scriptBig words of Khinvsar MLA: Told the Tehsildar 'If I do not give relief | खींवसर विधायक के बड़ेबोल: तहसीलदार को कहा ‘फरियादी को राहत नहीं दी तो मुर्गा बना दूंगा’ | Patrika News

खींवसर विधायक के बड़ेबोल: तहसीलदार को कहा ‘फरियादी को राहत नहीं दी तो मुर्गा बना दूंगा’

खींवसर (nagaur). किसानों के काम नहीं करने पर भाजपा शासन में तत्कालीन सिंचाई मंत्री देवी सिंह भाटी द्वारा तहसीलदार को धूप में खड़ा रखने की घटना के बाद शुक्रवार को एक जमीन विवाद के प्रकरण में कार्यवाही नहीं होने से नाराज खींवसर विधायक नारायण बेनीवाल ने तहसीलदार रूघाराम सेन को मुर्गा बनाने की धमकी दे डाली।

नागौर

Published: December 24, 2021 10:54:58 pm

- एसडीएम ने बताई विधायक व तहसीलदार दोनों की गलती

- जन अभाव अभियोग समिति की बैठक में तहसीलदार व विधायक के बीच तनातनी
- भावण्डा में आवासीय भूमि पर अतिक्रमण का मामला

वाकया उस समय का है जब खींवसर उपखण्ड कार्यालय में जन अभाव अभियोग समिति की बैठक शुरू होनी थी। बैठक में जैसे ही भावण्डा का एक फरियादी पहुंचा तो उसकी जमीन पर कब्जे के विवाद को लेकर कार्यवाही की बात पर विधायक बेनीवाल ने पहले तो नाराजगी जताई, बाद में जब तहसीलदार ने स्वयं की कार्यवाही को सही बताया तो विधायक ने तहसीलदार को मुर्गा बनाने की धमकी दे डाली।
 खींवसर विधायक के बड़ेबोल:  तहसीलदार को कहा ‘फरियादी को राहत नहीं दी तो मुर्गा बना दूंगा’
खींवसर. उपखण्ड कार्यालय में कार्यवाही रजिस्टर में क्रॉस लगाते विधायक व पास बैठी एसडीएम।
इस दौरान विधायक ने आरोप लगाया कि खींवसर में न तो बैठकें आयोजित की जा रही है और न ही फरियादियों को सूचना देकर राहत दी जा रही। उन्होंने आरोप लगाया कि प्रशासन पारदर्शिता रखने के बजाए अपनी कमियों को छुपाने के लिए मीडिया को भी ऐसे आयोजनों से दूर रख रहा है। भावण्डा गांव में रूपान्तरित भूमि पर कब्जे को लेकर बैठक में विधायक नारायण बेनीवाल व तहसीलदार रूघाराम सेन के बीच तनातनी हो गई। घटना के बाद तहसीलदार नाराज होकर बैठक से चले गए। तहसीलदार को वापस बैठक में बुलाने के लिए उपखण्ड अधिकारी जितू कुलहरी ने कई बार फोन किया, लेकिन वे नहीं आए। घटना को लेकर विधायक ने जिला कलक्टर डॉ.जितेंद्र कुमार सोनी और सीएमओ में सचिव अभय कुमार से दूरभाष पर बात कर तहसीलदार के आचरण और व्यवहार की शिकायत करते हुए कार्रवाई की मांग की।
बैठक में नाराज विधायक ने तहसीलदार से कहा कि आप परिवादों पर कार्यवाही करने की जगह जान-बूझकर परिवादियों को परेशान कर रहे हैं। आठ महीने से आपका करवाई रजिस्टर खाली पड़ा है। ऐसा ही चलता रहा तो आपको मुर्गा बनाना पड़ेगा। विधायक की इस बात से नाराज तहसीलदार बैठक से उठकर चले गए। इससे बैठक की कार्यवाही बीच में ही रुक गई।
विधायक ने लगाए रजिस्टर पर क्रॉस

विधायक बेनीवाल ने बैठक के दौरान कार्यवाही रजिस्टर में क्रॉस के निशान लगा दिए। विधायक का आरोप था कि पिछले आठ महीने से कोई कार्यवाही नहीं की गई है। इसलिए उन्होंने खाली कार्यवाही रजिस्टर में क्रॉस लगा दिए हैं। जबकि उपखण्ड अधिकारी जितू कुलहरी का कहना था कि विधायक ने बैठक कार्यवाही विवरण के नीचे क्रॉस लगाए हैं, कार्यवाही का विवरण ऊपर दिया गया है। समिति की बैठकें तय समय पर हुई है। बैठकों में आए प्रकरणों पर उचित कार्यवाही की गई है।
मीडियाकर्मी ही दूर तो कैसी पारदर्शिता

विधायक नारायण बेनीवाल ने कहा कि ऐसी बैठकों में मीडियाकर्मियों को दूर रखा जा रहा है। उनको सूचना तक नहीं दी जाती। खींवसर में होने वाली जन अभाव अभियोग समिति की बैठकों में अधिकारियों द्वारा मीडियाकर्मियों को बुलाया तक नहीं जाता। अगले विधानसभा सत्र में इस मुद्दे को पुरजोर तरीके से उठाया जाएगा तथा ऐसी बैठकों का लाभ 36 कौम के हर गरीब व्यक्ति को मिले इसका पूरा प्रयास किया जाएगा। जिस तरह सांसद हनुमान बेनीवाल ने अपने अधिकारों को लेकर खींवसर की जनता को जागरूक किया, उसी तरह से उनका भी प्रयास रहेगा की वह भी जनता को अधिकाधिक जागरूक करें।
दोनों का आचरण गलत

बैठक में हुई घटना में दोनों का ही आचरण गलत था। विधायक बेनीवाल ने तहसीलदार सेन को मुर्गा बनाने की बात कही। इससे खुद को अपमानित महसूस करते हुए तहसीलदार बैठक से उठकर चले गए। हालांकि बैठक के बीच इस तरह नाराज होकर जाना गलत है। उन्हें वापस बुलाने के लिए मैंने उनको बार-बार फोन लगाया, लेकिन वो नहीं आए, जो नियमों की अवहेलना को दर्शाता है। तहसीलदार के इस व्यवहार पर उनके खिलाफ विभागीय कार्रवाई की जाएगी। वहीं किसी अधिकारी के लिए ऐसे शब्दों का प्रयोग करना जनप्रतिनिधि को शोभा नहीं देता।
- जितू कुलहरी, उपखण्ड अधिकारी, खींवसर

तहसीलदार कर रहे परिवादियों को परेशान

तहसीलदार परिवादियों को परेशान कर रहे हैं। जब मंैने कार्यवाही रजिस्टर देखा तो वह पिछले आठ माह से खाली था। मैंने तहसीलदार से कार्यवाही करने की बात कही तो तहसीलदार बुरा मान गए तथा बैठक से उठकर चले गए। एसडीएम ने तहसीलदार को बुलाने के लिए कई फोन किए। लेकिन वो नहीं आए। मैंने जिला कलक्टर व सीएमओ सचिव से बात कर तहसीलदार के इस व्यवहार की शिकायत की है। अगर अधिकारियों को पाबंद ही नहीं किया जाता है तो ऐसी बैठकों का कोई औचित्य नहीं रह जाता है।
- नारायण बेनीवाल, विधायक, खींवसर

विधायक के शब्दों से क्षुब्ध हूं

समिति की बैठक में आए परिवादी के प्रकरण में कार्यवाही की रिपोर्ट मैंने पहले से ही उपखण्ड अधिकारी को भिजवा दी है। बैठक में विधायक नारायण बेनीवाल ने इस प्रकरण में मुझसे जानकारी चाही तो मैंने प्रकरण की पूरी कार्यवाही उनको पढकऱ सुना दी। इस पर विधायक भडक़ गए तथा मुझे कहा कि तुमने परिवादी की जमीन पर कब्जा करवा दिया तथा ऐसे शब्दों का प्रयोग किया जो एक जनप्रतिनिधि को शोभा नहीं देता। उनके इस व्यवहार से मैं क्षुब्ध हुआ तथा बैठक के बीच में से उठकर आ गया।
रूघाराम सैन, तहसीलदार, खींवसर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Republic Day 2022: 939 वीरों को मिलेंगे गैलेंट्री अवॉर्ड, सबसे ज्यादा मेडल जम्मू-कश्मीर पुलिस कोRepublic Day 2022 LIVE :गणतंत्र दिवस की पूर्व संख्या पर जवानों की बहादुरी को सलाम, ITBP के 18 जवानों को पुलिस सेवा पदकBudget 2022: कोरोना काल में दूसरी बार बजट पेश करेंगी निर्मला सीतारमण, जानिए तारीख और समयशरीयत पर हाईकोर्ट का अहम आदेश, काजी के फैसलों पर कही ये बातUP Assembly Elections 2022 : हेमा, जया, स्मृति और राजबब्बर रिझाएंगें मतदाताओं को, स्टार प्रचारकों की लिस्ट में हैं शामिलUttar Pradesh Assembly Elections 2022: सपा का महा गठबंधन अखिलेश के लिए बड़ी चुनौतीबजट से पहले 1 फरवरी को बुलाई गई विधायक दल की बैठक, यह है अहम कारणRepublic Day 2022 LIVE :गणतंत्र दिवस की पूर्व संख्या पर जवानों की बहादुरी को सलाम, ITBP के 18 जवानों को पुलिस सेवा पदक
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.