मोर्चरी के पास डाल रहे बायो मेडिकल वेस्ट, कोरोना संक्रमण का खतरा बढ़ा

जिला मुख्यालय के जेएलएन राजकीय अस्पताल का कोविड कचरा फैंका जा रहा खुले में
- जिम्मेदार ही हुए लापरवाह, अस्पताल के आसपास कोरोना संक्रमण की आशंका बढ़ी

By: shyam choudhary

Updated: 20 Apr 2021, 10:13 AM IST

नागौर. जिले में एक बार फिर कोरोना वायरस का संक्रमण तेजी से पैर पसार रहा है। पिछले 13 महीने में साढ़े 11 हजार से अधिक लोग संक्रमित हो चुके हैं और 100 से अधिक लोगों की कोरोना महामारी के कारण मौत हो चुकी है। जिला प्रशासन, पुलिस विभाग के साथ चिकित्सा विभाग के डॉक्टर एवं नर्सिंगकर्मी दिन-रात ड्यूटी देकर कोरोना को हराने में जुटे हुए हैं, लेकिन जिला मुख्यालय के जेएलएन राजकीय अस्पताल के जिम्मेदारों की लापरवाही के चलते अस्पताल परिसर में ही संक्रमण का सामान बिखेरा जा रहा है। अस्पताल भवन के पीछे बनी मोर्चरी के पास अस्पताल के वार्डों का बायो मेडिकल वेस्ट खुले में डाला जा रहा है।

चिंता की बात यह है कि अस्पताल के जिम्मेदारों की अनदेखी के कारण कोविड-19 वार्ड से निकलने वाला बायो मेडिकल वेस्ट (कचरा) सफाई कर्मचारी मोर्चरी के पास डाल रहे हैं, जिससे मोर्चरी के पास आने वाले लोगों में संक्रमण फैलने का खतरा बना हुआ है। हालांकि जिम्मेदारों का कहना है कि बायो मेडिकल वेस्ट सम्बन्धित ठेकेदार द्वारा उठाया जा रहा है, लेकिन मौके के हालात बता रहे हैं कि पिछले पिछले काफी दिन से बायो मेडिकल वेस्ट यहीं डाला जा रहा है।

अब तो एक किमी दूर प्लांट, फिर लापरवाही क्यों?
गौरतलब है कि बालवा रोड स्थित सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट के पास करीब 2 करोड़ की लागत से बनाए गए बायोवेस्ट प्लांट में गत वर्ष कचरा निस्तारण का काम शुरू कर दिया था। यह प्लांट जेएलएन अस्पताल से एक किलोमीटर की दूरी पर ही स्थित है, इसके बावजूद जिला मुख्यालय के सरकारी अस्पताल का बायो मेडिकल वेस्ट यदि खुले में फैंका जा रहा है, जिसका कारण समझ से परे है। नागौर में सबसे ज्यादा परेशानी बायो मेडिकल वेस्ट के निस्तारण को लेकर थी, जिसको देखते हुए करीब चार साल पहले नगर परिषद ने बीकानेर की फर्म को 2 करोड़ में बायो मेडिकल वेस्ट का निस्तारण करने के लिए प्लांट बनाने का ठेका दिया था। यह प्लांट गत वर्ष शुरू भी कर दिया गया, इसके बावजूद जाएगा।

पीएमओ को पाबंद करेंगे
अस्पताल का बायो मेडिकल वेस्ट खुले में नहीं फेंके, इसको लेकर अस्पताल के पीएमओ को पाबंद करेंगे। बार-बार कहने के बावजूद अस्पताल परिसर में कचरा डालने वाले कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई करेंगे।
- मनोज कुमार, एडीएम, नागौर

shyam choudhary Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned