अतिव्यस्त मार्गों की बदहाल स्थिति, चलना दूभर हो गया

कई प्रमुख मार्गों पर वाहन तो दूर पैदल निकलना भी मुश्किल , समय पर नहीं हो रही जर्जर सड़कों की मरम्मत

By: Jitesh kumar Rawal

Published: 17 Sep 2020, 05:51 PM IST

नागौर. शहर में सड़कों की स्थिति बदहाल हो रही है। इन पर वाहन चलाना तो दूर पैदल चलना तक दूभर हो रहा है। इनमें वे प्रमुख मार्ग शामिल है, जिन पर प्रतिदिन सैकड़ों वाहनों का आवागमन रहता है। यातायात के लिहाज से अतिव्यस्त मार्गों में शुमार होने के बावजूद इनकी मरम्मत को लेकर जिम्मेदार उदासीन है। अक्सर बारिश के दौरान सड़कें खराब हो जाती है, लेकिन इतनी बारिश ही नहीं हुई कि सड़कों को इस कदर नुकसान पहुंच जाए। बदहाल मार्गों पर चलते हुए वाहनों का मैंटेनेंस तो बढ़ ही रहा है हर समय हादसे का अंदेशा बना रहता है।

बदहाल है कुम्हारी दरवाजा मार्ग
कुम्हारी दरवाजा क्षेत्र में स्थिति बेहद खराब है। दरवाजे में ही पूरी सड़क उखड़ी हुई है, जिससे वाहनों का चलना मुश्किल हो रहा है। वहीं शिवबाड़ी से कुम्हारी दरवाजा वाला मार्ग बुरी तरह से क्षतिग्रस्त है। वाहन इस पर हिचकोले खाते हुए निकलते हैं। दिनभर उड़ती धूल के कारण आसपास के घरों में लोगों का रहना मुश्किल हो रहा है, लेकिन इस सड़क की मरम्मत नहीं हो रही।

बुरी स्थिति में गणेश बावड़ी मार्ग
प्राचीन गणेश बावड़ी मार्ग की स्थिति सबसे ज्यादा खराब कह सकते हैं। यहां काफी हिस्सा वन वे बना हुआ है। सीवरेज लाइन बिछाने के बाद एक साइड की मरम्मत ही नहीं हुई। बीच में डिवाइडर है, लेकिन गड्ढों के कारण वाहन एक ही साइड में आमने-सामने गुजर रहे हैं। वाहनों के निकलने वाली इस साइड में भी सड़क जर्जर हो चुकी है, लेकिन वाहन चालकों की मजबूरी बनी हुई है।

समस्याओं से दो-चार होते वाहन चालक
सुगनसिंह सर्किल मार्ग पर भी यहीं स्थिति बनी हुई है। यहां निजी अस्पताल के बाहर कुछ समय पहले सीवरेज लाइन खोदी गई थी, जिसकी मरम्मत तक नहीं हो पाई। इसी तरह बाट-माप विभाग कार्यालय के बाहर भी सड़क क्षतिग्रस्त है। इन जगहों पर हल्की बारिश में पानी भर जाता है, जिससे स्थिति और बिगड़ जाती है। बदहाल मार्गों से गुजरते हुए वाहन चालक समस्या से दो-चार हो रहे हैं।


Jitesh kumar Rawal
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned