रॉयल्टी चोरी करने पर अम्बुजा को चेतना नोटिस जारी

खान एवं भू विज्ञान विभाग अजमेर के अधीक्षण खनि अभियंता ने जारी किए दो नोटिस
- गत दिनों जांच में मिली थी भारी अनियमितता, 60 दिन में दोषों का निराकरण नहीं करने पर हो सकता है खनन पट्टा निरस्त

By: shyam choudhary

Published: 24 Jul 2021, 12:34 PM IST

नागौर. जिले के मूण्डवा कस्बे के पास निर्माणाधीन अम्बुजा सीमेंट कम्पनी द्वारा 3 लाख 115 मैट्रिक टन खनिज का निर्गमन बिना रवन्ना करके 12 करोड़ 36 लाख 47 हजार रुपए की रॉयल्टी चोरी करने सहित विभिन्न अनियमितताएं बरतने पर विभाग ने सीमेंट कम्पनी को दो अलग-अलग चेतना नोटिस जारी किए हैं। खान एवं भू विज्ञान विभाग अजमेर के अधीक्षण खनि अभियंता जय.के. गुरुबक्षाणी द्वारा मूण्डवा तहसील क्षेत्र के ग्राम मूण्डवा क्षेत्र में सीमेंट ग्रेड के लाइमस्टोन खनिज के लिए 6.99 वर्ग किमी में जारी खनन पट्टा व ग्राम खेरवाड़ में 6.35 वर्ग किमी क्षेत्र में जारी खनन पट्टा क्षेत्र में की गई अनियमितताओं को निराकरण 60/75 दिन में नहीं करने पर एमसीआर 2016 के नियमों के अंतर्गत दोनों पट्टों की प्रतिभूति राशि जब्त करते हुए खनन पट्टे को निरस्त करने की चेतावनी दी है।

गौरतलब है कि खनन क्षेत्र में कम्पनी के अधिकारियों द्वारा की गई यह गड़बड़ी गत 12 जुलाई को खान एवं भू विज्ञान विभाग निदेशालय उदयपुर द्वारा करवाई गई जांच में सामने आई थी। निदेशालय द्वारा गठित कमेटी ने जांच के बाद सबमिट की रिपोर्ट में कम्पनी पर 12 करोड़ 36 लाख 47 हजार रुपए का जुर्माना लगाया था।

ये भी मिली थी अनियमितताएं

  • कमेटी की रिपोर्ट के अनुसार खनन पट्टाधारी अम्बुजा सीमेंट कम्पनी द्वारा उप ग्रेड खनिज का उपयोग क्रेशर की रेम्प बनाने एवं खनन पट्टा क्षेत्र में विभिन्न रास्ते एवं उनके डिविडर्स (परकार) बनाने में किया गया है, जबकि एमसीआर के नियम 12(1)6) के अनुसार भविष्य में लाभकारी के लिए उप ग्रेड व गैर बिक्री योग्य को व्यवस्थित रूप से रखा जाना आवश्यक था। खनन पट्टा धारी द्वारा खनिज का दुरुपयोग किया जाना एमसीआर के नियम 12(1) एवं 37 तथा 18 जनवरी 2007 को जारी पर्यावरण स्वीकृति की विशेष शर्त का भी उल्लंघन है।
  • खनन पट्टाधारी द्वारा खनन पट्टा क्षेत्रों के कौनों एवं मध्य स्तम्भ एमसीआर-2016 के नियम 12(1)(अ) के अनुसार निर्धारित नाप के स्थापित नहीं किए हैं।
  • खनन पट्टाधारी द्वारा खनन पट्टा संख्या 3/87 स्थित पिट संख्या 2 में एमएमआर-2019 की धारा 116(4) के प्रावधान अनुसार बेंच नहीं बनाई गई हैं, जो की खनन पट्टाधारी द्वारा प्रस्तुत खनन प्लान का भी उल्लघन है।
  • दोनों खनन पट्टा क्षेत्रों में प्रावधान अनुसार पर्याप्त मात्रा में पौधरोपण नहीं किया गया है। पर्यावरण स्वीकृति की विशेष शर्त का उल्लंघन है, जिसमें एक हजार पौधे प्रति हैक्टेयर का ग्रीन बेल्ट विकसित किया जाने का प्रावधान है।
  • खनन पट्टेधारी द्वारा 300115 मैट्रिक टन खनिज का निर्गमन बिना रवन्ना के किया गया है, जो एमएमआरडी एक्ट की धारा 21(5) का उल्लंघन है तथा इस खनिज की कीमत राशि 1236.47 लाख खनन पट्टाधारी से वसूली योग्य है।
shyam choudhary Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned