नागौर. मानासर स्थित पशु मेला मैदान में चल रहे राज्य स्तरीय रामदेव पशु मेला में शुक्रवार को विभिन्न पशु प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया। पशुपालक अपने-अपने पशुओं को लेकर शामिल हुए। शनिवार सुबह पशु प्रतियोगिताओं में प्रथम, द्वितीय व तृतीय स्थान के साथ प्रोत्साहन पुरस्कार वाले पशुपालकों को पशुपालन विभाग की शासन सचिव डॉ. आरुषि मलित व जिला कलक्टर डॉ. जितेन्द्र कुमार सोनी सम्मानित करेंगे।

पशुपालन विभाग के डॉ. शौकत ने बताया कि शुकवार को आयोजित बैल जोड़ी अदंत प्रतियोगिता में प्रथम स्थान पर फिरोजपुरा निवासी ओमप्रकाश डूकिया रहे। द्वितीय स्थान पर गोठड़ा निवासी महेंद्र बंजारा व प्रोत्साहन पुरस्कार मकराना के कुचीपला निवासी बन्नाराम तथा खरनाल निवासी शिवकरण के पशुओं को प्रोत्साहन पुरस्कार के लिए चुना गया।


बैल जोड़ी 2 से 4 दांत : प्रथम स्थान पर गोठड़ा निवासी चंदाराम बंजारा, द्वितीय स्थान बलाया निवासी भगतराम जाट, तृतीय स्थान पर गोठड़ा निवासी नीटुराम बंजारा व प्रोत्साहन पुरस्कार के लिए गोठड़ा निवासी हनुमानराम बंजारा व नराधना निवासी रामदेव जाट के पशुओं को चुना गया।


बैल जोड़ी 6 से 8 दांत : प्रतियोगिता में प्रथम स्थान पर बलाया निवासी बंशीराम जाट, द्वितीय स्थान पर बलाया के ही निंबाराम जाट व प्रोत्साहन पुरस्कार के लिए बलाया निवासी रामकुंमार जाट व हलील निवासी अबरार मुसलमान के पशु को चुना गया।


सांड बछड़ा नागौरी : इस प्रतियोगिता में प्रथम स्थान नराधना निवासी हनुमानराम जाट, द्वितीय स्थान पर खरनाल निवासी मदनराम लुहार व नराधना निवासी अर्जुनराम लुहार, तृतीय स्थान पर राठौड़ी कुआं निवासी सुरेंद्र माली एवं प्रोत्साहन पुरस्कार के लिए नागौर निवासी मनीष बिश्नोई व खरनाल निवासी शिवकरण लोहार के पशु को
चुना गया।


भैंसा मुर्रा नस्ल : प्रथम स्थान डिगानामंडी निवासी शिवकुमार जाट, द्वितीय स्थान पर श्यामपुरा निवासी थानाराम, तृतीय स्थान पर ईनाण निवासी भागाराम इनानियां तथा प्रोत्साहन पुरस्कार के लिए छावटा खुर्द निवासी रामकिशोर जाट को चुना गया।

भैंस मुर्रा नस्ल : प्रथम स्थान मूंडवा के ईनाणा निवासी नारायणराम जाट, द्वितीय स्थान ईनाणा के ही माणकराम जाट व प्रोत्साहन पुरस्कार के लिए ईनाणा के भागाराम व फिड़ौद के रामकैलाश जाट के पशु को चुना गया।
घोड़ी प्रजनन योग्य : प्रतियोगिता में प्रथम स्थान पर रोहिणा निवासी नारायणसिंह राजपूत, द्वितीय स्थान पर डेह निवासी रामनिवास जाट, तृतीय स्थान पर डेगाना निवासी कैलाश जाट व प्रोत्साहन पुरस्कार के लिए बिरलोका निवासी पदमसिंह राजपूत व पंजाब के डॉ. सुशील जाट के पशु को चुना गया।


सांड घोड़ा : इस प्रतियोगिता में प्रथम स्थान पर ललाना खुर्द निवासी नंदूसिंह राजपूत, द्वितीय स्थान पर रोल चंदावता निवासी मोहनसिंह राजपूत व तृतीय स्थान पर ईनाणा निवासी संग्राम इनानियां तथा प्रोत्साहन पुरस्कार के मंडोर निवासी करणीसिंह चारण के पशु को चुना गया।
अश्व वंश (बछरा-बछेरी) : प्रथम स्थान पर डेगाना के कैलाश जाट, द्वितीय स्थान नोखा देसलसर निवासी छोटूसिंह राजपुरोहित, तृतीय स्थान डेगाना के भारली निवासी अर्जुनसिंह राजपूत व प्रोत्साहन पुरस्कार के लिए मेड़ता सिटी के रूपाराम जाट व भारली के तिलोक जाट के पशु को चुना गया।


उष्ट्र वंश (सवारी ऊंट): प्रथम स्थान पर मेहरासी निवासी तिलोकराम सेन व द्वितीय स्थान पर बीकानेर निवासी रफीक मुसलमान रहे।


गाय दुधारू नागौरी : प्रथम स्थान पर चिमरानी निवासी चंद्रपाल मुंडेल, द्वितीय स्थान पर खरनाल निवासी प्रेमसुख जाजड़ा के पशु रहे।

गाय सूखी नागौरी : प्रथम स्थान पर ईनाणा निवासी भागाराम जाट व द्वितीय स्थान पर फिड़ौद निवासी श्रवन जाट के पशु रहे।

नर ऊंट : इस प्रतियोगिता में प्रथम स्थान पर ईनाणा के संग्राम इनानियां, द्वितीय स्थान पर बीकानेर निवासी रफीक खां, तृतीय स्थान पर झुंझुनूं निवासी मुकेश जाट व प्रोत्साहन पुरस्कार के लिए जायल निवासी जयरामदास मेघवाल के पशु को चुना गया।

मादा ऊंट : प्रथम स्थान पर जालियासर निवासी अजीतसिंह राजपूत, द्वितीय स्थान पर मेहरासी निवासी तिलोकराम व तृतीय स्थान पर परबतसर के पीपलाद निवासी मोइनुद्दीन मुसलमान के पशु रहे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned