scriptAs soon as Navratri starts, there is a lot of faith in the temples. | VIDEO...नवरात्र शुरू होते ही मंदिरों में उमड़ी श्रद्धा | Patrika News

VIDEO...नवरात्र शुरू होते ही मंदिरों में उमड़ी श्रद्धा

locationनागौरPublished: Sep 27, 2022 10:25:33 pm

Submitted by:

Sharad Shukla

Nagaur. शुक्ल एवं ब्रह्मा योग के साथ बुधादित्य के संयोग में नवरात्र शुरू
-मां दुर्गा के अर्चन के साथ ही घरों एवं मंदिरों में हुई घट स्थापना
-नौ दिनों तक विभिन्न स्वरूपों में मां अर्चन करने के लिए सजे देवी मंदिर
-देवी मंदिरों में मां के प्रथम स्वरूप शैलपुत्री के दर्शनों के लिए उमड़े श्रद्धालू

Nagaur news
as-soon-as-navratri-starts-there-is-a-lot-of-faith-in-the-temples

नागौर. सोमवार को शुक्ल एवं ब्रह्मा योग के शुभ संयोग के साथ शारदीय नवरात्रि सोमवार से शुरू हो गई। घरों एवं मंदिरों में शुभ मुहूर्त में घट स्थापना वैदिक मंत्रोच्चार के साथ किया गया। पहला दिन होने की वजह से कइयों ने उपवास रखा। मंदिरों में मां दुर्गा के प्रथम स्वरूप शैलपुत्री के रूप में शृंगार किया गया। माता के दर्शनों के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ी। भक्तों ने नारियल, चुनरी एवं प्रसाद का अर्पण कर माता से मनवांछित कामनाएं की। शहर के माही दरवाजा स्थित सुस्वाणी माता मंदिर, खांई की गली स्थित लक्ष्मीमाता मंदिर, बाहेतियों की गली स्थित ब्रह्माणी माता मंदिर, पुलिस लाइन स्थित जोगमाया करणी माता मंदिर में नवरात्र के पहले दिन कलश स्थापना के साथ विविध धार्मिक कार्यक्रम शुरू हुए। देवी मंदिरों में सुबह सात बजे से ही श्रद्धालू माता के दर्शनों के लिए पहुंचने लगे। सुबह दस बजे तक कई मंदिरों में लाइन लगी रही। शहर के खांई की गली स्थित लक्ष्मीमाता मंदिर, बाहेतियों की गली स्थित ब्रह्माणी माता मंदिर, पुलिस लाइन स्थित जोगमाया करणी माता मंदिर में में सुबह 11 बजे तक श्रद्धालुओं की लाइन को व्यवस्थापक सुव्यवस्थित करते नजर आए। इस दौरान मंदिर परिसर में श्रद्धालू दुर्गा सप्तशती पाठ के साथ ही चंडीपाठ आदि करते नजर आए। मंदिर परिसर आस्था के रंग में रंगा रहा। इस दौरान शैलपुत्री के रूप में विविध रंगीय पुष्पों के साथ सफेद रंग के फूलों से किए शृंगार के दर्शनों के लिए श्रद्धालुओं में होड़ लगी रही। शाम को मंदिरों में हुई महाआरती में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ी। देवी मंदिर श्रद्धालुओं से भरे नजर आए। विशेषकर पुलिस लाइन स्थित करणी माता मंदिर में आरती के दौरान परिसर में तिल तक रखने की जगह नजर नहीं आई। इस दौरान मंदिर के आसपास लगी मिष्ठान्न एवं प्रसाद आदि की दुकानों पर लोगों की भीड़ लगी नजर आई।
काली माता की मूर्ति विराजित
शहर के तुलसी चौक में काली माता की मूर्ति वैदिक मंत्रोच्चार के साथ विराजित की गई। इस दौरान घट स्थापना के साथ ही विधि-विधानपूर्वक अर्चन किया गया।

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.