह-अल्लाह
उर्स मुबारक मौके पर जब बॉलीवुड के गायक अल्ताफ राजा ने अपनी मधुर आवाज में खुदा की रहमों शान में ‘जैसी नीयत वैसी बरकत ये जो अमल अपना लेगा...’ कव्वाली पेश की तो मौजूद जायरीन आनंदित हो गए। इसके बाद राजा ने अटूट भक्ति और विश्वास से भरा कलाम ‘भरदे झोली मेरी या मुहम्मद लौट मैं ना जाऊंगा खाली....’ पेश की तो मानो पूरा परिसर अल्लाह-अल्लाह कर उठा। बॉलीवुड गायक को सुनने बड़ी संख्या में जायरीन मौजूद थे। देर रात तक अपने चहेते कव्वाल को सुनने के लिए लोग बैठे रहे। अल्ताफ के साथ तबले पर ब्रजेश, मो. अशफाक, ढोलक पर सनु, ऑर्गन पर नजीर, मंगेश, हारमोनियम पर इमित्याज ने संगत की। इस मौके पर कयूम खान ने कौरस दिया। जोधपुर से आए कव्वाल शौकत अंदाज ने भी एक से एक उम्दा कलाम पेश किए।

बक्शीश देने की मची होड़
अल्ताफ राजा ने जब कव्वाली शुरू की तो सुनने वालों की मन की मुराद पूरी हो गई। काफी देर से अल्ताफ के इंतजार में बैठे लोग उनके सुरों से बंधे खींचे चले आए और बक्शीश देने उमड़ पड़े।

कव्वाली में बांधा शमां
रात को कव्वाली कार्यक्रम में बॉलीवुड कलाकार अल्ताफ राजा के चाहने वाले दरगाह पहुंचने लगे। दरगाह परिसर के बाबा मैरिज गार्डन में स्टेज बनाया गया। इस दौरान व्यवस्था बनाने के लिए बेरिकेट लगाए गए। कव्वाली कार्यक्रम में पगड़ीबन्द अच्छन मोईन दिलदार, कव्वाल शौकत अन्दाज ने कव्वाली पेश की। नायब सदर सलीम खां भाटी, सह-सचिव सैयद अख्तर अली, खाजिन पन्ने खां मलकाण, सह-खाजिन दिलशाद गौरी, खुरर्शीद अनवर, अल्ताफ हुसैन, जाकिर खां बडग़ुजर, अ.मजीद खिलजी, हाजी मो. सलीम अंसारी, हाजी बरकत खां दरबान, हनीफ खां, मेहबूब खां ठेकेदार, आबिद हुसैन लौहार, मो. इकबाल, मुनीम विनोद बोड़ा ने व्यवस्थाएं संभाली।

Devendra Singh
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned