आयुर्वेद है डेंगू, चिकनगुनिया व स्वाइन फ्लू का दुश्मन...!

Nagaur patrika latest news.आयुर्वेद विभाग की ओर से हुई हुई दो दिवसीय कार्यशाला में पहले दिन आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति पर मंथन.Nagaur patrika latest news

By: Sharad Shukla

Published: 27 Nov 2019, 12:37 PM IST

Nagaur patrika latest news.नागौर. राजकीय आयुर्वेद विभाग की ओर से ताऊसर रोड, हाउसिंग बोर्ड स्थित योग एवं प्राकृतिक अनुसंधान केन्द्र में मंगलवार को शुरू हुई दो दिवसीय कार्यशाला में पहले दिन जिले भर के चिकित्सक शामिल हुए।

लाखों टन एकत्रित कचरा हटाने की जगह नया डम्पिंग यार्ड बना दिया...!

इसमें विभागीय उपचारीय गतिविधियों के साथ उपचार पद्धतियों पर गहन मंथन किया गया। इसमें मुख्य अतिथि के तौर पर अजमेर के सहायक निदेशक विष्णुदत्त शर्मा ने चिकित्सकों को बारीकियां समझाई। शर्मा ने पावर प्वाइंट के माध्यम से विभाग के आधारभूत ढांचे की मजबूती एवं सेवाओं के उन्नयन के संदर्भ में बिंदुवत जानकारियां दी। पंचकर्म, क्षारसूत्र, जराजन्य, गर्भिणी, शिशु परिचर्या, किशोरावस्था सहित अन्य समस्याओं के समाधान के साथ मानसिक स्वास्थ्य के संदर्भ में समझाते हुए कहा कि औषधियों पौधों की पहचान होने के साथ इसके लिए आमजन को जागरुक करना चाहिए।

ऐसे ही वादा कर भूल जाती है प्रदेश की सरकार

जीवनशैली जनित रोगों की रोकथाम के लिए भी प्रयास किए जाने चाहिए। उन्होंने कहा कि वर्तमान में कई जटिल बीमारियां ऐसी हैं, जिनका आयुर्वेद में तो सफलतम उपचार है। इसका प्रसार करने के साथ ही इसके संदर्भ में लोगों के प्रति व्याप्त भ्रम को भी दूर कर दृणता के साथ काम करने की जरूरत जताई। उपनिदेशक वासुदेव सिखवाल ने कहा कि वायरस की एलोपैथी में कोई दवा उपलब्ध नहीं है, लेकिन आयुर्वेद के माध्यम से इसका बेहतर उपचार किया जा सकता है।

जिला मुख्यालय से हरिद्वार के लिए 20 सालों से संचालित बस सेवा बंद

डेंगू एवं चिकनगुनिया सरीखे से रोगों के लिए आयुर्वेद एक बेहतर उपचार पद्धति है। यथासमय आयुर्वेद इन बीमारियों पर भी अपनी श्रेष्ठता सिद्ध भी की है। यही वजह है कि अब लोग आयुर्वेद की महत्ता को स्वीकारते हुए इससे जुड़ तो रहे हैं, लेकिन अभी लोगों को और ज्यादा जागरुक करने की जरूरत है।इसके पूर्व भगवान धनवंतरी का पूजन कर कार्यक्रम की शुरूआत हुई। इसमें सहायक निदेशक डॉ.गोपाल शर्मा, डॉ. नरेन्द्र पंवार, डॉ. ओमप्रकाश पूनिया, डॉ. गजेन्द्रसिंह चारण, डॉ. सुरेश रायल, डॉ. कैलाश ताडा, डॉ. केशव शर्मा, डॉ. रामस्वरूप बिश्नोई, डॉ. प्रशांत तिवारी, डॉ. गोविन्द चोयल, डॉ. कैलाश डूडी, डॉ. सज्जन कलवानियां आदि मौजूद थे। Nagaur patrika latest news

चिट्टी जाने के साथ ही अपनापन भी कहीं चला गया...!

Sharad Shukla Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned