scriptफिर भी दिल है राजस्थानी… लंदन की धरती पर राजस्थानी संस्कृति एवं भाषा को दे रहे बढ़ावा | Patrika News
नागौर

फिर भी दिल है राजस्थानी… लंदन की धरती पर राजस्थानी संस्कृति एवं भाषा को दे रहे बढ़ावा

लंदन में रहने वाले राजस्थानी प्रवासियों ने राजस्थान दिवस के बाद मनाया योग दिवस
– अब घूमर कार्यक्रम की तैयारियां शुरू

नागौरJun 25, 2024 / 11:10 am

shyam choudhary

राजस्थान चैरिटेबल ट्रस्ट, यूके
नागौर. राजस्थान चैरिटेबल ट्रस्ट, यूके शिक्षा के क्षेत्र में किए जाने वाले काम को बढ़ावा देने और राजस्थान की संस्कृति एवं भाषा को दुनिया के हर कोने में पहुंचाने की दिशा में काम कर रहा है। इसी उद्देश्य को लेकर आगामी दिनों में होने वाले आयोजन को लेकर लंदन में ट्रस्ट के पदाधिकारियों ने योग दिवस पर न्यूज लेटर जारी किया। न्यूज़ लेटर में हमारा मिशन, दृष्टिकोण, नई उपलब्धियां, स्वयंसेवक टीम में नए सदस्य, हमें समर्थन देने वाले नए व्यक्ति या एजेंसियां, भारत और विदेश में हाल के कार्यक्रम और गतिविधियां और आगामी कार्यक्रम शामिल किए गए। राजस्थानी प्रवासी व ट्रस्ट के पदाधिकारियों ने बताया कि योग का मतलब हर पल खुद को एक बेहतर मनुष्य बनाने का का प्रयास है और यह काम हम करते हैं शिक्षा और जागरूकता के माध्यम से। कार्यक्रम के संयोजक हनवंत सिंह राजपुरोहित बताया कि इस आयोजन के माध्यम से उन्होंने न केवल भारत की संस्कृति के अतुलनीय पहलू योग के माध्यम से स्वास्थ्य और महिला सशक्तीकरण का संदेश दिया, बल्कि शिक्षा के महत्व पर भी जोर दिया। शिक्षा के योग के माध्यम से ही हम समाज में सकारात्मक बदलाव ला सकते हैं और सभी के लिए समान अवसर सुनिश्चित कर सकते हैं।
20 जुलाई को होगा घूमर

ट्रस्ट की मीडिया प्रभारी रचना ढाका एवं क्वींस अवार्ड विजेता श्याम बजाज ने बताया कि 20 जुलाई को लंदन में राजस्थान के लोक नृत्य घूमर का आयोजन होगा। मरू कोकिला व स्वर सम्राज्ञी सीमा मिश्रा अपनी टीम के सदस्य संजय माथुर, हेमंत कुमार डांगी और हनीफ खान के साथ लंदन में घूमर-2024 के अवसर पर अपनी लाइव प्रस्तुतियां देंगी। राजस्थान चैरिटेबल ट्रस्ट, यूके अब लंदन में घूमर के आयोजन की तैयारियों में जोर-शोर से जुट गया है।
इनकी रही सहभागिता

योग दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में सहयोगी संस्थाओं के रूप में ब्रिटिश एसोसिएशन ऑफ राजपूत्स, हरयाणा यूके, जाट परिवार यूके, जाट समाज यूके, महाराणा प्रताप एसोसिएशन यूके, माहेश्वरी यूके महासभा, राजपुरोहित समाज यूके, राजस्थानी रूट्स यूके एवं सट्टन फ्रेंड्स यूके आदि शामिल हुए।
राजस्थानी संस्कृति का संरक्षण और संवर्धन

ट्रस्ट के पदाधिकारियों ने बताया कि हम शिक्षा के साथ-साथ अपनी राजस्थानी संस्कृति को भी संरक्षित और बढ़ावा दे रहे हैं। इसी प्रकार हमारे सभी कार्यक्रम राजस्थानी संस्कृति के इर्द-गिर्द होते हैं, जिनमें होली का त्योहार, घूमर नृत्य की कला शामिल है। हमें अपनी युवा पीढ़ी को संस्कृति और अपनी जड़ों से जोड़े रखने का पूरा प्रयास कर रहे हैं।

Hindi News/ Nagaur / फिर भी दिल है राजस्थानी… लंदन की धरती पर राजस्थानी संस्कृति एवं भाषा को दे रहे बढ़ावा

ट्रेंडिंग वीडियो